एनसीआर का पहला डबल डेकर फ्लाईओवर

एनसीआर का पहला डबल डेकर फ्लाईओवर

दिल्ली मेट्रो फेज-4 के मौजपुर-मजलिस पार्क कॉरिडोर पर दिल्ली-एनसीआर का पहला डबल डेकर फ्लाईओवर बनेगा. नीचे सड़क और फ्लाईओवर पर वाहन गुजरेंगे तो ऊपर ट्रैक पर मेट्रो में यात्रियों को यात्रा का मौका मिलेगा. करीब 1.4 किमी के दायरे में चल रहे इस निर्माण कार्य को पूरा होने से उत्तर पूर्व दिल्ली की 10 से अधिक कॉलोनियों से प्रतिदिन आवागमन करने वाले हजारों वाहन चालकों को राहत मिलेगी

जानकारों के अनुसार इससे प्रतिदिन वाहन चालकों को करीब आधे घंटे बचेगा. साथ ही रास्ते पर एक साथ करीब तीन गुना अधिक वाहन जा सकेंगे. पिंक लाइन पर मेट्रो विस्तार के अनुसार यह राष्ट्र का पहला रिंग कॉरिडोर भी होगा. अगले वर्ष के अंत तक इस कॉरिडोर पर मेट्रो परिचालन की तैयारी है.

दिल्ली के उत्तर पूर्वी दिल्ली में लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) और दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के योगदान से भजनपुरा और यमुना विहार मेट्रो स्टेशन के बीच एकीकृत संरचना को तैयार किया जा रहा है. इसके तैयार होने से उत्तर पूर्वी दिल्ली से प्रतिदिन दिल्ली के भिन्न भिन्न कोने तक पहुंचना बहुत आसान हो जाएगा.

एकीकृत संरचना के अनुसार मेट्रो जमीन से 18.5 मीटर की ऊंचाई पर चलेगी वहीं निचले हिस्से में 9.5 मीटर की ऊंचाई पर फ्लाईओवर पर वाहनों की आवाजाही होगी. नीचे बनी सड़क और फ्लाईओवर पर वाहनों की साथ आवाजही होगी. वहीं तीसरे लेवल पर मेट्रो का परिचालन होगा.  फिलहाल यहां निर्माण के लिए पिलर लगाने के साथ गर्डर रखने का काम किया जा रहा है. मेट्रो पुल की चौड़ाई करीब 10.5 मीटर जबकि तीन लेन के फ्लाईओवर की चौड़ाई करीब 10 मीटर होगी. 12.5 किमी के मौजपुर-मजलिस पार्क कॉरिडोर पर पिंक लाइन के विस्तार किया जा रहा है. इससे यात्रियों को दिल्ली के किसी भी कोने में रिंग कॉरिडोर के जरिये सीधी कनेक्टिविटी मिलेगी.

आठ मेट्रो स्टेशन के बीच दौड़ेगी ड्राइवरलेस मेट्रो
इस कॉरिडोर पर यमुना विहार, भजनपुरा, खजूरी खास, सोनिया विहार, सूरघाट, जगतपुर गांव, झड़ौदा माजरा और बुराड़ी सहित कुल 8  एलिवेटेड स्टेशनों से यात्रियों को मेट्रो की सुविधा मौजूद होगी. फेज-4 के इस कॉरिडोर पर सबसे पहले मेट्रो परिचालन की आरंभ होगी. खास बात यह है कि परिचालन की आरंभ के कुछ दिन बाद इस कॉरिडोर पर भी चालक रहित (ड्राइवरलेस) मेट्रो दौड़ेगी.  


