केन्द्र सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए उठाए यह अहम कदम

केन्द्र सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए उठाए यह अहम कदम

कोरोना वायरस के देश में बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए केन्द्र सरकार ने कमर कस ली है. इसके लिए लॉकडाउन के दौरान सभी सार्वजनिक स्थलों को साफ किया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके लिए रविवार को एक परामर्श जारी किया है. 

इसमें उन स्थानों के बारे में बताया गया है जिन्हें इस अवधि के दौरान साफ किया जाना है.

जानकारी के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को कार्यालयों सहित सार्वजनिक स्थानों को संक्रमणमुक्त करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इसके साथ ही बुजुर्गों के लिए ‘क्या करें व क्या न करें’ का परामर्श जारी किया है.

मंत्रालय ने बोला है कि जिन क्षेत्रों में कोविड-19 के मुद्दे सामने आए हैं, वहां के सार्वजनिक स्थानों को संक्रमणमुक्त किया जाना है. मंत्रालय ने बोला कि बाहरी क्षेत्रों में हवा के प्रवाह व सूर्य की लाइट पड़ने के कारण अंदरूनी क्षेत्रों की तुलना में कम जोखिम होता है.

कौन सी जगहें, कैसे करनी होंगी साफ

  • दिशानिर्देशों में साफ बोला गया है कि बस स्टॉप, रेलवे प्लेटफॉर्म, पार्क, सड़कों को साफ किया जाएगा. सफाई व संक्रमणमुक्त करने के प्रयासों में जल्दी दूषित होने वाली जगहों का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए.
  • स्वच्छता कर्मियों को शौचालय के लिए अलग सफाई उपकरण व सिंक व कमोड के लिए अलग सफाई उपकरण का उपयोग करना चाहिए. उन्हें हमेशा शौचालय की सफाई करते समय निस्तारित किए जा सकने वाले सुरक्षात्मक दस्ताने पहनने चाहिए.
  • दिशा-निर्देशों में यह भी बोला गया है कि अंदर के क्षेत्रों जैसे कि प्रवेश द्वार लॉबी, गलियारे व सीढ़ियां, एस्केलेटर, लिफ्ट, सुरक्षा गार्ड बूथ, मीटिंग कक्ष, कैफेटेरिया व अधिक उपयोग वाली चीजें जैसे कि लिफ्ट के बटन, रेलिंग/हैंडल व फोन के बटन को एक फीसदी सोडियम हाइपोक्लोराइट या फेनोलिक युक्त कीटाणुनाशक से साफ किया जाना चाहिए.
  • दिशा-निर्देशों में बोला गया है कि सफाईकर्मियों को सफाई व संक्रमणमुक्त करने का काम करते समय सुरक्षात्मक उपकरण पहनना चाहिए.

लॉकडाउन के दौरान बुजुर्ग क्या करें व क्या नहीं?

  • बुजुर्गों के लिए मंत्रालय ने सलाह दी है कि वह पूर्ण रूप से घर पर रहें. क्योंकि उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने व पुरानी बीमारी होने के कारण कोविड-19 संक्रमण का खतरा अधिक है.
  • मंत्रालय की ओर से बुजुर्गों के लिए जारी किए गए परामर्श में बोला गया है कि व्यायाम व ध्यान करें. अपनी दैनिक निर्धारित दवाएं नियमित रूप से लें. 
  • अपने परिवार के सदस्यों से बात करें, कॉल या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रिश्तेदारों, दोस्तों से बात करें. 
  • यदि आवश्यक हो तो परिवार के सदस्यों की मदद लें. अपनी गैरजरूरी सर्जरी (यदि कोई हो) को स्थगित कर दें.
  • परामर्श में यह भी बोला गया है कि नियमित जाँच के लिए अस्पताल जाने से परहेज करें, भीड़भाड़ वाली जगहों जैसे पार्क, मार्केट व अन्य धार्मिक स्थलों पर जाने से बचें.