आंखो और त्वचा के लिए किसी दवा से कम नहीं है Witch Hazel, ऐसे करें इस्तेमाल

आंखो और त्वचा के लिए किसी दवा से कम नहीं है Witch Hazel, ऐसे करें इस्तेमाल

आधुनिक समय में लोगों की खराब जीवनशैली, अनुचित खानपान और तनाव की वजह से कई बीमारियां जन्म लेती हैं। खासकर तनाव और देर रात तक जागने से पेट संबंधी विकार और आंखों से संबंधित परेशानी बढ़ जाती हैं। इनसे निजात पाने के लिए लोग नाना प्रकार के जतन करते हैं, लेकिन अपनी दिनचर्या और खानपान में सुधार नहीं करते हैं। इन वजहों के चलते लोग चाहकर भी बीमारियों से दूर नहीं रह पाते है। अगर आप भी इन बीमारियों से जूझ रहे हैं, तो Witch Hazel का सहारा ले सकते हैं। अगर आपको इस औषधि के बारे में नहीं पता है, तो आइए जानते हैं-

विच हेज़ल क्या है

सदियों से दुनियाभर में जड़ी-बूटियों को औषधि की तरह इस्तेमाल किया जाता है। इनमें एक विच हेज़ल है। यह पौधा अमेरिका और जापान सहित दुनियभर के कई देशों में पाया जाता है। इस पौधे का वैज्ञानिक नाम हैमामेलिस वर्जिनिन (Hamamelis Virginiana) है। आयुर्वेद मे विच हेज़ल के फूल, पत्ते और छाल सभी चीज़ों का इस्तेमाल किया जाता है।


researchgate.net में  The Natural Historian की एक कटिंग छपी है, जिसमें विच हेज़ल के फायदे को विस्तार से बताया गया है। यह शोध 90 के दशक की है। इस शोध से खुलासा हुआ है कि विच हेज़ल त्वचा संबंधी बीमारियों के लिए रामबाण दवा की तरह है। इसके इस्तेमाल से एक्जिमा, स्ट्रेच मार्क्स,  चिकन पॉक्स समेत त्वचा की परेशानियों से छुटकारा मिलता है।


आंखों और त्वचा के लिए वरदान है

लंबे समय तक मोबाइल और सिस्टम पर आंख गड़ाने से आंखों से संबंधित परेशानियां होती हैं। इससे बचने के लिए विच हेजल के अर्क का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त त्वचा संबंधी परेशानियों को दूर करने के लिए विच हेज़ल के अर्क का यूज किया जा सकता है। हालांकि, इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें।


बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय

बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय

बदलते मौसम में बच्चे-बड़े सभी बीमार पड़ जाते हैं। खासकर बच्चे जल्द बीमार पड़ जाते हैं, क्योंकि बच्चे बड़ों के मुकाबले अधिक नाजुक होते हैं। इसलिए बच्चे जल्द बीमार पड़ जाते हैं। हालांकि, डेंगू सभी को अपनी चपेट में ले लेता है लेकिन बच्‍चों इससे ज्यादा बीमार पड़ते हैं। डेंगू का वायरस मच्छर से फैलता है। डेंगू बुखार का सहीं समय पर उपचार नहीं किया गया तो यह जानलेवा साबित होता है। डेंगू में ब्ल्ड में मौजूद प्लेटलेट्स तेजी से घटने लगते हैं। शुरुआत में बच्चों में डेंगू बुखार के लक्षणों को पहचानना मुश्किल होता है। 3 से 4 दिन के बाद इसकी पहचान आसानी से की जा सकती है। बच्चों में डेंगू बुखार होने पर ये लक्षण पाए जाते हैं। इन लक्षणों के दिखते ही तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं।  

लक्षणः 

- तेज बुखार

- भूख न लगना 

- कमजोरी होना 

- त्वचा पर निशान 

- खांसी आना 

- बदन दर्द 

इन उपायों से करें बचावः 

- फौरन डॉक्टर से जांच कराएं। 

- सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा थकान महसूस न करे । आपके बच्चे के लक्षण कितने कठोर हैं, इसके आधार पर उन्हें कम से कम 15 दिन से लेकर एक महीने तक पूरे आराम  की आवश्यकता होगी।