श्रद्धालुओं के लिए देवदूत बने NDRF के जवान

श्रद्धालुओं के लिए देवदूत बने NDRF के जवान

Char Dham Yatra: केदारनाथ यात्रा पर आ रहे यात्रियों के लिए एनडीआरएफ के जवान देवदूत की किरदार में नजर आ रहे हैं जवान जहां बुजुर्ग यात्रियों की सहायता के लिए आगे आ रहे हैं, वहीं यात्रियों को यहां की विकट परिस्थितियों के प्रति भी सजग रहने की अपील कर रहे हैं ताकि यात्रियों को कोई परेशानी न हो सके इसके अतिरिक्त पीआरडी व होमगार्ड के जवान भी तीर्थयात्रियों की हर संभव सहायता में जुटे हुए हैं पैदल मार्ग पर तीर्थयात्रियों के पैर फिसलने के बाद खाई में गिरने की सूचना मिलते ही शीघ्रता से रेस्क्यू कार्य कर रहे हैं

बीमार लोगों की कर रहे मदद

केदारनाथ यात्रा पड़ावों पर जनपद पुलिस के साथ ही पैरामिलिट्री फोर्स और एनडीआरएफ के जवान अहम किरदार में नजर आ रहे हैं सहायक सेनानायक एनडीआरएफ अजय पन्त के नेतृत्व में यह टीम कार्य कर रही है यात्रा पड़ाव लिनचोली के पास गुरुवार को एक 81 वर्षीय स्त्री जो कि लो ब्लड प्रेशर और हाइपोथर्मिया के कारण परेशान थी उसका रेस्क्यू कर एनडीआरएफ टीम ने डीडीआरएफ और उसके परिजनों के सुपुर्द किया

बच्चे को इमरजेंसी में पहुंचाया मेडिकल रिलीफ सेंटर 

एसडीआरएफ के योगदान से एक आदमी को इमरजेंसी में हेलीपैड तक ले जाया गया केदारनाथ धाम यात्रा पर आए एक जोड़ा, जिनका छोटा बच्चा अचानक बुखार से तपने वे काफी परेशान थे एनडीआरएफ टीम ने बच्चे को प्राथमिक इलाज देकर नजदीकी मेडिकल रिलीफ सेंटर पर ले गए, जहां पर बालक को स्वास्थ्य फायदा मिलने पर उनके गंतव्य के लिए रवाना किया गया चारधाम यात्रा पर आए एक यात्री का बैग छानी कैंप के पास छूट गया

यात्रा मार्ग पर तैनात टीम ने बैग को चौकी प्रभारी लिनचोली के सुपुर्द किया, जिस पर पुलिस ने अनाउंसमेंट से बैग को संबंधित यात्री तक पहुंचाया इसके अतिरिक्त यात्रा मार्ग पर चलने वाले श्रद्धालुओं को यहां की परिस्थितियों के अनुरूप आवश्यक दिशा-निर्देश देने के साथ ही उन्हें सहारा देकर सहायता पहुंचाई जा रही है, जिसका श्रद्धालु भी आभार प्रकट कर रहे हैं

खाई में गिरी स्त्री को सकुशल निकाला

वहीं दूसरी ओर पीआरडी एवं होमगार्ड के जवान भी तीर्थयात्रियों की हर संभव सहायता में जुटे हुए हैं रेस्क्यू कार्यो में पुलिस के साथ कंधे से कंधा होमगार्ड एवं पीआरडी के जवान तत्परता से कार्य कर रहे हैं पुलिस चौकी जंगल चट्टी के नजदीक गुरुवार को एक वृद्ध स्त्री रेलिंग का सहारा लेने पर बैलेंस न बना पाने के कारण नीचे खाई में जा गिरी

इस पर जंगल चट्टी ड्यूटी में नियुक्त पुलिस जवान प्रवीण नौडियाल एवं होमगार्ड के केशर सिंह रावत के नेतृत्व में पीआरडी व डीडीआरएफ के जवानों ने रेस्क्यू कर स्त्री को खाई से सकुशल निकाला स्त्री को प्राथमिक इलाज दिलाने के बाद गन्तव्य के लिए रवाना किया गया