तेज दिमाग पाने के लिए रोजाना इस तेल का करें इस्तेमाल

तेज दिमाग पाने के लिए रोजाना इस तेल का करें इस्तेमाल

आधुनिक समय में लोग तनाव भरी ज़िंदगी जीने को आदी हो गए हैं। इससे न केवल शारीरिक सेहत पर बल्कि मानसिक सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है। विशेषज्ञों की मानें तो शारीरिक बीमारियों का इलाज संभव है, लेकिन मानसिक बीमारियों का इलाज करना आसान नहीं होता है। इनसे याद्दाश्त शक्ति भी कमजोर होती है। मानसिक रुप से सेहतमंद रहने के लिए व्यक्ति को अंदर से मजबूत होना पड़ता है। साथ ही खानपान और दिनचर्या में सुधार की जरूरत है। अगर आप भी मानसिक रूप से सेहतमंद नहीं है और अपनी याददाश्त शक्ति को मजबूत करना चाहते हैं, तो Sage Oil का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आपको इस तेल के बारे में नहीं पता है, तो आइए जानते हैं-

आयुर्वेद में सेज जड़ी-बूटी का विशेष महत्व है। इसका औषधि की तरह इस्तेमाल  किया जाता है। इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं जो सेहत और सुंदरता दोनों के लिए फायदेमंद होते हैं। कई शोध में खुलासा हो चुका है कि क्लेरी सेज डायबिटीज,  तनाव और तेज दिमाग के लिए वरदान है। डॉक्टर्स भी सेज तेल का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। दुनियाभर में सेज के पौधे पाए जाते हैं।

छपी एक शोध में सेज ऑयल को दवा बताया गया है। यह शोध चूहों और जानवरों पर किया गया है। इस शोध से खुलासा हुआ है कि तेज दिमाग पाने और याद्दाश्त शक्ति बढ़ाने के लिए सेज तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। सेज में ल्यूटिन, बीटा-पिनन, एंटी-ऑक्सीडेंट्स, एसेंशियल ऑयल्स समेत कई गुणकारी तत्व पाए जाते हैं जो कई बीमारियों समेत दिमाग को दरुस्त करने में सहायक सिद्ध होते हैं।

एक शोध के अनुसार, रोजाना 5 प्रतिशत क्लेरी सेज तेल को वाष्प के जरिए सूंघने से तनाव और अवसाद में बहुत जल्द आराम मिलता है। साथ ही दिमाग भी तेज होता है। वहीं, लैवेंडर तेल की तुलना में क्लेरी सेज तनाव और अवसाद के लिए अधिक फायदेमंद है।


बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय

बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय

बदलते मौसम में बच्चे-बड़े सभी बीमार पड़ जाते हैं। खासकर बच्चे जल्द बीमार पड़ जाते हैं, क्योंकि बच्चे बड़ों के मुकाबले अधिक नाजुक होते हैं। इसलिए बच्चे जल्द बीमार पड़ जाते हैं। हालांकि, डेंगू सभी को अपनी चपेट में ले लेता है लेकिन बच्‍चों इससे ज्यादा बीमार पड़ते हैं। डेंगू का वायरस मच्छर से फैलता है। डेंगू बुखार का सहीं समय पर उपचार नहीं किया गया तो यह जानलेवा साबित होता है। डेंगू में ब्ल्ड में मौजूद प्लेटलेट्स तेजी से घटने लगते हैं। शुरुआत में बच्चों में डेंगू बुखार के लक्षणों को पहचानना मुश्किल होता है। 3 से 4 दिन के बाद इसकी पहचान आसानी से की जा सकती है। बच्चों में डेंगू बुखार होने पर ये लक्षण पाए जाते हैं। इन लक्षणों के दिखते ही तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं।  

लक्षणः 

- तेज बुखार

- भूख न लगना 

- कमजोरी होना 

- त्वचा पर निशान 

- खांसी आना 

- बदन दर्द 

इन उपायों से करें बचावः 

- फौरन डॉक्टर से जांच कराएं। 

- सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा थकान महसूस न करे । आपके बच्चे के लक्षण कितने कठोर हैं, इसके आधार पर उन्हें कम से कम 15 दिन से लेकर एक महीने तक पूरे आराम  की आवश्यकता होगी।

