कोरोना महामारी के चलते लोग हो रहे हैं मानसिक परेशानियों के सबसे ज्यादा शिकार

कोरोना महामारी के चलते लोग हो रहे हैं मानसिक परेशानियों के सबसे ज्यादा शिकार

कोरोना महामारी ने दुनियाभर के लोगों को प्रभावित किया है। दिनचर्या से लेकर ज्यादातर देशों की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से बिगड़ चुकी है। जिसकी वजह से लोगों में चिंता, तनाव व घबराहट का माहौल देखने को मिल रहा है। बिगड़ती अर्थव्यवस्था के चलते कई लोगों की नौकरियां चली गई, वहीं दूसरी ओर कुछ लोग बिना पैसों या आधे पैसों में काम करने को मजबूर हैं। पिछले साल से लेकर अब तक ऐसी कई रिपोर्ट भी ये बात सामने आ चुकी है कोविड-19 ने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर डाला है। इसका सीधा असर पारिवारिक तनाव और मानसिक परेशानी के तौर पर सामने आ रहा है. जानकार कहते हैं कि अगर यह संकट और लंबा खिंचा तो परिणाम बहुत घातक हो सकते हैं.

क्या है तनाव

असामान्य और मुश्किल परिस्थितयों के प्रति हमारा दिमाग और शरीर जो प्रतिक्रिया करता है, वह तनाव कहलाता है। आमतौर पर इसके लक्षण निराशा, बेचैनी, गुस्से और घबराहट के रूप में सामने आते हैं। इसके अलावा खाने-पीने, उठने-बैठने, सोने के ढंग में बदलाव, सिर और पेट दर्द, अपच, अरुचि आदि भी इसके प्रमुख लक्षण हैं।

प्रमुख कारण

- नौकरी छूटना

- किसी प्रिय व्यक्ति से बिछड़ना

- कंफर्ट जोन से मजबूरन बाहर आना

- किसी आशंका का डर

- कोई बड़ा आर्थिक-सामाजिक नुकसान

- खराब सेहत और सौंदर्य

- क्षमताओं से ज्यादा जिम्मेदारियों का निर्वहन

तनाव के प्रभाव

तनाव व्यक्ति के शारीरिक-मानसिक सेहत पर गहरा असर डालता है। बहुत ज्यादा तनाव रहने से रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है। कई बार जी मिचलाना, उल्टी आना, नींद न आना, माइग्रेन और स्किन एलर्जी जैसी समस्या भी सामने आने लगती है। अगर सही। समय पर तनाव नियंत्रित न हो तो हृदय रोग और ब्लड। प्रेशर जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। डिमेंशिया और अल्जाइमर्स जैसी गंभीर बीमारी के लक्षण भी उभर सकते हैं। तनाव की स्थिति में अगर बार-बार चॉकलेट, पेस्ट्री और कार्बोनेटेड ड्रिंक्स लेने की आदत पड़ जाए तो वज़न बढ़ने का खतरा भी रहता है। 


महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

वाशिंगटन। कोरोना वायरस महामारी (coronavirus pandemic) के दौरान कारगर मास्क ( Masks) वन्यजीवों, पक्षी और पानी में रहने वाले जीव-जंतुओं के लिए नुकसानदेह और घातक साबित हो रहा है।  जब से कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए  सार्वजनिक जगहों पर मास्क को अनिवार्य किया गया है तब से एकबार इस्तेमाल किए जाने वाले सर्जिकल मास्क दुनिया भर के सड़कों, पानी और समुद्री तटों पर बिखरे पड़े हैं। एक बार पहना जानेवाला पतला सा प्रोटेक्टिव मटीरियल नष्ट होने में सैंकड़ों साल लगा देता है। पशु अधिकारों के समूह पेटा (PETA) के एश्ले फ्रुनो (Ashley Fruno) ने कहा, 'फेस मास्क का इस्तेमाल जल्दी नहीं खत्म होने वाला है लेकिन इस्तेमाल के बाद जब हम इसे  फेंक देते हें तब यह पर्यावरण और जानवरों को नुकसान पहुंचा सकता है।' 

 मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर के बाहरी इलाके में लंगूरों को मास्क के स्ट्रेप चबाते हुए देखा गया। वहीं ब्रिटेन के चेम्सफोर्ड सिटी में भी समुद्री पक्षी का पैर इस मास्क के फंदे में एक सप्ताह तक फंसा रह गया था। एनिमल वेलफेयर चैरिटी ने इस घटना का जिक्र कर सतर्क किया। चैरिटी की नजर जब इस पक्षी पर गई तब इसके पैर बंधे होने के कारण यह बेहोशी की अवस्था में था इसे तुरंत वन्यजीव अस्पताल (wildlife hospital) ले जाया गया।  

पर्यावरण के लिए काम करने वाले ग्रुप ओशंस एशिया (OceansAsia) के अनुसार,  पिछले साल 1.5 बिलियनसे अधिक मास्क समुद्रों में प्रवाहित किए गए। 


महाराष्ट्र, हरियाणा में मुर्गियों को मारने का सिलसिला जारी       सूरत से कोलकाता जा रहा इंडिगो विमान का भोपाल में इमरजेंसी लैंडिंग       कानून रद करने के अलावा विकल्प बताएं किसान संगठन, 10वें दौर की वार्ता 19 को : कृषि मंत्री       केंद्र सरकार ने बदली रणनीति, अब हर राज्य के लिए कोविड टीकाकरण के दिन तय, जानें       कोविड वैक्‍सीन के हल्‍के दुष्‍प्रभावों को लेकर डरने की जरूरत नहीं, जानें       वृष राशि के जातक को नौकरी में मिलेंगे नए अवसर, जानें आज का राशिफल       20 हजार से भी कम कीमत में मिल रही ये स्मार्ट TV, जानें फीचर्स       सर्दियों में खूब खाएं अमरूद, बढ़ेगी रोग-प्रतिरोधक क्षमता       शेन वॉर्न ने ऋषभ पंत का उड़ाया मजाक       Bigg Boss 14: दर्दनाक हादसे में टैलेंट मैनेजर की मौत       चीन ने यहां चुपके से बना दी कई KM लंबी नई सड़क, भारत के लिए खतरे की घंटी       राज्यों में बरसेगा कहर, और बढ़ेगी ठंड चलेगी बर्फीली हवा       कांग्रेस ने वैक्सीन धंधे पर सरकार को घेरा, बेल्जियम को सस्ती तो भारत में महंगी क्यों?       CBI का बड़ा एक्शन, रेलवे में भ्रष्टाचार का खुलासा!       वैक्सीन पर आखिर क्यों हो रहा है विवाद, जानें       कर्नाटक में गरजे अमित शाह, वैक्सीन पर कांग्रेस को घेरा       झारखंड सरकार का सिर दर्द बने पारा शिक्षक       अब fastag को whatsapp से करें ऑर्डर, जानें       फर्स्ट डे कितने लोगों ने कराया वैक्सीनेशन, कौन सा राज्य रहा सबसे आगे       बाल-बाल बचे कांग्रेस अध्यक्ष, भयानक हमले में कार हुई चकनाचूर