छपरा में नेहा की मौत मामले में आया नया मोड़, मां ने कहा...

छपरा में नेहा की मौत मामले में आया नया मोड़, मां ने कहा...

शहर के पुरानी गुड़हट्टी मोहल्ला निवासी रोहित चांदगोठिया की पत्नी नेहा चांदगोठिया की सोमवार की सुबह हुई मौत के मामले में अब नया मोड़ आ गया है । पहले बताया गया कि नेहा की मौत छत से गिर कर गंभीर रूप से घायल होने की वजह से हो गई। लेकिन सोमवार को ही देर रात वाराणसी से छपरा पहुंचे नेहा के मायके वालों ने इसे दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर हत्या करने का मामला बताया।

 2019 में हुई थी शादी

वाराणसी जिले के लक्सा थाना क्षेत्र अंतर्गत लहोरी टोला ज्ञानेश्वर भवन निवासी नेहा की मां स्व राजकुमार जालुका की पत्नी माया जालुका की शिकायत पर नगर थाना में दहेज के लिए हत्या की प्राथमिकी दर्ज की गई। नगर थाना पुलिस को दिए शिकायती आवेदन में नेहा की मां माया जालुका ने बताया है कि 2 वर्ष पहले 12 दिसंबर, 2019 को नेहा की शादी छपरा पुरानी गुड़हट्टी निवासी  बालकृष्ण चांदगोठिया के पुत्र रोहित चांदगोठिया के साथ हुई। शादी के बाद से ही नेहा के पति रोहित एवं ससुराल वाले दहेज में रुपये की मांग करने लगे। मैं गरीब विधवा उनकी मांग पूरी करने में असमर्थ थी।


मेरी बेटी की हत्या की गई

इससे आक्रोशित होकर रोहित चांदगोठिया एवं उसके परिवार वाले नेहा के साथ अक्सर मारपीट किया करते थे। नेहा इसकी जानकारी फोन पर देती थी। मारपीट की वजह से दो बार उसका गर्भपात भी हुआ। 13 सितंबर की सुबह 9:00 बजे नेहा ने फोन किया । वह काफी घबराई हुई लग रही थी और रोते हुए उसने कहा कि मम्मी हमें यहां से ले चलो । फिर 10:45 बजे दामाद रोहित ने फोन कर बताया कि आपकी बेटी की मौत हो गई है। मृतका की मां ने दहेज के लिए हत्या का आरोप लगाते हुए मामले की जांच करने का आग्रह किया है। माया जालुका की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज कर नगर थाना पुलिस घटना की तहकीकात कर रही है। 


हल्द्वानी में अघोषित बिजली कटौती से लोग परेशान, कॉल तक रिसीव नहीं करते अधिकारी

हल्द्वानी में अघोषित बिजली कटौती से लोग परेशान, कॉल तक रिसीव नहीं करते अधिकारी

शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की समस्या आम हो चुकी है। दिन में चार से पांच घंटे तक बिजली अघोषित कटौती ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। बिजली नहीं होने पर कई छोटे व बड़े कारोबार भी प्रभावित हो रहे हैं। लोगों को गुस्सा तब आता है जब अफसरों के कॉल रिसीव तक नहीं होते।

हल्द्वानी के शहर और ग्रामीण इलाकों में पिछले दो माह से बिजली की कटौती की जा रही है। बिजली नहीं होने पर घरों में काम तो प्रभावित हो ही रहे हैं, वहीं पानी के लिए भी लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है। पानी की मोटर और नलकूप शोपिस बन रहे हैं। लोगों का कहना है कि गर्मी आने से पहले ऊर्जा निगम के अधिकारी लौपिंग चौपिंग के नाम पर घंटों रोस्टिंग करते हैं। इसके बावजूद गर्मी आने पर फिर अघोषित कटौती की जाती है। अधिकारियों को बिजली नहीं आने पर कॉल किया जाता है तो वह रिसीव नहीं किया जाता।

लोगों का कहना है कि चुनाव आने से पहले कांग्रेस, भाजपा व आम आदमी पार्टी प्रदेश को 300 यूनिट मुफ्ट बिजली देनी की बात कर रहे हैं। लेकिन अभी हो रही बिजली कटौती को लेकर कोई पार्टी सुध नहीं ले रही है। इधर, ऊर्जा निगम के अधिशासी अभियंता दीनदयाल पांगती का कहना है कि लाइन में फॉल्ट होने पर बिजली चली जाती है। बिजली को 24 घंटे सुचारू रखने के प्रयास किए जा रहे हैं।