दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता टेक हब कैसे बना बेंगलुरु, लंदन से ज्यादा पैसा लगा रही हैं कंपनियां

दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता टेक हब कैसे बना बेंगलुरु, लंदन से ज्यादा पैसा लगा रही हैं कंपनियां

बेंगलुरु दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता टेक हब बन गया है। इसने लंदन, म्यूनिख, बर्लिन और पेरिस को पछाड़ दिया है। ये रिसर्च लंदन की एजेंसी Dealroom.co ने की है। रिपोर्ट के मुताबिक बेंगलुरु पर कंपनियां दिल खोलकर पैसा लगा रही हैं। सिर्फ पांच सालों में बेंगलुरु में निवेश पांच गुना से ज्यादा बढ़ गया। जबकि लंदन में महज तीन गुना ही बढ़ा।

बीते छह सालों में बेंगलुरु में 31 अरब डॉलर की स्टार्ट-अप फंडिंग हुई, 2115 स्टार्टअप की डील हुईं, कुल 1152 फंडेड स्टार्टअप्स हैं, 17 स्टार्टअप यूनिकॉर्न और 18 स्टार्टअप सूनिकॉर्न हैं। यूनिकॉर्न ऐसी कंपनियां हैं जिनकी मार्केट वैल्यू एक अरब डॉलर से ज्यादा है। सूनिकॉर्न ऐसी कंपनियां हैं जो 2022 तक यूनिकॉर्न बन सकती हैं। अब सवाल ये है कि ऐसा हुआ कैसे?

1970 के दशक में टेक सिटी बनने की ओर बढ़ गया था बेंगलुरु, इन्फोसिस ने की काया पलट
बेंगलुरु के टेक हब बनने की शुरुआत 1970 के दशक में हुई। तब कर्नाटक स्टेट इलेक्ट्रॉनिक्स विकास निगम के पहले अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक आरके बालिगा ने साउथ बेंगलुरु में 335 एकड़ जमीन पर इलेक्ट्रॉनिक सिटी बसाने की कल्पना की। आज यहां बेंगलुरु का सबसे बड़ा IT हब है।

1983 में इन्फोसिस पुणे से बेंगलुरु आई। इसने बेंगलुरु शहर को बदल दिया। आज टाटा कंसल्टेंसी के बाद ये भारत की दूसरी सबसे बड़ी IT कंपनी है। इसके बाद 2013 में विप्रो बेंगलुरु आई और 2015 में कंपनी का मुनाफा 7.1 अरब डॉलर हो गया।

2017 की एक रिपोर्ट के अनुसार बेंगलुरु में 67 हजार IT कंपनियां खुल चुकी हैं। इसमें से 12 हजार कंपनियां अब भी काम कर रही हैं। अकेले बेंगलुरु में भारत के 35% IT प्रोफेशनल रहते हैं। यानी वहां की 84 लाख आबादी में 25 लाख लोग केवल IT सेक्टर में नौकरियां करते हैं।

अमेजन की वेंडर कंपनी के HR डिपार्टमेंट में काम करने वाले धर्मेंद्र दुबे कहते हैं, 'मैं गोरखपुर, यूपी के जिस इलाके से आता हूं, वहां 2005 में 10-20 गांवों में कोई एक व्यक्ति बेंगलुरु में नौकरी करता था, लेकिन अब यह आलम है कि हर घर से कोई न कोई बेंगलुरु में नौकरी कर रहा है।'

बेहद आसानी से मिलता है टेक टैंलेंट
बेंगलुरु में IIT, IIM, IIS, NCBS, NID, NIFT जैसे इंस्टीट्यूट्स हैं। बेंगलुरु के टेक हब बनने के पीछे सबसे बड़ी वजह यही है। बेंगलुरु इनोवेशन रिपोर्ट 2019 के अनुसार यहां दिल्ली से पांच गुना और मुंबई से करीब दो गुना ज्यादा इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट्स हैं।

