नागरिकता संशोधन कानून के विरूद्ध जारी प्रदर्शन के बीच हुई धार्मिक स्थल के पास पत्थरबाजी

नागरिकता संशोधन कानून के विरूद्ध जारी प्रदर्शन के बीच हुई धार्मिक स्थल के पास पत्थरबाजी

नागरिकता संशोधन कानून के विरूद्ध जारी प्रदर्शन के बीच बीते रविवार को अलीगढ़ में दो स्थान ऊपरकोट, शाहजमाल व देहलीगेट इलाके में उपद्रव मच गया था। 

जिसमें सबसे पहले देहलीगेट में प्रदर्शनकारियों की भीड़ में शामिल कुछ उपद्रवियों ने धार्मिक स्थल के पास पत्थरबाजी की। वहीं, मौके पर पहुंचे पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने लोगों को समझाकर मुद्दा शांत करने की प्रयास भी की। विरोध के चलते शाम 6 बजे से रात 12 बजे तक के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया। यह दिल्ली के जाफराबाद के पास मौजपुर में दो गुटों के बीच पथराव हुआ था।

पहले अलीगढ़ में सीएए के विरोध प्रदर्शन में ऊपरकोट क्षेत्र में हुई थी। यहां प्रदर्शनकारियों की भीड़ में सम्मलित कुछ युवकों ने पुलिस की जीप पर पथराव किया व ट्रांसफार्मर को आग भी लगा दी। जिसके पश्चात् पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया व आंसू गैस के गोले छोड़े गए। वहीं, अलीगढ़ डीएम चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि- सबकुछ सामान्य स्थिति में था। बीते शनिवार को भी जामा मस्जिद के इमाम से बात की जा चुकी थी। परन्तु, रविवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की कुछ छात्राओं ने माहौल बिगाड़ने की प्रयास की है। उनकी पहचान की जा रही है। सार्वजनिक संपति को जो नुकसान हुआ है, उसकी क्षतिपूर्ति उपद्रवियों से की जाएगी।

प्रदर्शनकारी स्त्रियों ने बोला कि जब तक केन्द्र सरकार सीएए को वापस नहीं लेती है, यह प्रदर्शन जारी रहेगा। मौजपुर में पथराव के पश्चात् बड़ी संख्या में स्त्रियों ने सीएए के समर्थन में धरना शुरू कर दिया, जो कि कुछ देर पश्चात् समाप्त भी हो चुका है। वहीं, स्त्रियों ने चेतावनी देते हुए बताया कि जाफराबाद-शाहीनबाग से आने वाले तीन दिन में सड़कें खाली नहीं कराई गईं तो हम फिर प्रदर्शन शुरू करेंगे। स्त्रियों के प्रदर्शन के चलते दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने जाफराबाद स्टेशन पर मेट्रो ट्रेनों के रुकने पर रोक लगा दी है। वहीं, मेट्रो स्टेशन में आने-जाने के गेट बंद कर दिए थे। इसी के साथ सलीमपुर को यमुना विहार व मौजपुर से जोड़ने वाली सड़कें भी बंद हो चुकी हैं। प्रदर्शनकारी महिलाएं हाथों में तिरंगा लेकर आजादी के नारे लगा रही हैं।