कुलदीप बिश्नोई ने की जेपी नड्डा और मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात

कुलदीप बिश्नोई ने की जेपी नड्डा और मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात
  • आदमपुर विधानसभा से कांग्रेस पार्टी विधायक हैं बिश्नोई
  • राज्यसभा चुनावों में कथित तौर पर की थी क्रॉस वोटिंग
  • जिसके बाद कांग्रेस ने सभी पदों से किया था बर्खास्त

हरियाणा के सियासी समुंद्र में हलचल मचने लगी है. चर्चाओं के दौर चल पड़े हैं. कयासों और अनुमानों ने सियासी गर्मी बढ़ा दी है. और इन सबके पीछे कारण है एक आदमी की मुलाकातें. इन मुलाकातों से पक्ष और विपक्ष में बैठे सभी दलों में यह चर्चा है कि अब आगे क्या?

दरअसल यह मुलाकातें हुईं कांग्रेस पार्टी के विधायक कुलदीप बिश्नोई और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर की. उल्लेखनीय है कि बिश्नोई को राज्यसभा चुनाव में ‘क्रॉस-वोटिंग’ करने के बाद कांग्रेस पार्टी ने पार्टी के सभी पदों से बर्खास्त हटा दिया है. वहीं पिछले दो हफ्ते के भीतर यह दूसरी बार है जब बिश्नोई ने बीजेपी नेतृत्व के साथ मुलाकात की है. बिश्नोई ने 10 जुलाई को दिल्ली में जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. 

जेपी नड्डा और खट्टर से हुई मुलाकात 

दिल्ली में जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि, आसान और सहज़ व्यक्तित्व के अमीर जेपी नड्डा से आत्मीय भेंट की और वर्तमान सियासी विषय पर चर्चा हुई. उनकी आसानी और सहज़ व्यक्तित्व उन्हें सच्चे जनसेवक की पहचान दिलाती है.” 

वहीं इससे पहले एक और ट्वीट में उन्होंने बताया कि उनकी हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर से भी मुलाकात हुई. मनोहर लाल खट्टर के साथ मुलाकात पर बिश्नोई ने बोला कि उन्होंने ‘‘हरियाणा के विकास कार्य और राज्य के मौजूदा सियासी मुद्दों के संबंध में जरूरी चर्चा की.’’

इन मुलाकातों के बाद अब सियासी गलियारों में चर्चा चल पड़ी है कि क्या बिश्नोई कांग्रेस पार्टी का दामन छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले हैं? हालांकि अभी तक यह केवल एक अफवाह है और किसी भी तरफ से कोई पुष्टि नहीं की गई है.

कांग्रेस से चल रहे हैं नाराज 

चार बार के विधायक और दो बार सांसद रहे बिश्नोई हरियाणा के पूर्व सीएम भजनलाल के छोटे बेटे हैं. उल्लेखनीय है कि कांग्रेस पार्टी ने इस वर्ष की आरंभ में उन्हें हरियाणा कांग्रेस पार्टी का प्रमुख नहीं बनाया था जिसके बाद से वह नाराज बताए जा रहे थे. पार्टी ने हरियाणा की अपनी इकाई के प्रमुख के तौर पर उदयभान को नियुक्त किया था. उदयभान को पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा का करीबी माना जाता है