कोरोना वैक्सीन की पहले खेप पहुंची रांची, टीकाकरण की राजनीति शुरू

कोरोना वैक्सीन की पहले खेप पहुंची रांची, टीकाकरण की राजनीति शुरू

रांची: झारखंड में कोरोना वैक्सीन की 1 लाख 66 हज़ार डोज पहुंच चुकी है। 16 जनवरी से राज्य के सभी ज़िलों में टीकाकरण शुरू किया जाएगा। इस बीच झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता का एक बयान चर्चा में है। रांची में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होने कहा कि, देश के सभी लोगों को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त दिया जाना चाहिए। बिहार चुनाव के दौरान भाजपा ने मतदाताओं से इसका वादा किया था। लिहाज़ा, इसमें किसी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिए।

वैक्सीन पर संशय हो दूर
झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा है कि, देश में दो कंपनियों की वैक्सीन को अनुमति दी गई है। टीकाकरण को लेकर देशभर में कई प्रकार के सवाल उठ रहे हैं। लिहाज़ा, केंद्र सरकार को इसे लेकर संशय दूर करना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्री ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि, झारखंड को पहली खेप कोविशील्ड की मिली है। राज्य सरकार को पता नहीं है कि, अगली खेप किस कंपनी की वैक्सीन मिलेगी। उन्होने कहा कि, केंद्र सरकार ने राज्य की ज़रूरत का आंकड़ा मांगा जिसे भेज दिया गया है।

सबसे पहले वैक्सीन लगाने को तैयार
झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि, राज्य की जनता की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी सरकार की है। लिहाज़ा, टीकाकरण को लेकर अगर कोई भ्रम की स्थिति उत्पन्न होती है तो वो सबसे पहले वैक्सीन लगाने को तैयार हैं। उन्होने कहा कि, जान-माल की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी से राज्य सरकार पीछे नहीं हटने वाली है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, जनता को एक्सपेरीमेंट का औज़ार नहीं बनाया जाना चाहिए। पूरी तहक़ीक़ात के बाद ही इसे आम लोगों के बीच लाया जाना चाहिए।

लाभुकों की हुई पहचान
07 जनवरी को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में कोरोना टीकाकरण को लेकर बैठक की गई। इसमें बताया गया कि, टीकाकरण के लिए 99 लाख 89 लोगों को चिन्हित किया गया है। पहले चरण में डेढ़ लाख हेल्थ वर्कर्स और दो लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया जाएगा। पूरे राज्य में 275 की संख्या में वैक्सीन भंडार बनाए गए हैं। इसमें राज्यस्तरीय एक और दो क्षेत्रीय स्तर के वैक्सीन भंडार हैं। टीका लगाने वाले लाभार्थियों को डीजिटल टीकाकरण प्रमाण पत्र दिया जाएगा।


विवादित ढांचे को लेकर प्रकाश जावडेकर बोले, 6 दिसंबर 1992 को ऐतिहासिक गलती को किया गया ठीक

विवादित ढांचे को लेकर प्रकाश जावडेकर बोले, 6 दिसंबर 1992 को ऐतिहासिक गलती को किया गया ठीक

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा है कि विदेशी आक्रांताओं ने राम मंदिर को इसलिए तोड़ा, क्योंकि वे जानते थे कि भारत की आत्मा वहीं बसती है। लेकिन 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाकर इतिहास की वह गलती सुधार ली गई।

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निधि समर्पण अभियान में दान देने वालों को सम्मानित करने के लिए रविवार को दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में जावडेकर ने कहा, 'जब बाबर जैसे विदेशी आक्रांता भारत आए तो उन्होंने राम मंदिर ढहाना क्यों चुना? क्योंकि वे जानते थे कि देश की आत्मा राम मंदिर में बसती है। उन्होंने वहां एक विवादित ढांचा बनाया, जो मस्जिद नहीं थी। जहां नमाज नहीं पढ़ी जाती, वह मस्जिद नहीं होती। 6 दिसंबर, 1992 को वह गलती खत्म हो गई।'

