शाह फंसे बंगाल में, कानूनी जंग लड़नी होगी अब

शाह फंसे बंगाल में, कानूनी जंग लड़नी होगी अब

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच चल रही सियासी जंग अब कानूनी अखाड़े में भी लड़ी जाएगी। भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ममता बनर्जी बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी के खिलाफ लगातार हमलावर रुख अपना रखा है।

इससे परेशान अभिषेक बनर्जी ने अब शाह को अदालती लड़ाई में खींच लिया है। इस मामले में शाह को समन भी जारी किया गया है। इस समन के बाद साफ है कि अब शाह को अभिषेक बनर्जी के खिलाफ कानूनी जंग भी लड़नी होगी।

अभिषेक ने दायर किया मानहानि का केस
हालांकि ममता बनर्जी के भतीजे और तृणमूल के सांसद अभिषेक बनर्जी ने जिस मामले को लेकर अमित शाह के खिलाफ मानहानि का केस दायर किया वह दो 2018 का मामला है। उस समय अमित शाह ने एक रैली के दौरान अभिषेक बनर्जी पर कई गंभीर आरोप लगाए थे।

11 अगस्त 2018 को भाजपा की युवा स्वाभिमान रैली में अमित शाह ने ममता के भतीजे पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप लगाए थे। इस रैली में अमित शाह ने शारदा व रोजवैली आदि घोटालों का जिक्र करते हुए अभिषेक के भ्रष्टाचार के मामलों में लिप्त होने का आरोप लगाया था। उन्होंने भ्रष्टाचार के मामलों में ममता बनर्जी को भी घेरा था।

शाह पर छवि खराब करने का आरोप
इस मामले में अभिषेक बनर्जी ने एमपी-एमएलए की स्पेशल कोर्ट में अमित शाह के खिलाफ मानहानि का केस दायर किया है। इस केस में अमित शाह पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने इन आरोपों के जरिए उनकी छवि खराब करने की कोशिश की है। उन्होंने अमित शाह की ओर से एक और बयान का उल्लेख करते हुए मानहानि का मुकदमा दायर किया है।

इस बयान को भी बनाया आधार
इस बयान में अमित शाह ने लोगों से सवाल किया था कि मोदी जी की ओर से बंगाल के लोगों को भेजा गया पैसा आखिर कहां चला जाता है? उनका कहना था कि मोदी जी ने 359000 करोड़ रुपया भेजा मगर यह पूरा पैसा कहां चला गया।

उन्होंने सवाल किया कि क्या यह भतीजे और सिंडिकेट को गिफ्ट कर दिया गया या फिर तृणमूल कांग्रेस की भेंट चढ़ गया? मानहानि के मामले में अमित शाह के इस बयान को भी आधार बनाया गया है।

शाह को व्यक्तिगत पेशी से मिली छूट
इस केस में एमपी-एमएलए की स्पेशल कोर्ट की ओर से अमित शाह को 22 फरवरी को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया गया है। हालांकि अदालत की ओर से में शाह को व्यक्तिगत पेशी से छूट भी दी गई है। वह अपने वकील के जरिए भी अपना पक्ष रख सकते हैं। अभिषेक बनर्जी के वकील संजय बसु ने बताया कि स्पेशल कोर्ट की ओर से अमित शाह को व्यक्तिगत या अपने वकील के जरिए 22 फरवरी को सुबह दस बजे पेश होने का आदेश दिया गया है।

शाह का ममता-अभिषेक पर तीखा हमला
हाल के दिनों में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर लगातार पश्चिम बंगाल का दौरा करने वाले शाह अभी भी ममता बनर्जी और उनके भतीजे पर हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। बंगाल में परिवर्तन यात्राओं की शुरुआत के समय आयोजित रैलियों में भी उन्होंने इन दोनों पर लगातार हमले किए हैं।

उनका यह भी आरोप है कि ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में अपने भतीजे के लिए सियासी जमीन तैयार करने की कोशिश में जुटी हुई हैं। उनका मकसद पश्चिम बंगाल का विकास करना नहीं बल्कि अपनी भतीजे का विकास करना है।