- बच्चों को डेंगूं बुखार से बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ दें। 

- बच्चों को तेल और मसालेदार वाले खाने से परहेज करवा के साथ हल्का और पौष्टिक भोजन दें। 

- उन्हें हल्का भोजन जैसे सूप, फल, उबली हुई सब्जियां दें।

- यदि आपका बच्चा स्तनपान कर रहा है, तो सुनिश्चित करें कि आप स्तनपान ना छोड़ें। बड़े बच्चों के मामले में, उन्हें हाइड्रेटेड रखना होगा। इलेक्ट्रोलाइट आदि जैसे मौखिक जलयोजन विकल्प आज़माइये।

- ठंडे पानी में भिगोया हुआ कपड़ा या स्पंज रखने से बुखार कम  होने में मदद मिलेगी

- घर के बाहर में नीम की पत्तियां या नारियल की छाल को जलाकर मच्छरों को दूर भगा सकते हैं। 

- घर और आसपास के इलाके को स्वच्छ रखें। इसके अलावा मच्छर होने पर मच्छरदानी का प्रयोग करें।   

इन बातों का रखें खास ध्यान

- सुनिश्चित करें कि आपके बच्चों के आसपास किसी पानी का जमाव नहीं हो, न सिर्फ आपके घर में बल्कि आपके इलाके में भी। 

- जब आपका बच्चा आसपास न हो, तब अपने घर के आप पास मच्छर मारने के लिए फॉगिंग मशीन का उपयोग कर सकते हैं।

- ज्यादा से ज्यादा शरीर ढका रहे ऐसे कपड़े अपने बच्चे को पहनाएं।

- मच्छर भगाने वाले रेपैलेंट्स का इस्तेमाल करें। मच्छर मारने के कई विकल्प बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं।

- सुनिश्चित करें कि परिवार का हर सदस्य दिन में दो बार स्नान करके बुनियादी स्वच्छता का पालन कर रहा है।


TOP 5 TV SHOWS: दर्शकों की पसंद पर खरे उतरे ये धारावाहिक       वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे और टी20 सीरीज के लिए श्रीलंकाई टीम का ऐलान       अब ऑनलाइन युवाओं को बल्लेबाजी के गुण सिखाएंगे सचिन तेंदुलकर       रॉबिन उथप्पा ने ठोका शतक और केरल ने उड़ीसा को इतने रन से हराया       IPL में अब तक खिलाड़ियों की सैलरी पर खर्च हुए हैं 6144 करोड़ रुपये       T20 विश्व कप में 20 खिलाड़ियों को क्यों उतारना चाहती है न्यूजीलैंड की टीम       पेट्रोल-डीजल ने रुलाया, साइकिल से ऑफिस पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा       बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम       पुडुचेरी: कांग्रेस के हाथ से निकली एक और राज्य की सत्ता       महाराष्ट्र में हालात खराब, दूसरे राज्यों का क्या होगा       यात्रियों के छूटे पसीने, ट्रेन पार कर गई पूरा प्लेटफॉर्म, स्टेशन पर खड़े रहे गए सभी       घर में मच्छर भगाने के लिए नहीं है कॉइल या मॉस्कीटो लिक्विड, तो...       बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय       पुश-अप कैसे करें और एक दिन में कितने पुश-अप्स करने चाहिए       बासी रोटी भी आपको बना सकती है सेहतमंद       इस तरह दूर करें अपनी स्किन की परेशानियां       गर्मियों में शरीर से निकलता है ज्यादा पसीना तो अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे       महिलाएं नहाते समय करती हैं ऐसी गलतियाँ, पहुंचाती है नुकसान       महिलाएं अपने गोर गालों को उभारने के लिए करें ये देसी उपाय       अमेरिका के टॉप स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के तीन और लक्षण बताए हैं, जानें