उस समय मैं भारतीय जनता युवा मोर्चा के लिए कर रहा था काम: जावडेकर

उन्होंने कहा, 'मैं 6 दिसंबर, 1992 को इतिहास बनने का गवाह था। उस समय मैं भारतीय जनता युवा मोर्चा के लिए काम कर रहा था। मैं बतौर एक कारसेवक अयोध्या में था। वहां लाखों कारसेवक थे। एक रात पहले मैं उस परिसर में सोया था और तीन गुंबद देख सकते थे। अगले दिन देश ने देखा कि किस प्रकार से इतिहास की गलती सुधारी गई।'

उन्होंने कहा कि सभी देश आक्रांताओं के निशान मिटा रहे हैं। हमने भी यहां कई जगहों के नाम बदले हैं, जो देश के आत्मसम्मान का हिस्सा बन गए हैं।

मंदिर निर्माण के लिए दान देने का करें आग्रह

उन्होंने लोगों से कहा कि देश में सभी घरों में जाकर अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए दान देने का आग्रह करें। उन्होंने कहा, 'यदि हम राम मंदिर निर्माण के लिए लोगों से मदद मांगेंगे तो वे खुशी से दान देंगे। हमें हर घर पहुंचना है। लोग 10 रुपये से लेकर 10 करोड़ रुपये तक दे रहे हैं। कुछ तो इससे भी बढ़कर दान दे रहे हैं।'


पॉर्न देखने वालों की मुश्किलें बढ़ीं, पॉप्युलर वेबसाइट का डेटा लीक       Corona Vaccine Update: भारत में 16 लाख से ज्यादा लोगों को कोरोना का टीका, दुनिया के बाकी देश कहां       आपके मोबाइल में मौजूद है फर्जी ऐप, तो ऐसे करें असली-नकली की पहचान       नेपाल में प्रचंड धड़े ने पीएम केपी शर्मा ओली को पार्टी से निकाला, स्पष्टीकरण नहीं देने पर कार्रवाई       विवादित ढांचे को लेकर प्रकाश जावडेकर बोले, 6 दिसंबर 1992 को ऐतिहासिक गलती को किया गया ठीक       लालू प्रसाद यादव की हालत स्थिर, दिल और किडनी की है गंभीर समस्या       गणतंत्र दिवस परेड खत्म होने के बाद ही ट्रैक्टर पर निकल सकेंगे किसान, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेगी पुलिस       तेजस विमानों में कई देशों ने दिखाई दिलचस्‍पी, चीन के जेएफ-17 की तुलना में हैं बेहतर       इस साल 32 बच्चों को मिलेगा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार, पीएम मोदी करेंगे विजेताओं से बात       दिल्ली में सभी मेट्रो स्टेशनों की पार्किंग बंद, सेवाओं में आंशिक बदलाव       बिहार में जननायक के बहाने हो रही सियासत, कर्पूरी ठाकुर की जयंती मनाने के लिए लगी होड़       Haridwar Kumbh Mela 2021: 27 फरवरी से शुरू हो सकता है कुंभ, श्रद्धालुओं की होगी आरटीपीसीआर जांच       बलिया के भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह के विवादित बोल, कहा- ममता बनर्जी के डीएनए में दोष       महाराष्ट्र: 18 लाख रुपये से अधिक की कोकीन जब्त, एक व्यक्ति गिरफ्तार       मैक्सिको-अमेरिका सीमा पर मिले 19 जले शव, सभी पर गोलियों के निशान, लेकिन घटनास्थल पर नहीं मिले खोखे       दक्षिण अफ्रीका में कोरोना से मरने वालों की अंत्येष्टि के लिए अधिक पैसे ले रहे पुजारी       तमिलनाडु: सीबीआई ने रिश्वत कांड में श्रम अधिकारी सहित दो लोगों को किया गिरफ्तार       यूएई ने इस्राइल में दूतावास स्थापित करने को दी मंजूरी       इमरान खान को नवाज शरीफ के बेटे ने दी चुनौती, कहा- 'भ्रष्टाचार के सबूत करें पेश'       आसमान छूती महंगाई के बीच सीरिया ने जारी किया 5000 पाउंड का नया नोट