कच्चा लहसुन, हल्दी व अदरक : ये मेटाबॉलिज्म बढ़ाकर वजन कंट्रोल करने में करता हैं मदद

कच्चा लहसुन, हल्दी व अदरक : ये मेटाबॉलिज्म बढ़ाकर वजन कंट्रोल करने में करता हैं मदद

शरीर की कार्यप्रणाली ठंड में भी शरीर को गर्म बनाए रखती है. लेकिन इसके लिए शरीर ज्यादा भोजन की मांग करता है, यानी इस मौसम में भूख अधिक लगती है. इससे कई लोगों का वजन भी बढ़ जाता है. तो सवाल यह है कि इस मौसम में क्या व किस तरह खाएं ताकि शरीर की गर्मी बनी रहे व वजन भी न बढ़े.

आज हम आपको सर्दी के मौसम में खान-पान की चीजें सुझाने के अतिरिक्त एक सामान्य डाइट प्लान भी बता रहे हैं. हमने इसमें ड्राई फ्रूटस या महंगे फलों जैसी चीजें नहीं सुझाई हैं ताकि सभी वर्ग के लोग इसका पालन कर सकें. इस प्लान में अधिकांश उन चीजों को शामिल किया गया है जो हेल्दी होने के साथ गर्म तासीर वाली भी हैं. डाइट एंड वेलनेस एक्सपर्ट डाक्टर शिखा शर्मा से जानिए सर्दियों में कैसा हो खानपान-

ये खाने में करें शामिल

मोटा अन्न : ये शरीर को गर्म रखते हैं
सर्दी के मौसम में मक्का, ज्वार, बाजरा व रागी का भरपूर सेवन किया जाना चाहिए. इन्हें दलिया, रोटी या डोसे के रूप में लिया जा सकता है. इससे गेहूं के उपयोग में अपने आप कमी आएगी जो न केवल हमारे वज़न को नियंत्रित करने में मदद करेगा, बल्कि मोटे अनाजों की गर्म तासीर की वजह से शरीर में गर्मी भी रहेगी. हां, इनके साथ घी बेहद न हो जाए, इसका विशेष ध्यान रखना महत्वपूर्ण है.

कच्चा लहसुन, हल्दी व अदरक : ये मेटाबॉलिज्म बढ़ाकर वजन कंट्रोल करते हैं
सर्दी के मौसम में इन तीनों जड़ों का अधिक से अधिक सेवन किया जाना चाहिए. अदरक के अतिरिक्त हरी लहसुन व हरी हल्दी (कच्ची हल्दी) भी इस मौसम में ख़ूब आती हैं. इन तीनों में कई तरह के औषधीय गुण होने के अतिरिक्त इनकी तासीर भी गर्म होती है. ये मेटाबॉलिज्म भी बढ़ाती है जिससे वजन नियंत्रण में रहता है. कच्चे लहसुन को चटनी व कच्ची हल्दी को अचार के रूप में खाया जा सकता है.

तिल, मूंगफली व गुड़ : स्किन मुलायम व चमकदार रहती है
इन तीनों को एक साथ या भिन्न-भिन्न भी खाया जा सकता है. ये न केवल तासीर में गर्म है, बल्कि आयरन के भी अच्छे स्रोत हैं जो ठंड में हमारे लिए महत्वपूर्ण है. सर्दियों की एक बड़ी समस्या स्कीन का रूखा-सूखा होना है. तिल व मूंगफली के नियमित सेवन से स्कीन चमकदार व मुलायम बनी रहती है. इन दिनों चाय या गाजर के हलवे जैसी चीजों में भी शक्कर की स्थान गुड़ का प्रयोग किया जाना चाहिए.

हरी पत्तेदार सब्जियां : समाप्त करती हैं कफ
इस मौसम में मैथी, पालक, सरसों, बथुआ आदि हरी सब्जियां बहुतायत में मिलती हैं. इनमें विटामिन ए, ई, के, फॉलिक एसिड, आयरन, पोटैशियम व कैल्शियम जैसे पोषक तत्व बहुतायत मात्रा में होते हैं. हर दो मील्स में से कम से कम एक में यानी लंच या डिनर में इन्हें किसी न किसी रूप में अवश्य लेना चाहिए. ये वजन को नियंत्रित रखने के साथ-साथ कफ नाशक भी होती हैं जो सर्दी के मौसम की एक अन्य बड़ी समस्या है.

ग्रीन सलाद : पाचन सुधरेगा व पोषक तत्वों की पूर्ति होगी
ठंड के मौसम में गाजर, मूली, टमाटर, खीरा, चुकंदर, हरा प्याज आदि भी प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है. इन्हें लंच व डिनर दोनों समय के मील्स में जरूर शामिल करना चाहिए. ग्रीन सलाद से शरीर को न केवल कई तरह के विटामिन्स व मिनरल्स मिलेंगे, बल्कि इससे पाचन भी सुधरता है व मेटाबॉलिज्म भी बढ़ता है. मेटाबॉलिज्म में बढ़ोतरी हमारे वजन को नियंत्रित करने में मदद करेगी.