'द कपिल शर्मा शो' की अर्चना पूरन सिंह ने कही यह चौका देने वाली बात, जाने

'द कपिल शर्मा शो' की अर्चना पूरन सिंह ने कही यह चौका देने वाली बात, जाने

'द कपिल शर्मा शो' ( the kapil sharma show ) में जज की कुर्सी पर बैठ लोगों को अपनी हंसी से हंसाने वाली अर्चना पूरन सिंह ( archana puran singh ) ने हाल ही पत्रिका एंटरटेनमेंट से खास वार्ता की. 

इस दौरान उन्होंने अपने कॅरियर व 'द कपिल शर्मा' शो व व्यक्तिगत जीवन के कई दिलचस्प किस्सें शेयर किए. एक्ट्रेस बताती हैं कि एक वक्त था जब रोटी कमाने के लिए कॅामेडी को आजमाया, पर कभी सोचा नहीं था वही मेरा कॅरियर बन जाएगा. लोगों को मेरी कॅामेडी इतनी पसंद आएगी. अब कॅामेडी मेरी जीवन बन गई है.

'द कपिल शर्मा शो' का भाग बनना सौभाग्य की बात

शो में एंट्री को लेकर अर्चना बताती हैं कि मेरी एंट्री 'द कपिल शर्मा शो' में बेहद अनोखी थी. जीवन में मैंने कभी किसी को रिप्लेस नहीं किया. कॅामेडी सर्कस में कार्य करने के दौरान भी आसपास के लोग बदलते गए, लेकिन मैं हमेशा शो में टिकी रही. मुझे कभी लगा नहीं था कि मैं कपिल शर्मा शो का इस शो का भाग रहूंगी. पहले तो मैं शो में केवल एक दो एपिसोड करने गई थी. लेकिन देखते ही देखते इसका भाग बन गई. मैं कपिल से कहती थी कि यह तेरा शो है. लेकिन एक वक्त बाद कपिल ने मुझे बोला कि मैम ये आपका भी शो है अब. तो मुझे पता ही नहीं चला कि मैं कब इस शो से जुड़ गई. आज के दौर में 35 वर्ष की आयु में जहां हिरोइनों को कार्य मिलने में इतनी दिक्कतें आती हैं. वहीं मुझे इतना बेहतर कार्य मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है. जब इस शो के एपिसोड्स करने को मिले तब मुझे एक फिल्म ऑफर हुई थी. लेकिन शेड्यूल न मिलने के कारण मैंने वो फिल्म छोड़ दी. अब इस शो से मैं बहुत अटैच हो चुकी हूं.

कपिल में हुनर की कमी नहीं

कई बार शो के दौरान कपिल उनके साथ मस्ती करते हैं, उनकी टांग खीचते हैं. उस मचाक को अर्चना कैसे लेती हैं, इस सवाल पर एक्ट्रेस ने बताया, 'मेरा जो बड़ा बेटा है वो हमेशा मेरी टांग खीचता है. लेकिन उसकी बदमाशी में प्यार छुपा है. जैसे कृष्ण जी अपनी मां को परेशान करते थे बिल्कुल वैसा मेरा बेटा है. बिल्कुल उसी तरह मेरे लिए कपिल हैं. हमारे बीच मां- बेटे का रिश्ता न हो, लेकिन वो हमेशा उसी तरह मेरा सम्मान करते हैं. कभी कपिल मुझे पहलवान बना देते हैं तो कभी बुढ़ी काकी तो कभी परदादी. पर कपिल में वो हुनर है कि वह सामने वाले को इतनी इज्जत देते हैं, कि बाद वो उससे शरारत भी करें तो माफी मिल ही जाती है व कभी उनकी बात का बुरा नहीं लगता. पूरी टीम मुझे बहुत इज्जत देती है. कॅामेडी में अगर कॅामेडी करने वाला, जज की कुर्सी पर बैठकर कॅामेडी पर कमेंट्री करने वाला खुद पर होता हुआ मजाक नहीं झेल सकता तो उसे दूसरे का मजाक बनाने का भी कोई हक नहीं है. '

'बोल बच्चन' फिल्म से आजतक जुड़ी हूं

फिल्मी कॅरियर पर बात करते हुए अर्चना ने बताया कि उनके लिए सभी भूमिका खास हैं. एक्ट्रेस बताती हैं, ''कुछ कुछ होता है' में मिस ब्रिगेंजा का भूमिका तो मुझे कोई भूलने ही नहीं देता. लेकिन जिस फिल्म से मैं पर्सनली आजतक जुड़ी हूं वह बोल बच्चन है. इस फिल्म में रोहित शेट्टी ने मुझे अपने भूमिका के साथ खेलने का जो मौका दिया वह मैं कभी नहीं भूल सकती. इस दौरान मैंने सेट पर जितनी मस्ती की है, वो सबसे अलग थी. यह शायद मेरी आखिरी बड़ी फिल्म थी, लेकिन बहुत खास थी.'

पर्दे के पीछे करते हैं जमकर मस्ती

शो शूट करने को दौरान सेट पर मस्ती का जिक्र करते हुए अर्चना ने बताया कि जहां कपिल हो वहां मस्ती तो होती ही है. चाहे कृष्णा हो या भारती कोई भी सीरियस होकर किसी कार्य को नहीं करता, पूरा शूट मस्ती मजाक के साथ होता है, बिना स्ट्रेस लिए. मुझे लगता है ऐसे ही माहौल में जो कॅामेडी निकलकर आती है वो सबसे अच्छी होती है. मुझे याद है मेरा पुराना शो श्रीमान व श्रीमती जी में भी हम ऐसे ही एपिसोड्स बनाया करते थे. हकीकत कहूं सारे शूट के दौरान कपिल कभी आराम नहीं करते. उनके पास जो टैलेंट है वो उन्हें व खास बनाता है.

अच्छे कलाकार बनने के लिए पहले अच्छा कार्य देखिए

आज की युवा पीढ़ी को एक्टिंग की टिप देते हुए एक्ट्रेस ने बोला कि कॅामेडी तो एक जॅानर है लेकिन अगर आप एक अच्छे कलाकार बनना चाहते हैं, तो सबसे पहले अच्छा कार्य देखिए. अपनी गलतियों से सीखिए व उनपर कार्य कीजिए. मेरी आदत थी कि हर शूट के बाद मैं खुद का कार्य देखती थी व अगली बार उसे सुधारने की प्रयास करती थी. तो यही बोलना चाहूंगी कि जिस भी जॅानर में कार्य करें पहले उसे अच्छे से सीखें, उसे शिद्दत से करें, उसके बाद ही आपको सक्सेस मिल पाएगी.