तीखी होती जा रही है जुबानी जंग
पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव की तारीख से पहले ही जुबानी जंग लगातार तीखी होती जा रही है। गुरुवार को अमित शाह व ममता बनर्जी की रैलियां थी और इनमें एक-दूसरे पर तीखे वार किए गए।

ममता बनर्जी ने अपनी रैली में अमित शाह को चुनौती देते हुए कहा कि अगर उनमें हिम्मत है तो वह मेरे भतीजे उसी के खिलाफ चुनाव लड़ कर दिखाएं। दूसरी ओर अमित शाह ने भी तृणमूल कांग्रेस और ममता बनर्जी पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस को भुलाने की खूब साजिशें रची गईं मगर वे हमेशा देशवासियों के दिलों में जिंदा रहेंगे। सियासी जानकारों का मानना है कि आने वाले दिनों में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा में जुबानी जंग और तीखी होने के आसार हैं।


अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार

अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ कैंसर संस्थान को कोविड-19 के मरीजों के लिए खोले जाने का सुझाव सरकार को सोमवार ट्वीट करके दिया है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा,‘‘इस मेडिकल इमरजेंसी के दौर में सपा के समय शुरू हुआ ‘लखनऊ कैंसर संस्थान’ का विशाल परिसर पहले चरण में 750 एवं कुल 1250 बेड के लिए स्थान उपलब्ध कराएगा।‘‘

उन्होंने आगे लिखा,‘‘सपा ने डेढ़ साल में जिस कैंसर इंस्टीट्यूट को बनाया था, उसे भाजपा सरकार अपने चार साल के कार्यकाल के बाद कोविड के लिए तो खोल दे।‘‘

उल्लेखनीय है कि पिछले नवरात्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चक गंजरिया सिटी सुलतानपुर रोड पर ‘लखनऊ कैंसर संस्थान’ का लोकार्पण किया था और तब उन्होंने कहा था कि शुरुआत में इसकी क्षमता 54 बिस्तरों की है जिसे जल्द ही 750 बिस्तरों वाला कर दिया जायेगा। योगी ने कहा था कि अगले चरण में इस इंस्टीट्यूट को 1250 बेड की क्षमता का किये जाने का लक्ष्य है। 


रिद्धिमा पंडित ने बयां किया मां को खोने का दर्द       कोविड-19 से उबरने के बाद भूमि पेडनेकर बनीं ‘COVID WARRIOR'       गर्मियों में बीमारियों से बचने के लिए ध्यान रखें ये विशेष बातें       राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर-प्रोड्यूसर       अथिया शेट्टी ने किया rumoured बॉयफ्रेंड KL Rahul को बर्थडे विश       रिजिजू ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में डबल डिजिट में पदक आने की उम्मीद       कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को : संजय राउत       अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार       राज ठाकरे ने कहा कि प्रवासी मजदूर हैं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार       योगी सरकार के मंत्री ने ही लखनऊ में कोरोना हालात पर उठाए सवाल, CM पृथक-वास में       किसी वर्ग का नहीं, सबका होता है मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ       यूपी में कोरोना का कहर, योगी सरकार ने उठाए ऐहतियाती कदम       रमजान समेत अन्य त्योहारों को लेकर बोले सीएम योगी       उत्तरप्रदेश में टूटा Corona का कहर, एक दिन में मिला इतने नए केस       दिल्ली के बाद UP में भी लगा Lockdown, बंद रहेंगे सभी बाजार और दफ्तर       High Level मीटिंग के दौरान Nude दिखे कनाडा के सांसद       हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत       कोरोना वायरस रोधी टीके है कम असरदार, चीन के अधिकारी का दावा       रेप की घटनाओं पर इमरान खान का बेतुका बयान, कहा...       फ्रांस से तीन और राफेल विमान बिना रुके पहुंचे भारत