भारत को जल्द मिलेगी तीसरी वैक्सीन, तैयार होगी 10 करोड़ खुराक

भारत को जल्द मिलेगी तीसरी वैक्सीन, तैयार होगी 10 करोड़ खुराक

नई दिल्ली: भारत को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सिन’ के रूप में दो वैक्सीनें मिल चुकी है। अब रूसी ‘स्पुतनिक-5’ के रूप में एक और वैक्सीन मिलने की संभावनाएं बढ़ गई है। रूसी वैक्सीन का भारत में ट्रायल हैदराबाद की डॉ रेड्डीज लेबोरेटरीज लिमिटेड कर रही है। इस कंपनी ने इसके दूसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल पूरा कर लिया है और अब ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से तीसरे चरण के ट्रायल की इजाजत मांगी गयी है।

अगस्त में ही लांच हो गयी थी स्पुतनिक 5
स्पुतनिक-5 को रूस के गामालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा डेवलप किया गया है और इसे रूस ने दुनिया की सबसे पहली कोरोना वैक्सीन के रूप में पेश किया था। लेकिन चूँकि इसके सभी आवश्यक ट्रायल नहीं हुए थे सो इस पर दुनिया का भरोसा नहीं जम पाया। सवाल उठने पर रूस ने अपनी वैक्सीन के व्यापक ह्यूमन ट्रायल शुरू किये थे। स्पूतनिक-5 का पहला क्लिनिक ट्रायल 18 जून को शुरू हुआ था। इसमें 38 लोगों को डोज दी गई थी। 20 जुलाई को आए ट्रायल के नतीजों में इसमे हिस्सा लेने वाले सभी लोगों में कोरोना वायरस के खिलाफ इम्युनिटी देखने को मिली थी। इसके बाद रूस ने अगस्त में वैक्सीन लॉन्च करने का ऐलान किया था।

भारत में दिसंबर में शुरू हुआ था ट्रायल
रूसी डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फण्ड ने इस वैक्सीन के भारत में ट्रायल और वितरण के लिए सितंबर में हैदराबाद की डॉ रेड्डीज लैबोरेट्रीज से करार किया था। कंपनी ने अनुमति मिलने के बाद 2 दिसंबर को इसका दूसरे चरण का ट्रायल शुरू किया था। इसमें 100 लोगों को वैक्सीन की खुराक देकर उसकी सुरक्षा की जांच की गई थी। इसके बाद अब कंपनी तीसरे चरण के ट्रायल में 1,400 वॉलेंटियरों को इसकी खुराक देगी।

भारत में 10 करोड़ खुराक तैयार करने का लक्ष्य
डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज ने कहा है कि दूसरे चरण का ट्रायल पूरा हो गया है। इसमें किसी भी प्रकार की सुरक्षा चिंताएं सामने नहीं आई हैं। ट्रायल के सुरक्षा डेटा को मंजूरी के लिए ड्रग कंट्रोलर के समक्ष प्रस्तुत किया गया है और तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल की अनुमति भी मांगी गई है। मंजूरी मिलते ही ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा।

डॉ रेड्डीज लेबोरेटरीज के एमडी जीवी प्रसाद ने कहा है कि इस वैक्सीन को अब तक रूस के करीब 10 लाख लोग और अर्जेंटीना में तीन लाख से अधिक लोगों को दिया जा चुका है। कंपनी ने भारत में 10 करोड़ खुराक तैयार करने का लक्ष्य रखा है। वैक्सीन का भारत के अलावा यूएई, मिस्र, वेनेजुएला और बेलारूस में क्लिनिकल ट्रायल चल रहा है।

92 फीसदी असरदार
रूसी कंपनी ने दावा किया है कि ये वैक्सीन वॉलेंटियरों को पहली खुराक दिए जाने के 28 दिन बाद 91.4 प्रतिशत प्रभावी मिली थी, लेकिन पहली खुराक के 42 दिन बार के विश्लेषण में यह 95 प्रतिशत तक प्रभावी मिली है। ये भी दावा किया गया है कि गंभीर मामलों में यह 100 प्रतिशत तक प्रभावी साबित हुई है।


पीएम नरेंद्र मोदी ने युवाओं से की कोरोना टीकाकरण पर झूठ के ‘नेटवर्क’ को हराने की अपील

पीएम नरेंद्र मोदी ने युवाओं से की कोरोना टीकाकरण पर झूठ के ‘नेटवर्क’ को हराने की अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देश के युवाओं से कोरोना टीकाकरण को लेकर फैलाए जा रहे झूठ के ‘नेटवर्क’ को हराने में मदद करने की अपील की। उन्होंने कहा, देश के वैज्ञानिकों ने अपना कर्तव्य कोविड-19 (कोरोना वायरस) वैक्सीन विकसित कर पूरी कर दी है और अब हमें अपनी जिम्मेदारी निभानी है। प्रधानमंत्री ने कहा, हमें सही जानकारी फैलाकर झूठ और अफवाह फैला रहे हर नेटवर्क को हराना है।