बेंगलुरु के इंस्टीट्यूट फॉर सोशल एंड इकॉनमिक चेंज के पूर्व निदेशक डॉ. आरएस देशपांडे कहते हैं, 'यहां आसानी से स्किल्ड टेक टैलेंट मिल जाता है। इन्फोसिस और विप्रो ने इस बात को साबित कर दिया। इन्फोसिस कंपनी को बनाने वाले नंदन निलेकणी, सुधा मूर्ति और नारायण मूर्ति सभी बेंगलुरु के थे। इन्होंने जो कारनामा किया, उससे आकर्षित होकर बाकी टेक कंपनियां भी बेंगलुरु आने लगीं। उनके लिए यहां के इंस्टीट्यूट्स ने पहले से ही तैयारी कर रखी थी।'

ई-कॉमर्स, आईटी और रिसर्च एंड डेवलेपमेंट कंपनियों ने पहुंचाया टॉप पर
बेंगलुरु को टेक हब बनाने में दूसरी सबसे अहम भूमिका ई-कॉमर्स कंपनियों की है। कुल फंडिंग में ई-कॉमर्स स्टार्ट-अप का हिस्सा 30.8% है।

अमेजन की वेंडर कंपनी B&B ट्रिपलवॉल कंटेनर्स लिमिटेड के चेयरमैन मनीष गुप्ता कहते हैं, 'यहां जमीन, बिजली, लेबर सब बहुत महंगा है। लेकिन ई-कॉमर्स, टेक और आईटी कंपनियों के लिए ये बड़ा मसला नहीं है, क्योंकि इनमें से ज्यादातर के ऑफिस किराए पर होते हैं। इनके लिए बड़ा खर्च कर्मचारियों को सैलरी देना होता है। लेकिन मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए यहां टिकना आसान नहीं रह गया है। लेकिन यहीं पर ई-कॉमर्स, आईटी और रिसर्च एंड डेवलपमेंट से जुड़ी कंपनियां अभी और तेजी से आगे बढ़ती रहेंगी।'

12 महीने सुनहरा मौसम, 34 डिग्री से ज्यादा तापमान नहीं चढ़ता
बेंगलुरु का औसत अधिकतम तापमान 30 डिग्री और न्यूनतम 10.6 डिग्री सेल्सियस होता है। 2020 में यहां का सबसे ज्यादा तापमान 33.6 डिग्री था तो सबसे कम 5.8 डिग्री। डॉ. आरएस देशपांडे कहते हैं, 'बेंगलुरु के अच्छे मौसम और साफ-सुथरे शहर ने लोगों को यहीं बस जाने के लिए आकर्षित किया। बीते कुछ सालों में लाइफस्टाइल को भी लोगों ने तरजीह देनी शुरू की है। इसलिए स्टार्ट-अप के लिए अब ये जगह पहली पसंद हो गई है।'

बेंगलुरु में ही पले-बढ़े मनीष गुप्ता अपने बचपन को भी याद करते हैं। वे कहते हैं, 'जब 1970 के दशक में 7 की उम्र में मैं यहां आया तब घरों में पंखे नहीं हुआ करते थे। बेंगलुरु का मौसम बहुत अच्छा रहता था और इसे गार्डन सिटी ऑफ इंडिया कहा जाता था।'

अभी 15 सालों तक बनी रहेगी बेंगलुरु की रफ्तार
2020 में हुए कुल 924 स्टार्टअप कंपनियों के विलय और अधिग्रहण में 333 डील केवल बेंगलुरु में हुईं। ये रफ्तार अभी थमने वाली नहीं। एक रिपोर्ट की मुताबिक 2035 तक बेंगलुरु की GDP 8.5% की औसत दर से बढ़ेगी।

अमेजन की वेंडर कंपनी के चेयरमैन मनीष गुप्ता कहते हैं, 'ई-कॉमर्स, आईटी और रिसर्च एंड डेवलपमेंट से जुड़ी कंपनियां अभी और तेजी से आगे बढ़ती रहेंगी।'

बेंगलुरु के सिलिकॉन वैली बनने से स्थानीय लोगों पर पड़े असर के बारे में डॉ. देशपांडे कायप्पा की कहानी सुनाते हैं, 'मैं बेंगलुरु के जिस नगरभावी इलाके में रहता हूं, कभी वहां के पंचायत प्रमुख कायप्पा नाम के शख्स थे। उनके पास यहां चार से पांच एकड़ जमीन थी। जिससे उनकी मुश्किल से कुछ हजार रुपये की कमाई होती थी। बाद में उनके सबसे बड़े बेटे ने यह खेती योग्य भूमि, रिहायशी जमीन के तौर पर रजिस्टर करा ली और इस पर अपार्टमेंट बन गए। अब वो करोड़ों के आदमी बन गए हैं।'

