देश के प्रसिद्ध जादूगर सम्राट शंकर की ज़िंदगी पर बनेगी फिल्म, दिखाई जाएगी जादुई खेल की हकीक़त

देश के प्रसिद्ध जादूगर सम्राट शंकर की ज़िंदगी पर बनेगी फिल्म, दिखाई जाएगी जादुई खेल की हकीक़त

भारतीय सिनेमा में जादू को लेकर अब धीरे-धीरे लोगों की दिलचस्पी बढ़ रही है। जादू को लेकर मूक सिनेमा से अब तक करीब 50 फिल्में बन चुकी हैं। जिनमें अमिताभ बच्चन को लेकर बनी प्रकाश मेहरा की फिल्म ‘जादूगर’ भी है। लेकिन अब पहली बार किसी जादूगर की ज़िंदगी और जादुई खेल की हकीकत को लेकर एक फिल्म बनने जा रही है। वो फेमस जादूगर हैं सम्राट शंकर और इस फिल्म का नाम है ‘जादू मेरी नज़र’।

विभिन्न भारतीय और अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह के लिए बन रही यह फिल्म एक डोक्यू-ड्रामा होगी। जो देश विदेश में पिछले 45 सालों में करीब 25 हज़ार शो कर चुके जादूगर सम्राट शंकर की ज़िंदगी और अब तक की यात्रा और उनके जादुई शो भी दिखाएगी। सम्राट शंकर जहां देश के नंबर वन जादूगर के रूप में जाने जाते हैं, वहां वह अब तक 18 हज़ार चैरिटी शो देश में आई कई आपदाओं की सहायता कर चुके हैं।

फिल्म ‘जादू मेरी नज़र’ का निर्माण हरीराज फिल्म्स के बैनर से होगा। जबकि फिल्म का निर्देशन वरिष्ठ पत्रकार और सुप्रसिद्द फिल्म समीक्षक प्रदीप सरदाना करेंगे। प्रदीप सरदाना कई बरस पहले जादूगर शंकर पर दूरदर्शन के साथ मिलकर 10 एपिसोड का एक सीरियल भी बना चुके हैं। पिछले साल जनवरी में भी डीडी नेशनल और आकाशवाणी दिल्ली ने सम्राट शंकर को लेकर विशेष कार्यक्रम भी प्रसारित किए थे। इधर कोरोना काल में भी

फिल्म की शूटिंग दिल्ली, मुंबई के साथ सम्राट शंकर की जन्म भूमि हरियाणा के एलनाबाद और राजस्थान के श्रीकरणपुर में भी होगी। सम्राट शंकर देश के ऐसे जादूगर हैं जिनके शो विभिन्न राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के साथ कई केन्द्रीय मंत्री, राज्यपाल और मुख्यमंत्री सहित कई फिल्म सितारे भी देख चुके हैं। शंकर कहते हैं ‘मुझ पर और जादुई कला को लेकर फिल्म बनना खुशी की बात है। मैं हमेशा कहता रहा हूं कि जादू कोई तंत्र मंत्र का खेल नहीं है। यह एक कला है, जिसे हाथ की सफाई और कुछ यंत्रों की सहायता से किया जाता है। जबकि बरसों से लोगों में यह भ्रम है कि यह कोई तांत्रिक विद्या है। लोगों के इस अंधविश्वाश को दूर करने और अपनी इस विरासत को सभी को सौंपने के लिए, मैंने हाल ही में एक ऐसा ‘मैजिक बॉक्स’ भी बनाया है, जिससे कोई भी जादूगर बन सकता है। अपनी इस फिल्म के माध्यम से भी मैं यही संदेश देने की कोशिश करूंगा कि जादू सिर्फ एक कला है, इसे काला जादू या जादू-टोना कहना एक दुष्प्रचार है’।


IFFI 2020: 51वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का हुआ आगाज, इस बार ये है खास

IFFI 2020: 51वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का हुआ आगाज, इस बार ये है खास

नई दिल्ली। गोवा में होने वाले भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) का आगाज हो चुका है। यह 51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव है। इस बार फिल्म महोत्सव का आयोजन गोवा के पणजी में डॉ. श्यामप्रसाद मुखर्जी स्टेडियम में किया गया है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव 16 जनवरी से 24 जनवरी तक चालू रहेगा।