- बच्चों को डेंगूं बुखार से बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ दें। 

- बच्चों को तेल और मसालेदार वाले खाने से परहेज करवा के साथ हल्का और पौष्टिक भोजन दें। 

- उन्हें हल्का भोजन जैसे सूप, फल, उबली हुई सब्जियां दें।

- यदि आपका बच्चा स्तनपान कर रहा है, तो सुनिश्चित करें कि आप स्तनपान ना छोड़ें। बड़े बच्चों के मामले में, उन्हें हाइड्रेटेड रखना होगा। इलेक्ट्रोलाइट आदि जैसे मौखिक जलयोजन विकल्प आज़माइये।

- ठंडे पानी में भिगोया हुआ कपड़ा या स्पंज रखने से बुखार कम  होने में मदद मिलेगी

- घर के बाहर में नीम की पत्तियां या नारियल की छाल को जलाकर मच्छरों को दूर भगा सकते हैं। 

- घर और आसपास के इलाके को स्वच्छ रखें। इसके अलावा मच्छर होने पर मच्छरदानी का प्रयोग करें।   

इन बातों का रखें खास ध्यान

- सुनिश्चित करें कि आपके बच्चों के आसपास किसी पानी का जमाव नहीं हो, न सिर्फ आपके घर में बल्कि आपके इलाके में भी। 

- जब आपका बच्चा आसपास न हो, तब अपने घर के आप पास मच्छर मारने के लिए फॉगिंग मशीन का उपयोग कर सकते हैं।

- ज्यादा से ज्यादा शरीर ढका रहे ऐसे कपड़े अपने बच्चे को पहनाएं।

- मच्छर भगाने वाले रेपैलेंट्स का इस्तेमाल करें। मच्छर मारने के कई विकल्प बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं।

- सुनिश्चित करें कि परिवार का हर सदस्य दिन में दो बार स्नान करके बुनियादी स्वच्छता का पालन कर रहा है।


वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे और टी20 सीरीज के लिए श्रीलंकाई टीम का ऐलान       अब ऑनलाइन युवाओं को बल्लेबाजी के गुण सिखाएंगे सचिन तेंदुलकर       रॉबिन उथप्पा ने ठोका शतक और केरल ने उड़ीसा को इतने रन से हराया       IPL में अब तक खिलाड़ियों की सैलरी पर खर्च हुए हैं 6144 करोड़ रुपये       T20 विश्व कप में 20 खिलाड़ियों को क्यों उतारना चाहती है न्यूजीलैंड की टीम       पेट्रोल-डीजल ने रुलाया, साइकिल से ऑफिस पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा       बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम       पुडुचेरी: कांग्रेस के हाथ से निकली एक और राज्य की सत्ता       महाराष्ट्र में हालात खराब, दूसरे राज्यों का क्या होगा       यात्रियों के छूटे पसीने, ट्रेन पार कर गई पूरा प्लेटफॉर्म, स्टेशन पर खड़े रहे गए सभी       घर में मच्छर भगाने के लिए नहीं है कॉइल या मॉस्कीटो लिक्विड, तो...       बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय       पुश-अप कैसे करें और एक दिन में कितने पुश-अप्स करने चाहिए       बासी रोटी भी आपको बना सकती है सेहतमंद       इस तरह दूर करें अपनी स्किन की परेशानियां       गर्मियों में शरीर से निकलता है ज्यादा पसीना तो अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे       महिलाएं नहाते समय करती हैं ऐसी गलतियाँ, पहुंचाती है नुकसान       महिलाएं अपने गोर गालों को उभारने के लिए करें ये देसी उपाय       अमेरिका के टॉप स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के तीन और लक्षण बताए हैं, जानें       गर्मियों के मौसम में बेहद फायदेमंद है चीकू का सेवन