पीएम मोदी ने कहा कि सही जानकारी देकर अफवाहों पर लगाम लगाने में कर सकते हैं मदद
गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सेदारी करने आए एनसीसी कैडेटों, एनएसएस वालंटियरों और कलाकारों से बात कर रहे मोदी ने कहा, ऐसे संगठनों ने हमेशा चुनौतीपूर्ण समय से जूझने में अपनी भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा, कोरोना काल में भी आप लोगों द्वारा किया गया काम प्रशंसनीय है। जब भी सरकार और प्रशासन को जरूरत थी, आप वालंटियर के तौर पर आगे और सहायता की।

चाहे आरोग्य सेतु एप के बारे में जागरूकता फैलानी हो या कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को लेकर, आप लोगों द्वारा किया गया काम तारीफ के काबिल है। प्रधानमंत्री ने कहा, युवाओं को अब एक कदम आगे बढ़ाकर लोगों को सही जानकारी उपलब्ध कराकर कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम में मदद करनी चाहिए। आपकी पहुंच समाज के सभी हिस्सों तक है। मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आगे आकर कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के साथ देश की मदद कीजिए। आपको गरीब और आम जनता तक वैक्सीनों को लेकर सही जानकारी पहुंचानी है। 


‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान बनेगा ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ भावना से मजबूत
प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भारत महज किसी के बोल देने से आत्मनिर्भर नहीं बनेगा, बल्कि आप जैसे युवाओं के काम से यह सफलता हासिल होगी। इसके लिए युवाओं को उचित कौशल से लैस होना पड़ेगा।

उन्होंने कहा, इसकी अहमियत को समझते हुए जब 2014 में हमारी सरकार आई तो कौशल विकास मंत्रालय का गठन किया गया और 5.5 करोड़ से ज्यादा युवाओं को अब तक विभिन्न कौशल का प्रशिक्षण दिया जा चुका है। उन्होंने एक बार फिर ‘वोकल फॉर लोकल’ पर जोर देते हुए कहा कि इसे ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना से ज्यादा मजबूती मिलेगी।


आसमान छूती महंगाई के बीच सीरिया ने जारी किया 5000 पाउंड का नया नोट       पद की गरिमा भूल बेशर्मी पर उतरे अफसर, युवती से फोन पर की अश्लील बातें, ऑडियो वायरल       हरियाणा में बजट सत्र से पहले चाचा-भतीजा और हुड्डा के बीच गर्माएगी सियासत       अभिनेता आर्मी हैमर ने शेयर किया 'हिंसक' वीडियो, पुलिस ने चेतावनी देकर छोड़ा       ‘दीवार’ में बनते बनते रह गई देव आनंद और राजेश खन्ना की जोड़ी, 786 का ये है असली कनेक्शन       अक्षय के बाद इस सुपरस्टार ने राम मंदिर निर्माण के लिए दिया योगदान, जानिए कितनी की मदद       शादी के बंधन में बंधे वरुण धवन और नताशा दलाल, दूल्हा दुल्हन की पहली तस्वीर आई सामने       जीएसटी फर्जी बिल धोखाधड़ी में ढाई महीने में आठ सीए समेत 258 लोग गिरफ्तार       एन्युटी प्लान : रिटायरमेंट के बाद पेंशन के साथ रिटर्न पाने का मौका       चीन के ब्रह्मपुत्र पर बांध बनाने से भारत से छिड़ सकती है पानी के लिए जंग       पीएम नरेंद्र मोदी ने युवाओं से की कोरोना टीकाकरण पर झूठ के ‘नेटवर्क’ को हराने की अपील       भारतीय मूल के अमेरिकी डॉक्टर ने किया आगाह, कहा- 'लगातार रूप बदल रहा कोरोना वायरस, रहना होगा तैयार'       भारत की जीत के बाद गावस्कर ने खास अंदाज में मनाया था जश्न, कहा...       पाकिस्तान के खिलाड़ियों को बड़ी टीमों के खिलाफ कैसे खेलना है, बाबर आजम ने बताया       अब आएगा इस स्पिनर का टाइम, ऑस्ट्रेलिया में नहीं खेल पाए एक भी मैच       इन दिग्गजों का नाम है शामिल, Ind vs Eng टेस्ट सीरीज के लिए कमेंट्री टीम का ऐलान!       इंग्लैंड के खिलाफ स्टेडियम में दिख सकते हैं दर्शक, लेकिन...       पाकिस्तान ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ कराची टेस्ट के लिए टीम की घोषणा की, इतने अकैप्ड खिलाड़ियों को मिला मौका       शार्दुल ठाकुर को ब्रिसबेन टेस्ट के बाद मिला नया 'निकनेम', सचिन तेंदुलकर का नाम भी साथ जोड़ा गया       निवेशकों के लिए टाइमिंग समझना होता है बड़ी उलझन, यह रणनीति आएगी काम