सत्ता में आने पर खत्म करेंगे अल्पसंख्यक आरक्षण

सत्ता में आने पर खत्म करेंगे अल्पसंख्यक आरक्षण

तेलंगाना में एक प्रकार से चुनावी बिगुल फूंकते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कथित करप्शन के लिए राज्य की तेलंगाना देश समिति (टीआरएस) गवर्नमेंट पर जमकर धावा बोला और उस पर चुनावी वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाया उन्होंने आरोप लगाया कि चंद्रशेखर राव तेलंगाना को बंगाल बनाना चाहते हैं उन्होंने वादा किया कि भाजपा के सत्ता में आने पर अल्पसंख्यक आरक्षण को समाप्त करेगी

शाह ने बोला कि बीजेपी (बीजेपी) अगले वर्ष होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है उन्होंने साल 2023 के चुनाव में भाजपा के राज्य की सत्ता में आने का भरोसा जतायाबीजेपी की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष बंडी संजय कुमार की पदयात्रा के दूसरे चरण के समाप्ति अवसर पर आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने मतदाताओं से टीआरएस को हराने की अपील की और अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में मतदान का आह्वान किया

यात्रा हैदराबाद के निजाम को बदलने की यात्रा है
शाह ने बोला कि प्रजा संग्राम यात्रा हैदराबाद के निजाम को बदलने की यात्रा है, जोकि परिवारवाद की मानसिकता के खिलाफ भी है सीएम चंद्रशेखर राव पर निशाना साधते हुए शाह ने जनसभा में कहा, क्या हमे तेलंगाना के निजाम को बदलने की आवश्यकता है या नहीं?

टीआरएस गवर्नमेंट पर अलग तेलंगाना आंदोलन के प्रमुख मुद्दों जल, कोष और नौकरियां को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए शाह ने बोला कि यदि भाजपा राज्य की सत्ता में आयी तो इन वादों को पूरा किया जाएगा

तेलंगाना को बंगाल बनाना चहाते हैं राव
बीजेपी के वरिष्ठ नेता शाह ने आरोप लगाया कि टीआरएस गवर्नमेंट का चुनाव निशान गाड़ी है, जिसका स्टेयरिंग एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी के हाथ में है शाह ने आरोप लगाया कि सीएम चंद्रशेखर राव तेलंगाना को बंगाल बनाना चाहते हैं उन्होंने बोला कि तेलंगाना की चंद्रशेखर राव गवर्नमेंट ने मोदी गवर्नमेंट की योजनाओं के नाम बदलने के अतिरिक्त कुछ नहीं किया

एससी, एसटी, ओबीसी कोटा बढ़ाएंगे
शाह ने बोला कि ये यात्रा अरबों-खरबों का करप्शन करने वाली टीआरएस पार्टी को उखाड़ फेंकने की यात्रा है उन्होंने यह भी बोला कि उनकी पार्टी राज्य में अल्पसंख्यक आरक्षण को खत्म करेगी और अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए कोटा बढ़ाएग


योगी सरकार ने पेश किया सबसे बड़ा बजट

योगी सरकार ने पेश किया सबसे बड़ा बजट
  • सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने बजट को ‘आंकड़ों का मकड़जाल’ करार दिया.
  • मायावती ने बजट को जनता की आंखों में धूल झोंकने वाला और घिसा-पिटा बताया है.
  • योगी गवर्नमेंट ने 6,15,518.97 करोड़ रुपये का बजट पेश किया है जो अब तक का सबसे बड़ा बजट है.

सपा के सुप्रीमो अखिलेश यादव ने यूपी गवर्नमेंट की योगी आदित्यनाथ गवर्नमेंट द्वारा 2022-23 के लिए विधानसभा में पेश बजट को ‘आंकड़ों का मकड़जाल’ करार दिया. वहीं, सूबे की पूर्व सीएम मायावती ने बजट को जनता की आंखों में धूल झोंकने वाला और घिसा-पिटा बताया है. अखिलेश ने बजट को आंकड़ों का मकड़जाल करार देते हुए बोला कि बीजेपी गवर्नमेंट के इस छठे बजट में सब कुछ घटा है. बजट पर अखिलेश ने कहा, ‘प्रदेश की भाजपा गवर्नमेंट के पिछले 5 वर्ष में जनता को केवल छल मिला है.

‘बजट तो छठा है लेकिन इसमें सबकुछ घटा है’

सपा सुप्रीमो ने आगे कहा, ‘बीजेपी गवर्नमेंट का यह छठा बजट भी आंकड़ों का मकड़जाल है. यह बजट तो छठा है लेकिन इस बजट में सब कुछ घटा है.’ बता दें कि योगी गवर्नमेंट के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट के अनुसार वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने विधानसभा में वित्त साल 2022—23 के लिये 6,15,518.97 करोड़ रुपये का बजट पेश किया है. यह प्रदेश का अब तक का सबसे बड़ा बजट है. हालांकि अखिलेश ने इसे गलत बताते हुए कहा, ‘तालियां तो बज रही हैं मगर यह दिल्ली के बजट को जोड़कर बनाया गया बजट है.

‘गांवों में अब भी बड़े पैमाने पर रोजगार नहीं’
अखिलेश ने कहा, ‘अब भी समाजवादी पार्टी गवर्नमेंट के काम ही दिख रहे हैं. जिस गवर्नमेंट ने बोला था कि 2022 में किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी, आज हम 2022 में हैं, छठवां बजट पेश हुआ है, क्या हमारे किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी? जिस ढंग से महंगाई बढ़ी है और लगातार बढ़ रही है, उससे राहत के लिये इस बजट में कुछ भी नहीं है. इस बजट से गांवों में उदासी है. नौजवान जो आशा लगा कर बैठा था कि उसे जॉब और रोजगार मिलेगा. आंकड़ों में तो दिखाई दे रहा है कि जॉब और रोजगार दिया गया है मगर जमीन पर गांव में अब भी बड़े पैमाने पर नौजवानों के पास रोजगार नहीं है.

‘जनता की आंख में धूल झोंकने का खेल कब तक’
वहीं, बसपा सुप्रीमो मायावती ने बजट को ‘घिसा-पिटा’ और जनता की आंख में धूल झोंकने वाला करार दिया है. मायावती ने सिलसिलेवार ट्वीट कर बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बोला कि उत्तर प्रदेश गवर्नमेंट का बजट प्रथमदृष्टया घिसा पिटा है. मायावती ने ट्वीट किया, ‘उत्तर प्रदेश के करोड़ों लोगों के जीवन में थोड़े अच्छे दिन लाने के लिए कथित डबल इंजन की गवर्नमेंट द्वारा जो बुनियादी कार्य अहमियत के आधार पर किए जाने चाहिए थे, वे कहां किए गए. साफ है कि नीयत नहीं है तो फिर वैसी नीति कहां से बनेगी. जनता की आंख में धूल झोंकने का खेल कब तक चलेगा?’