दिल की हिफ़ाजत दिल से करें ताकि आपका दिल रहें महफूज

दिल की हिफ़ाजत दिल से करें ताकि आपका दिल रहें महफूज

आयुर्वेद में हर बीमारी से बचने के उपाय मौजूद है। प्राचीन काल से ही आयुर्वेदिक पद्धति का इस्तेमाल करके बीमारी का इलाज किया जाता था। दिल की बीमारी का इलाज भी आयुर्वेदिक तरीके से किया जा सकता है। अगर आयुर्वेद के कुछ नुस्खे अपनाएं जाएं तो दिल के रोगों से महफूज रहा जा सकता है। किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक आजाए उस वक्त आयुर्वेद की दवा काम नहीं करेगी, लेकिन अगर आयुर्वेद के कुछ नुस्खे अपनाए जाए तो हार्ट अटैक की नौबत ही नहीं आएगी। आयुर्वेद में दिल को तंदुरुस्त रखने के लिए कई नुस्खे बताए गए हैं।

आयुर्वेद की मदद से बिना एंजियोप्लास्टी के करीब 80 फीसदी हार्ट अटैक की संभावना को टाला जा सकता है। इससे दिल की दूसरी बीमारियां भी कम हो जाती है। दिल की बीमारियां एसिडिटी के कारण होती है पेट में जब एसिडिटी अधिक हो जाती है तो एसिड खून में मिल जाता है और रक्त वाहिनियों में एसिड ब्लड आगे नहीं बह पाता और ब्लॉकेज की समस्या उत्पन्न होती है। आप भी अपने दिल की हिफाजत करना चाहते हैं तो आयुर्वेदिक तरीके से करें दिल की सेहत का ख्याल। अपनी डाइट में ऐसी चीज़ों को शामिल करें जिससे दिल की बीमारी से महफूज रहा जा सके।


पुदीना और तुलसी पत्ते सुबह खाएं:

हम सब जानते हैं कि तुलसी में कई बीमारियों को सही करने की शक्ति है। हम सब इसका सेवन करते भी हैं, लेकिन अगर किसी का दिल स्वस्थ नहीं है तो रोजोना तुलसी और पुदीने की कुछ पत्तियां का सुबह में सेवन करें, तो दिल को हमेशा के लिए तंदुरुस्त रखा जा सकता है। आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि इससे ब्लड का पीएच लेवल सामान्य बना रहता है, जिससे रक्त धमनियों में ब्लॉकेज नहीं होता और हार्ट अटैक से बचाव होता है।

हल्दी धमनियों की गांठ हटाने में कारगर:

कोरोना काल के इस दौर में आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार हल्दी दूध पीने की सलाह दी गई है, लेकिन हल्दी हार्ट अटैक से बचाने में भी बेहद कारगर है। हल्दी की कुछ गांठों को चार दिनों तक चूने के पानी में भिगोकर रखने के बाद इसे सुखा लीजिए। जब ये गांठें अच्छी तरह सूख जाएं तो इन्हें बारीक़ पीसकर चूर्ण बना लें। अब इस चूर्ण को एक-एक ग्राम की मात्रा सुबह-शाम गुनगुने पानी में सेवन करें। इससे खून की जो धमनियां ब्लॉकेज हो गई हैं, वे खुल जाएंगी। 

लौकी करती है दिल का इलाज

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक तरीके से इलाज करने के लिए क्षारिय वस्तुएं खाने की सलाह दी जाती है। इसे खाने से ब्लॉकेज खुल जाते हैं। लौकी की सब्जी और लौकी का जूस दिल के लिए बेहद फायदेमंद है। लौकी के जूस में तुलसी के पत्ते मिलाकर भी पिया जा सकता है। आप इस जूस में सेंधा नमक मिलाकर भी पी सकते हैं जिससे इसका स्वाद बढ़ेगा।   


महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

वाशिंगटन। कोरोना वायरस महामारी (coronavirus pandemic) के दौरान कारगर मास्क ( Masks) वन्यजीवों, पक्षी और पानी में रहने वाले जीव-जंतुओं के लिए नुकसानदेह और घातक साबित हो रहा है।  जब से कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए  सार्वजनिक जगहों पर मास्क को अनिवार्य किया गया है तब से एकबार इस्तेमाल किए जाने वाले सर्जिकल मास्क दुनिया भर के सड़कों, पानी और समुद्री तटों पर बिखरे पड़े हैं। एक बार पहना जानेवाला पतला सा प्रोटेक्टिव मटीरियल नष्ट होने में सैंकड़ों साल लगा देता है। पशु अधिकारों के समूह पेटा (PETA) के एश्ले फ्रुनो (Ashley Fruno) ने कहा, 'फेस मास्क का इस्तेमाल जल्दी नहीं खत्म होने वाला है लेकिन इस्तेमाल के बाद जब हम इसे  फेंक देते हें तब यह पर्यावरण और जानवरों को नुकसान पहुंचा सकता है।' 

 मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर के बाहरी इलाके में लंगूरों को मास्क के स्ट्रेप चबाते हुए देखा गया। वहीं ब्रिटेन के चेम्सफोर्ड सिटी में भी समुद्री पक्षी का पैर इस मास्क के फंदे में एक सप्ताह तक फंसा रह गया था। एनिमल वेलफेयर चैरिटी ने इस घटना का जिक्र कर सतर्क किया। चैरिटी की नजर जब इस पक्षी पर गई तब इसके पैर बंधे होने के कारण यह बेहोशी की अवस्था में था इसे तुरंत वन्यजीव अस्पताल (wildlife hospital) ले जाया गया।  

पर्यावरण के लिए काम करने वाले ग्रुप ओशंस एशिया (OceansAsia) के अनुसार,  पिछले साल 1.5 बिलियनसे अधिक मास्क समुद्रों में प्रवाहित किए गए। 


चीन की कुटिल वैक्‍सीन डिप्‍लोमेसी के खिलाफ भारत ने खींची लंबी रेखा       एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर ईयू की आपत्ती, रूस से जल्द रिहा करने की अपील       महाराष्ट्र, हरियाणा में मुर्गियों को मारने का सिलसिला जारी       सूरत से कोलकाता जा रहा इंडिगो विमान का भोपाल में इमरजेंसी लैंडिंग       कानून रद करने के अलावा विकल्प बताएं किसान संगठन, 10वें दौर की वार्ता 19 को : कृषि मंत्री       केंद्र सरकार ने बदली रणनीति, अब हर राज्य के लिए कोविड टीकाकरण के दिन तय, जानें       कोविड वैक्‍सीन के हल्‍के दुष्‍प्रभावों को लेकर डरने की जरूरत नहीं, जानें       वृष राशि के जातक को नौकरी में मिलेंगे नए अवसर, जानें आज का राशिफल       20 हजार से भी कम कीमत में मिल रही ये स्मार्ट TV, जानें फीचर्स       सर्दियों में खूब खाएं अमरूद, बढ़ेगी रोग-प्रतिरोधक क्षमता       शेन वॉर्न ने ऋषभ पंत का उड़ाया मजाक       Bigg Boss 14: दर्दनाक हादसे में टैलेंट मैनेजर की मौत       चीन ने यहां चुपके से बना दी कई KM लंबी नई सड़क, भारत के लिए खतरे की घंटी       राज्यों में बरसेगा कहर, और बढ़ेगी ठंड चलेगी बर्फीली हवा       कांग्रेस ने वैक्सीन धंधे पर सरकार को घेरा, बेल्जियम को सस्ती तो भारत में महंगी क्यों?       CBI का बड़ा एक्शन, रेलवे में भ्रष्टाचार का खुलासा!       वैक्सीन पर आखिर क्यों हो रहा है विवाद, जानें       कर्नाटक में गरजे अमित शाह, वैक्सीन पर कांग्रेस को घेरा       झारखंड सरकार का सिर दर्द बने पारा शिक्षक       अब fastag को whatsapp से करें ऑर्डर, जानें