यशवंत सिन्हा के नामांकन में विपक्ष के कई बड़े नेता भी होंगे शामिल

यशवंत सिन्हा के नामांकन में विपक्ष के कई बड़े नेता भी होंगे शामिल

नयी दिल्ली सुबह की बड़ी समाचार के अनुसार, आज संयुक्त विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) 27 जून को अपना नामांकन दाखिल करेंगे. वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यशवंत सिन्हा के नामांकन में विपक्ष के कई बड़े नेता भी शामिल होंगे. वहीं समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बताया कि, वे नामांकन में शामिल के लिए दिल्ली जाएंगें. हालांकि आज भी ममता बनर्जी का यशवंत सिन्हा के नामांकन में उपस्थित रहने पर बहुत बड़ा संशय बना हुआ है. वहीं आज कांग्रेस पार्टी सांसद राहुल गांधी भी सिन्हा के नामांकन में पहुँच सकते हैं.

कांग्रेस के कई कद्दावर होंगे मौजूद 

आज नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद यशवंत सिन्हा संसद भवन में महात्मा गांधी और बीआर आंबेडकर की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण करेंगे और फिर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करेंगे. 

आज इस मौके पर कांग्रेस पार्टी के जयराम रमेश और मल्लिकार्जुन खड़गे, राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार, तृणमूल कांग्रेस पार्टी के सौगत रॉय और तापस रॉय, सपा के सांसद राम गोपाल यादव, द्रमुक के तिरुचि शिवा, ए राजा और गोवी चेजियान और वाम मोर्चा के वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी और डी राजा उपस्थित होंगे . 

TRS का यशवंत सिन्हा को समर्थन

वहीं TRS ने अब यशवंत सिन्हा का समर्थन देने का घोषणा किया है. आज यानी सोमवार को नामांकन के दौरान केसीआर के बेटे और कैबिनेट मंत्री के टी रामाराव उपस्थित रहेंगे. इसके अतिरिक्त पार्टी के पांच सांसद भी नामांकन के दौरान यहां उपस्थित रहने वाले हैं.

बता दें कि, बीते शुक्रवार को सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने पीएम मोदी सहित बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था. वहीं मुर्मू के साथ नामांकन दाखिल करने के दौरान बीजेपी के वरिष्ठ नेता अमित शाह, राजनाथ सिंह, जे.पी. नड्डा, कई राज्यों के सीएम और सहयोगी दलों के नेता भी मौके उपस्थित थे.

नियमों के मुताबिक राष्ट्रपति पद के नामांकन के लिए प्रत्येक सेट में निर्वाचित प्रतिनिधियों के बीच से 50 प्रस्तावक और 50 अनुमोदक भी होने चाहिए. इस बार चुनाव जीतने पर द्रोपदी मुर्मू राष्ट्र की पहली आदिवासी और दूसरी स्त्री राष्ट्रपति होंगी.