गंगा स्वच्छता का ये हाल! आचमन तो छोड़िए नहाने लायक भी नहीं है गंगाजल

गंगा स्वच्छता का ये हाल! आचमन तो छोड़िए नहाने लायक भी नहीं है गंगाजल

वाराणसी: गंगा स्वच्छता न सिर्फ बीजेपी सरकार बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है। केंद्र की मौजूदा सरकार गंगा सफाई को लेकर किस कदर गंभीर है, इसका पता इस बात से चलता है कि सरकार ने गंगा के लिए एक अलग विभाग ही बना दिया। साल 2014 से लेकर अब तक नमामि गंगे प्रोजेक्ट के ऊपर करोड़ों रुपए खर्च किए जा चुके हैं। लेकिन सवाल ये उठता है कि पतित पावनी का पानी कितना निर्मल हुआ ? क्या गंगा का पानी स्वच्छता के मानक के करीब पहुंच चुका है ? इन सवालों का जवाब है नहीं !

आरटीआई से हुआ बड़ा खुलासा
बनारस के रहने वाले समाजसेवी और क्रांति फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल कुमार सिंह ने गंगा सफाई को लेकर एक आरटीआई दाखिल किया था। आरटीआई से मिली जानकारी हैरान करने वाली है। जानकारी के अनुसार 90 में से 73 जगहों पर गंगा का पानी तय मानकों से कहीं ज्यादा प्रदूषित है। गंगा सफाई पर नेशनल मिशन फार क्लीन गंगा के अंतर्गत 2014 से अभी तक 9259.92 करोड़ रुपये खर्च कर दिये गये हैं, लेकिन गंगा की स्थिति मे कोई सुधार नहीं आया है।

इसमें उत्तर प्रदेश मे सबसे ज्यादा 2628.73 करोड़ रुपये, बिहार मे 2490.98 करोड़ रुपये तथा पश्चिम बंगाल मे 926.40 करोड़ रुपये गंगा सफाई पर खर्च कर दिये गये। राहुल कुमार सिंह के अनुसार गंगा सफाई पर इतने रूपये खर्च करने के बावजूद गंगा के रास्ते मे स्थापित 90 मानिटरिंग केंद्रों मे 73 स्थानों पर गंगा का पानी तय मानकों से कहीं ज्यादा प्रदूषित है।

आचमन तो छोड़िए नहाने लायक भी नहीं है गंगाजल
गंगा के पानी के प्रदूषण की जांच हेतु लाईव मानिटरिंग करने के लिए बनायी गयी वेबसाईट पर कोई भी व्यक्ति 125.19.52.219/wqi लिंक पर जाकर देख सकता है कि गंगा के पानी मे विभिन्न मानिटरिंग केंद्रों पर गंगा के पानी मे प्रदूषण की स्थिति कैसी है। राहुल कुमार सिंह के अनुसार लाईव मानिटरिंग वेबसाईट के अनुसार गंगोत्री से निकलने के पश्चात हरिद्वार के बाद गंगा मे प्रदूषण की स्थिति बेहद गंभीर होती चली गयी है।

अगर कालीफार्म की स्थिति की बात की जाये तो भारत सरकार के तय मानकों के अनुसार पीने के पानी मे कालीफार्म की संख्या 50 एमपीएन प्रति 100 मिली से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा नहाने के लिए अधिकतम कालीफार्म 500 एमपीएन प्रति 100 मिली निर्धारित है। पीने के पानी मे अधिकतम कालीफार्म 5000 एमपीएन प्रति 100 मिली हो तो शुद्धिकरण करने के पश्चात पानी को पीया जा सकता है।

 घुली हुई आक्सीजन की मात्रा मानकों के अनुरूप नहीं
अब अगर गंगा के पानी पर नजर डाली जाये तो उत्तर प्रदेश के कानपुर के शुक्लागंज मे कालीफार्म 26000, मिर्जापुर मे 23000, वाराणसी मे 17000, गोलाघाट गाजीपुर मे 22000, सारण मे 92000, पटना मे 92000, भागलपुर मे 160000 तथा पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद मे 23000 तथा हावड़ा मे बढ़कर 170000 एमपीएन प्रति 100 मिली हो गयी है जो कि तय मानकों से कहीं ज्यादा है। इनमे से ज्यादातर केंद्रों पर घुली हुई आक्सीजन की मात्रा तथा बी ओ डी(बायोकेमिकल आक्सीजन डिमांड) की मात्रा भी तय मानकों के अनुरूप नहीं है।


बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम

बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम

शहडोल: देश में महिलाओं के खिलाफ दुष्कर्म की घटनाएं कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। भारत के कोने कोने से युवती, नाबालिगों के साथ रेप की घटना सामने आ रही है। इस बीच मध्य प्रदेश के शहडोल से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां पर एक 19 वर्षीय युवती से कथित तौर पर अपहरण और गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया है।

बीजेपी के मंडल चीफ का भी नाम आया सामने
मामले में पीड़िता ने भारतीय जनता पार्टी के मंडल चीफ समेत चार लोगों को आरोपी बनाया है। मिली जानकारी के मुताबिक, पीड़िता युवती 13 फरवरी को अपने घर से लापता हो गई थी। जिसके बाद परिवार वाले घबरा गए और फिर परिजनों ने जैतपुर पुलिस थाने में युवती के लापता होने की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। वहीं, बीते रविवार को युवती अपने घर से कुछ दूरी पर ही बेहोश हालात में मिली।


युवती ने होश पर आने के बाद लिए ये नाम
युवती के मिलने के बाद घरवालों ने पुलिस को इस बात की जानकारी दी। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और युवती को इलाज के लिए जैतपुर अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं, होश में आने पर युवती ने सारी बात बताई और चार लोगों को आरोपी बताया। इसमें बीजेपी के मंडल चीफ विजय त्रिपाठी को मुख्य आरोपी बताया गया है। इसके अलावा गैंगरेप में जेश शुक्ला, मुन्ना सिंह और मोनू महाराज नाम के शख्स भी शामिल थे।

पुलिस ने दर्ज किया मामला
पुलिस के मुताबिक, चारों आरोपियों की उम्र 35 से 40 साल के करीब है। पुलिस ने मामले में सभी के खिलाफ गैंगरेप और अपहरण का मामला दर्ज कर लिया है। एडिशनल एसपी  मुकेश कुमार वैश्य ने मामले में बताया कि होश में आने के बाद पीड़िता ने बताया कि एक लाल रंग की कार में उसका अपहरण किया गया था और फिर एक फार्म हाउस पर ले जाकर उसके साथ कई बार रेप की घटना को अंजाम दिया गया है।

आरोपी को किया गया पार्टी से निष्कासित
फिलहाल इस मामले में अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। माना जा रहा है कि आरोपी युवती को घर के पास फेंकने के बाद फरार हो गए हैं। आरोपियों की तलाश के लिए कई टीमें गठित की गई हैं और मामले की जांच जारी है। वहीं, मामला सामने आने के बाद BJP के जिला अध्यक्ष कमल प्रताप सिंह ने एक बयान जारी कर बताया कि आरोपी विजय त्रिपाठी को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है।


वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे और टी20 सीरीज के लिए श्रीलंकाई टीम का ऐलान       अब ऑनलाइन युवाओं को बल्लेबाजी के गुण सिखाएंगे सचिन तेंदुलकर       रॉबिन उथप्पा ने ठोका शतक और केरल ने उड़ीसा को इतने रन से हराया       IPL में अब तक खिलाड़ियों की सैलरी पर खर्च हुए हैं 6144 करोड़ रुपये       T20 विश्व कप में 20 खिलाड़ियों को क्यों उतारना चाहती है न्यूजीलैंड की टीम       पेट्रोल-डीजल ने रुलाया, साइकिल से ऑफिस पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा       बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम       पुडुचेरी: कांग्रेस के हाथ से निकली एक और राज्य की सत्ता       महाराष्ट्र में हालात खराब, दूसरे राज्यों का क्या होगा       यात्रियों के छूटे पसीने, ट्रेन पार कर गई पूरा प्लेटफॉर्म, स्टेशन पर खड़े रहे गए सभी       घर में मच्छर भगाने के लिए नहीं है कॉइल या मॉस्कीटो लिक्विड, तो...       बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय       पुश-अप कैसे करें और एक दिन में कितने पुश-अप्स करने चाहिए       बासी रोटी भी आपको बना सकती है सेहतमंद       इस तरह दूर करें अपनी स्किन की परेशानियां       गर्मियों में शरीर से निकलता है ज्यादा पसीना तो अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे       महिलाएं नहाते समय करती हैं ऐसी गलतियाँ, पहुंचाती है नुकसान       महिलाएं अपने गोर गालों को उभारने के लिए करें ये देसी उपाय       अमेरिका के टॉप स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के तीन और लक्षण बताए हैं, जानें       गर्मियों के मौसम में बेहद फायदेमंद है चीकू का सेवन