इस बार दुनियाभर से 224 फिल्मों को इस महोत्सव में शामिल किया गया है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के आयोजन में हिस्सा लेने के लिए सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर गोवा पहुंचें। उन्होंने कला और संस्कृति की दृष्टि से इस आयोजन को बहुत महत्वपूर्ण बताया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पहले की तुलना में इस बार भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव पहले से खास है। कोविड-19 की वजह से पहली बार हाईब्रिड आयोजन हो रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि फिल्मोत्सव के हाईब्रिड होने की वजह से लोग इसे ऑनलाइन भी देख सकते हैं। फिल्म महोत्सव में सभी तरह की फिल्मों का प्रदर्शन होगा। साथ ही दूरदर्शन और अन्य चैनल सहित सोशल मीडिया के कई प्लेटफॉर्म पर प्रसारण किया जाएगा। इतना ही नहीं प्रकाश जावडेकर ने कहा कि थियेटर में कोविड-19 के प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन होगा। यह कला और संस्कृति की दृष्टि से महत्वपूर्ण 51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव है। हर बार 16 नवंबर से 24 नवंबर तक इसका आयोजन होता है, लेकिन कोविड के कारण इसे स्थगित कर इस बार जनवरी में किया है।

वहीं गौरतलब है कि 51वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव ने इस बार के 'कंट्री इन फोकस' खंड के तौर पर पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश को चुना है। 'कंट्री इन फोकस' संबंधित देश की सिनेमाई उत्कृष्टता और योगदान को मान्यता देता है। आपको बता दें कि भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव एशिया के सबसे खास फिल्म समारोहों में से एक है। इसकी शुरूआत साल 1952 में की गई थी। यह महोत्सव हर साल गोवा में होता है।

इस महोत्सव का मकसद सारी दुनिया के सिनेमा के लिए एक समान मंच मुहैया करवाना है। इस महोत्सव का संचालन सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत और गोवा सरकार के सहयोग से किया जाता है। भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के द्वारा दुनियाभर के सिनेमा को अपनी फिल्म कला का प्रदर्शन करने के लिए प्लेटफार्म मिलता है।


चीन की कुटिल वैक्‍सीन डिप्‍लोमेसी के खिलाफ भारत ने खींची लंबी रेखा       एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर ईयू की आपत्ती, रूस से जल्द रिहा करने की अपील       महाराष्ट्र, हरियाणा में मुर्गियों को मारने का सिलसिला जारी       सूरत से कोलकाता जा रहा इंडिगो विमान का भोपाल में इमरजेंसी लैंडिंग       कानून रद करने के अलावा विकल्प बताएं किसान संगठन, 10वें दौर की वार्ता 19 को : कृषि मंत्री       केंद्र सरकार ने बदली रणनीति, अब हर राज्य के लिए कोविड टीकाकरण के दिन तय, जानें       कोविड वैक्‍सीन के हल्‍के दुष्‍प्रभावों को लेकर डरने की जरूरत नहीं, जानें       वृष राशि के जातक को नौकरी में मिलेंगे नए अवसर, जानें आज का राशिफल       20 हजार से भी कम कीमत में मिल रही ये स्मार्ट TV, जानें फीचर्स       सर्दियों में खूब खाएं अमरूद, बढ़ेगी रोग-प्रतिरोधक क्षमता       शेन वॉर्न ने ऋषभ पंत का उड़ाया मजाक       Bigg Boss 14: दर्दनाक हादसे में टैलेंट मैनेजर की मौत       चीन ने यहां चुपके से बना दी कई KM लंबी नई सड़क, भारत के लिए खतरे की घंटी       राज्यों में बरसेगा कहर, और बढ़ेगी ठंड चलेगी बर्फीली हवा       कांग्रेस ने वैक्सीन धंधे पर सरकार को घेरा, बेल्जियम को सस्ती तो भारत में महंगी क्यों?       CBI का बड़ा एक्शन, रेलवे में भ्रष्टाचार का खुलासा!       वैक्सीन पर आखिर क्यों हो रहा है विवाद, जानें       कर्नाटक में गरजे अमित शाह, वैक्सीन पर कांग्रेस को घेरा       झारखंड सरकार का सिर दर्द बने पारा शिक्षक       अब fastag को whatsapp से करें ऑर्डर, जानें