दिल्ली उच्च न्यायालय ने कोरोना वायरस के चलते लिए ये फैसला

दिल्ली उच्च न्यायालय ने कोरोना वायरस के चलते लिए ये फैसला

कोरोना वायरस व लॉकडाउन चौथे चरण को देखते हुए दिल्ली में 31 मई कामकाज नहीं होगा. दिल्ली उच्च न्यायालय ने 31 मई तक दिल्ली के सभी अधीनस्थ न्यायालयों व जिला न्यायालय के कामकाज को निलंबित कर दिया है.

इससे पहले दिल्ली उच्च न्यायालय ने निर्णय किया था कि सभी पीठ शुक्रवार से सभी प्रकार के जरूरी मामलों की वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई करेंगी. मुख्य न्यायमूर्ति डीएन पटेल समेत उच्च न्यायालय के सभी न्यायमूर्तियों ने निर्णय किया कि 22 मई से सभी सात डिविजन बेंच के अतिरिक्त 19 एकल पीठ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम सुनवाई करेंगी.

दिल्ली उच्च न्यायालय समेत निचली अदालतों ने 24 मार्च से 19 मई के लॉकडाउन के बीच 20726 जरूरी मामलों की सुनवाई की. दिल्ली उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल मनोज जैन की तरफ से जारी एक सूचना के अनुसार पीठ द्वारा उन मामलों को भी सुनवाई के लिए लिया जाएगा जिनमें जिरह अंतिम चरण में है. उन मामलों को भी इसमें शामिल किया गया है जिसमें मामलों का निपटारा करने के लिए दोनों पक्षों की सहमति के साथ लिखित बयान लिया जा चुका है. इसके साथ ही वेब लिंक के माध्यम से ज्वाइंट रजिस्ट्रार के समक्ष याचिका दायर करने की प्रक्रिया अगले आदेश तक जारी रहेगी. गैर-जरूरी मामलों को मुख्य न्यायमूर्ति के अनुसार सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया जाएगा.