दिल्ली पुलिस ने कहा कि हालात कैसे भी हों, सेवा के लिए हमेशा हैं तत्पर

दिल्ली पुलिस ने कहा कि हालात कैसे भी हों, सेवा के लिए हमेशा हैं तत्पर

कोविड के हालात एक बार फिर से बेकाबू हो गए हैं, आंशिक रूप से राजधानी भी लॉकडाउन की तरफ बढ़ चुकी है। जहां एक तरफ सरकार सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क सहित गाइडलाइन के पालन के लिए सख्ती से लगी है, वहीं दिल्ली पुलिस फिर से एक बार तैयार है, सख्ती से लॉकडाउन के पालन के लिए, सोशल डिस्टेंसिंग के लिए, वहीं दिल की पुलिस बनने के लिए।

इस बार भी पुलिस आयुक्त ने पुलिस मैन्युल की गाइडलाइन से बाहर निकल कर आम लोगों की सहायता के लिए हर संभव कदम उठाने के लिए कहा है। साथ ही कोरोना की बढ़ती चेन को कैसे तोड़ा जाए और खुद भी कैसे इस संक्रमण से बचा जाए, जिसके लिए दिल्ली पुलिस ने विशेष तैयारियां भी की हैं, क्या हैं वे तैयारियां और किन इंतजामों के जरिए दिल्ली पुलिस कोविड से लड़ रही जंग, इस पर दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह से नवोदय टाइम्स के लिए संजीव यादव ने बातचीत की।

हालात काबू से बाहर हो रहे हैं, केसों की संख्या लगातार बढ़ रही है,आंशिक लॉकडाउन के बाद भी केसों में कमी नहीं दिख रही है, ऐसे में दिल्ली पुलिस के द्वारा क्या पहल की गई है। 
 

कोरोना के लगातार बढ़ते आंकड़े परेशान करने वाले हैं,राजधानी में जिस तरह से केसों की संख्या बढ़ रही है और अस्पतालों में बेड सहित संसाधनों की कमी हो रही है,ऐसे में लोगों में डर बैठने लगा है। बस यहीं से शुरू होता है दिल्ली पुलिस के दिल की पुलिस का काम। हमारा मुख्य उद्देश्य लोगों को सुरक्षा देना है, सुरक्षा केवल सड़कों पर ही नहीं बल्कि लोगों के दिलों में रहकर दी जाती है। आंशिक लॉकडाउन का परिणाम जरूर मिलेगा,लेकिन इसके लिए लोगों का सहयोग भी जरूरी है।

हमने बीते 48 घंटे इस लॉकडाउन में सख्ती भी दिखाई और दरियादिली भी। जहां हमें लगा कि सख्त लॉकडाउन के साथ लोगों के खिलाफ एक्शन लेने की जरुरत है, वहां पीछे नहीं हटे और जहां हमें लगा कि यहां सख्ती नहीं बल्कि मदद व सहायता की जरुरत है तो हमारे जवान वहां भी खड़े दिखे। दिल्ली पुलिस की ही पहल है कि राजधानी का व्यक्ति अगर मदद की सोचता है तो सबसे पहले वह दिल्ली पुलिस को अपना समझता है, जो हमारे लिए असली पुलिसिंग है। 
 

आखिर क्या कारण है कि सख्ती और लॉकडाउन के बाद भी चालानों की संख्या में कमी नहीं आई,या लोग लापरवाह हैं या फिर उन्हें किसी का डर नहीं। 
 

ये बात सही है,कोरोना किसी का दोस्त नहीं है, पुलिस आयुक्त एस.एन.श्रीवास्तव लगातार सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों से सहयोग और घर में रहने की अपील कर रहे हैं, मैं खुद और हमारी सभी अधिकारी भी लगातार लोगों को जागरुक कर रहे हैं कि बेवजह घर से बाहर न निकलें और आंशिक लॉकडाउन को सफल बनाएं। जिसमें दिल्ली के लोगों का सहयोग पूरी तरह से हमें मिला है। हां कुछ अपवाद जरुर देखने को मिले। हमें इस पर गुस्सा भी आता है,और कभी तरस भी। क्योंकि हर बाहर निकलने वाला व्यक्ति मस्ती के लिए नहीं निकल रहा।

कुछ केसों में ऐसा देखने को मिला है कि लोग वेवजह गाडिय़ां और बाइकों पर घूम रहे हंै। ऐसे लोगों के साथ पुलिस सख्ती कर रही है और एफआईआर के साथ चालान भी काट रही है। आंकड़ों के तहत ही बीते दो दिनों के पूरे आंकड़े अभी नहीं आए हैं,लेकिन मौजूदा समय तक हमने दो दिनों में 5 हजार से ज्यादा चालान काटे ,जबकि 218 से अधिक लोगों गिरफ्तार भी किया है।  

