कागासन करने का ये है सही तरीका, पढ़े

कागासन करने का ये है सही तरीका, पढ़े

पेट की समस्या आजकल आम बात हो गई हैं. वहीं, लीवर, गैस, एसिडिटी और किडनी की समस्याएं लोगों को जल्दी प्रभावित कर रही हैं. ऐसे में हम कई तरह की दवाइयां लेते हैं चाहे वह सबसे आम परेशानी पेट की गैस के लिए घरेलू उपाय हों

या किडनी के रोगों का इलाज या उपचार हो. हम केवल दवाइयों तक सीमित हो गए है. वहीं, हमने नेचुरल तरीकों का उपयोग करना छोड़ दिया है. यदि आप रोजाना कागासन करते हैं तो आपको लीवर, गैस और गुर्दे की परेशानी  से छुटकारा पाया जा सकता हैं. इसके साथ पेट की चर्बी को कम करने के लिए कागासन  काफी फायदेमंद हो सकता है. यह योग इन सभी समस्याओं के लिए एक प्राकृतिक इलाज माना जा सकता है. इस आसान के नाम कागासन को करने के पश्चात् आपकी आकृति कौए जैसी ही होनी चाहिए. यदि आपको एसिडिटी, लीवर, पेट और किडनी की समस्याएं हैं तो आपको रोजाना सुबह कागासन करना चाहिए. यह य़ोग आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. यहां हम कागासन करने का तरीका भी बता रहे हैं साथ कागासन के फायदे भी आपके लिए लेकर आए हैं. कुछ सावधानियों के साथ आप इस योगासन को आसानी से कर सकते हैं.

इस तरह करें कागासन:- 

सबसे पहले सीधे खड़े हों ताकि शरीर की मुद्रा सावधान की स्थिति में रहे. 

पैर के पंजे बिल्कुल सीधे और हथेलियां कमर से चिपकी हुई हों.
 
कुछ देर अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें. 

सांस धीमी, लंबी और गहरी हो. 

सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे दोनों पैरों को सटाकर इस प्रकार बैठ जाएं कि दोनों पैरों के बीच कोई अंतर न रहे. 

अब बाईं हथेली से बाएं घुटने को और दाईं हथेली से दाएं घुटने को इस प्रकार पकड़ें कि दोनों कोहनियां जांघों, सीने और पेट के बीच में आ जाएं.

पैरों के पंजे बाएं-दाएं मुड़ने न पाएं और सामने की तरफ ही रहें. गर्दन, रीढ़ और कमर को भी बिल्कुल सीधा रखें. 

दाहिनी एड़ी से जमीन पर हल्का दबाव बनाते हुए गहरी सांस लेते हुए सिर को बाईं तरफ ले जाएं. 

कुछ सेकेंड बाद सांस छोड़ते हुए सिर को दुबारा सामने की तरफ ले आएं. 

दुबारा बाईं एड़ी से जमीन पर दबाव बनाते हुए सिर को दाहिनी तरफ ले जाने का अभ्यास करें.