 


Oppo के फोन पर बंपर डिस्काउंट, Amazon पर जबर्दस्त Sale

Oppo के फोन पर बंपर डिस्काउंट, Amazon पर जबर्दस्त Sale

नई दिल्ली: अगर आप अच्छा व बेहतरीन फीचर के साथ मोबाइल लेना चाहते हैं तो Oppo ब्रांड का स्मार्टफोन ले सकते हैं। ऑनलाइन साइट Amazon पर Oppo Sale चल रही है। सेल की वजह से बहुत से स्मार्टफोन्स को कम रेट में लिया जा सकता है। तो आइए जानते हैं सेल में कौन-कौन से हैंडसेट को कम रेट में खरीदने का मौका मिल सकता है।

Oppo F17:
Oppo F17 स्मार्टफोन के 8GB रैम 128GB स्टोरेज वेरिएंट को आप 18,490 रुपये व 6GB रैम और 128GB स्टोरेज वेरिएंट 16,990 रुपये में खरीद सकते हैं। साथ ही फोन की खरीद पर 12,400 रुपये का एक्सचेंज ऑफर दिया जा रहा है।

Oppo A5S:
Oppo A5S स्मार्टफोन के 3 GB रैम और 32GB स्टोरेज वेरिएंट डिस्काउंट के बाद 8,990 रुपये में खरीद सकते है। आपको बता दें कि इस फोन पर पूरे 5 हजार रुपये की बचत होगी।

Oppo A15:
Oppo A15 पर काफी अच्छी डील दी जा रही है। जानकारी के मुताबिक Oppo A15 (3GB+32GB) को 9,990 रुपये में खरीदा जा सकता है।

Oppo A52:
Oppo A52 स्मार्टफोन का 6 GB रैम और 128GB स्टोरेज वेरिएंट डिस्काउंट के बाद 14,990 रुपये में ख़रीदा जा रहा है। इस मोबाइल पर 5 हजार रुपये की बचत होगी।


वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे और टी20 सीरीज के लिए श्रीलंकाई टीम का ऐलान       अब ऑनलाइन युवाओं को बल्लेबाजी के गुण सिखाएंगे सचिन तेंदुलकर       रॉबिन उथप्पा ने ठोका शतक और केरल ने उड़ीसा को इतने रन से हराया       IPL में अब तक खिलाड़ियों की सैलरी पर खर्च हुए हैं 6144 करोड़ रुपये       T20 विश्व कप में 20 खिलाड़ियों को क्यों उतारना चाहती है न्यूजीलैंड की टीम       पेट्रोल-डीजल ने रुलाया, साइकिल से ऑफिस पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा       बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम       पुडुचेरी: कांग्रेस के हाथ से निकली एक और राज्य की सत्ता       महाराष्ट्र में हालात खराब, दूसरे राज्यों का क्या होगा       यात्रियों के छूटे पसीने, ट्रेन पार कर गई पूरा प्लेटफॉर्म, स्टेशन पर खड़े रहे गए सभी       घर में मच्छर भगाने के लिए नहीं है कॉइल या मॉस्कीटो लिक्विड, तो...       बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय       पुश-अप कैसे करें और एक दिन में कितने पुश-अप्स करने चाहिए       बासी रोटी भी आपको बना सकती है सेहतमंद       इस तरह दूर करें अपनी स्किन की परेशानियां       गर्मियों में शरीर से निकलता है ज्यादा पसीना तो अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे       महिलाएं नहाते समय करती हैं ऐसी गलतियाँ, पहुंचाती है नुकसान       महिलाएं अपने गोर गालों को उभारने के लिए करें ये देसी उपाय       अमेरिका के टॉप स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के तीन और लक्षण बताए हैं, जानें       गर्मियों के मौसम में बेहद फायदेमंद है चीकू का सेवन