दिल्ली पुलिस का मुख्य ध्येय ही ‘सदैव आपके लिए, सदैव आपके साथ’ है, हमारे मुखिया पुलिस आयुक्त एस.एन.श्रीवास्तव खुद लगातार दिल की पुलिस मुहिम से जुड़े हुए हैं और ट्विटर हो या सोशल मीडिया का कोई भी प्लेटफार्म वे हमेशा लोगों से जुड़े रहते हैं। इसी तरह मैं हूं या कोई भी जोन का अधिकारी वह पब्लिक के बीच में 24 घंटे किसी न किसी माध्यम से रहता है।

जैसा कि हमने पिछले साल ही लाखों लोगों को भोजन, मास्क सहित रहने की व्यवस्था की थी,अगर जरुरत पड़ी तो फिर दिल्ली पुलिस आगे खड़ी रहेगी। इसी तरह पीसीआर वैन सहित हमारे सभी वाहन हमेशा पब्लिक की जरुरतों के लिए खड़े हैं। हमने इस बार हेल्पलाइन भी जारी की है, जो 24 घंटे चालू है। आप खुद देख रहे होंगे कि किस तरह से लोग हम पर विश्वास कर कॉल करते हैं,और हम उन्हें हर तरह की मदद मुहैया करवा रहे हैं। हमने बीते 2 दिनों में करीब 5 हजार से अधिक कॉल पर काम किया और हमारे जवानों और पुलिस अधिकारियों ने मदद मांगने वालों की हर सहायता ,चाहे वे एंबुलेंस के रूप में हो, चाहे वे दवाई के रूप, मास्क के रूप में, या फिर किसी बुजुर्ग और छात्र की मदद हो हम सेवा में तत्पर हैं।  

किसी भी जंग को बेहतरी से तभी लड़ा जाएगा जब आप खुद तैयार हो, इसलिए हमने सबसे पहले जो एडवाइजरी आम लोगों को दी उस पर खुद अमल किया। जिसके चलते सभी 82 हजार से अधिक पुलिस अधिकारियों और कर्मियों को एक एडवाइजरी भेजी गई है। यह एडवाइजरी एसएमएस व अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से भेजी गई है। जिसमें बताया गया है कि कोरोना फिर से बढ़ रहा है। आप यथासंभव ड्यूटी के अलावा अनावश्यक रूप से बाहर न निकलें। नियमों का पालन करें। नियमित रूप से अपने को सेनेटाइज करें। वहीं सोशल डिस्टेंस को बनाए रखने के लिए बीते एक साल में हमने जो विभाग के कार्यों का डिजीटलाइजेशन किया है,उसका फायदा अब भी हमें मिल रहा है। 70 फीसदी से ज्यादा काम ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर किया जा रहा है, जिसके चलते लोगों के बीच सोशल डिस्टेसिंग बनी रहेगी।

सबसे बड़ी बात इस बार दिल्ली पुलिस 90 फीसदी से ज्यादा जवान कोविड की पहली डोज भी ले चुके हैं, ऐेसे में उनकी इम्यूनिटी के साथ उनका आत्मविश्वास पहले से ज्यादा बढ़ा है। इसके अलावा पिछले साल ही इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए सात वेलनेस सेंटर खोले थे। जहां आयुर्वेदिक दवाओं और काढ़ा सहित किट का वितरण किया जाता है। इसके अलावा प्रत्येक थाने में प्रतिदिन दो बार सेनेटाइजेशन किया जा रहा है,बेरकें साफ की गई हैं,मास्क की कमी न हो,इसके लिए पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं।  

कोविड के साथ लॉ आर्डर और लोगों की सुरक्षा भी करनी है, गत दिनों पहले कुछ आपराधिक वारदातें देखी गई, जिसमें कई गैंगों के नाम सामने आए, लेकिन दिल्ली पुलिस ने हर अपराध के नेक्सस को तोड़ा है,और केसों को साल्व किया है। पुलिस आयुक्त का साफ तौर पर निर्देश है कि किसी भी प्रकार के अपराध को बर्दाश्त नहीं किया जाए चाहे वह स्ट्रीट क्राइम हो या बच्चों के अपहरण या महिलाओं के खिलाफ कोई अपराध हो। इसका परिणाम है कि हाल के दिनों में कई ऐसे पुलिस एक्शन हैं, जिसमें तीन माह के दौरान ही हमने 327 बड़े गैंगस्टरों को जेल भेजा,1 गैंगस्टर को एनकाउंटर में मार गिराया है। गत दिनों एक कुख्यात अपराधी इलाज के बहाने अस्पताल पहुंच साथियों की मदद से फरार हो गया था। पर इस दौरान भी कार्रवाई में एक को पुलिस ने मार गिराया था व एक को दबोच लिया था। वहीं उस कुख्यात अपराधी को भी 60 घंटों के अंदर तलाश कर मुठभेड़ में मार गिराया था।


कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं

कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं

नई दिल्‍ली: कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) महामारी के शुरुआती दौर से ही इसकी पड़ताल जारी है लोगों को बचाने के लिए हिंदुस्तान और पूरे विश्व में लगातार अध्ययन हो रहे हैं जिनके नतीजे साइंस जर्नल और अन्य प्लेटफार्म पर प्रकाशित होते रहते हैं ऐसे में हाल ही में आई कुछ रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 वैक्सीन ( कोरोना वैक्सीन ) की पहली डोज लेने के बाद भी कुछ लोग कोविड-19 पॉजिटिव (Covid 19 Positive) हो रहे हैं मेडिकल एक्सपर्ट्स ने इसे ‘ब्रेकथ्रू केस’ नाम दिया है हालांकि अपने देश की बात करें तो इस मुद्दे में भारतीय लोग अधिक भाग्यशाली हैं क्योंकि हिंदुस्तान में ऐसे मुद्दे एकदम कम हैं  

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की स्डटी के अनुसार हिंदुस्तान में इस तरह के ‘ब्रेकथ्रू केस’ का आंकड़ा केवल 0.05 परसेंट ही है वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार यदि वैक्सीन की पहला डोज लगने के बाद कोई संक्रमित हो जाता है तो इसका ये मतलब नहीं है कि वो दूसरी डोज नहीं ले सकता है ऐसे लोगों को केवल इस बात का ध्यान रखना होगा कि दूसरी डोज का अंतराल संक्रमण से ठीक यानी कोविड निगेटिव होने के बाद कम से कम चार से आठ सप्ताह के बीच होना चाहिए

 

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार ऐसे लोग जिनमें कोविड-19 संक्रमण के सक्रिय लक्षण हों या वो लोग जिनके शरीर में Covid-19 के विरूद्ध एंटीबॉडी हो उनके लिए दूसरी डोज लगवाने से पहले 4 से 8 सप्ताह का गैप महत्वपूर्ण है वहीं प्लाज्मा ले चुके लोगों के साथ अधिक बीमार या फिर दूसरी रोंगों से ग्रस्त लोगों के लिए भी वैक्सीन की दूसरी डोज लेने में एक महीने से दो महीने का गैप रखा जाना चाहिए

दरअसल एक्सपर्ट्स का मानना है कि वैक्सीन की कार्यप्रणाली का भी अपना प्रभाव होता है सभी की सुरक्षा लगातार और बेहतर होती रहे इस पर अध्ययन जारी है   वैक्सीन की पहली डोज लेने ते बाद भी यदि कोविड-19 संक्रमण हो जाए तो इसमें घबराने की आवश्यकता नहीं है


चीन ने जनसंख्या वृद्धि रोकने में हासिल की कामयाबी, लेकिन...       US सिक्योरिटी ने किए नष्ट, गोबर के उपले लेकर अमेरिका पहुंचा एक भारतीय शख्स       Italy की इस महिला को एक ही बार में लगे Pfizer Covid-19 Vaccine के 6 डोज       कोविड-19 वायरस के भारतीय स्ट्रेन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने माना खतरनाक, कहा...       'इस्लाम को रियायत मिलने से फ्रांस को खतरा'       कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर भारतीय प्रस्ताव के समर्थन में विश्व स्वास्थ्य संगठन , चीफ साइंटिस्ट ने कहा...       साइबर हमले के बाद अमरीकी फ्यूल पाइपलाइन जल्द हो सकती है शुरू       अमेरिका में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों को लगेगी वैक्सीन       विदेश मंत्रालय ने कहा कि ईरान के ऑफिसरों ने सऊदी के साथ द्विपक्षीय मुद्दों पर सीधी वार्ता की पुष्टि की       गाजा पर रॉकेट से हमला, 20 लोग मारे गए       भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित, कहा...       कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं       बीते 24 घंटे में 3.29 लाख नए केस आए, 3876 मरीजों ने गंवाई जान       योगी सरकार के कोविड प्रबंधन का कायल हुआ डब्‍ल्‍यूएचओ       देश में अब तक 17.27 करोड़ से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन       अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिक विनेश कालरा का मृत्यु       जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखी पांच पन्नों की चिट्ठी, कहा...       कोविड-19 मुद्दे में केन्द्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को दी अति उत्साह में निर्णय ना लेने की सलाह, कहा...       Ghazipur में गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से मचा हड़कंप       राहुल का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला, कहा...