भारतीय गैर-बासमती चावल ने चाइना को झुकाया गुठनों पर, जाने कैसे ?

भारतीय गैर-बासमती चावल ने चाइना को झुकाया गुठनों पर, जाने कैसे ?

चाइना ने दो वर्ष के अंतराल के बाद भारतीय चावल का आयात प्रारम्भ किया है। भारतीय निर्यातकों की ओर से दूसरे राष्ट्रों की तुलना में प्रतिस्पर्धी दाम की पेशकश के बाद इस पड़ोसी देश ने 5,000 टन गैर-बासमती चावल के आयात का ऑर्डर दिया है। अखिल भारतीय चावल निर्यातक संघ (एआईआरईए) ने यह जानकारी दी है।

दुनिया में चावल का प्रमुख निर्यातक देश भारत
हिंदुस्तान दुनिया में चावल का प्रमुख निर्यातक देश है, जबकि चाइना सबसे बड़ा आयातक देश है। साल 2006 में, चाइना को भारतीय चावल के लिए मार्केट पहुंच प्रदान की गई थी, लेकिन उसकी तरफ से आयात वित्तवर्ष 2017-18 के दौरान ही हो पाया। चाइना ऐसे समय हिंदुस्तान से चावल की खरीद कर रहा है जब दोनों राष्ट्रों के बीच सीमा पर तनाव की स्थिति है। एआईआरईए के कार्यकारी निदेशक विनोद कौल ने कहा, ‘हालांकि साल 2006 में मार्केट पहुंच दी गई थी, लेकिन चाइना ने वित्तवर्ष 2017-18 में लगभग 974 टन गैर-बासमती चावल का आयात किया। अब दो सालों के अंतरराल के बाद हमसे आयात के लिए पूछताछ प्रारम्भ हुई है। ’

चीन ने हिंदुस्तान को दिया 5,000 टन चावल का ऑर्डर
विनोद कौल ने बोला कि वित्तवर्ष 2020-21 में अक्टूबर तक 150 टन तक बासमती चावल का निर्यात किया गया है। पिछले दो महीनों में, चाइना ने दक्षिण हिंदुस्तान से लगभग 5,000 टन टुकड़े वाले गैर-बासमती चावल के आयात के लिए आर्डर दिए हैं। टूटे चावल का उपयोग नूडल्स के साथ-साथ वाइन उद्योग में भी किया जाता है। कौल ने बोला कि चाइना ने हिंदुस्तान से चावल खरीदने में दिलचस्पी दिखाना प्रारम्भ कर दिया है। उन्होंने बोला कि यह इसलिए है क्योंकि पड़ोसी देश थाईलैंड और वियतनाम जैसे अपने अन्य आयात स्थलों पर Covid-19 के मद्देनजर उत्पादन और व्यापार के प्रभावित होने की वजह से सीमित आपूर्ति की स्थिति का सामना कर रहा है

इसके अलावा, हिंदुस्तान मौजूदा समय में दुनिया के अन्य राष्ट्रों की तुलना में प्रतिस्पर्धी कीमतों की पेशकश कर रहा है। एआईआरईए के अनुसार, हिंदुस्तान ने चालू वित्त साल की अप्रैल-अक्टूबर अवधि में 28 लाख टन बासमती चावल और 61 लाख टन गैर-बासमती चावल का निर्यात किया है। वित्तवर्ष 2019-20 में, कुल बासमती चावल का निर्यात रिकॉर्ड 40 लाख टन और गैर-बासमती चावल का निर्यात 50 लाख टन का हुआ था।


तेजी से फैला बर्ड फ्लू: मारे जाएंगे 9 जिलों में पक्षी

तेजी से फैला बर्ड फ्लू: मारे जाएंगे 9 जिलों में पक्षी

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के 9 जिलों में बर्ड फ्लू का कहर तेजी से बढ़ा है। शनिवार को केंद्र ने जिलों में कुक्कुट पक्षियों में बर्ड फ्लू को लेकर पुष्टि की है। ऐसे में मध्य प्रदेश एंव छत्तीसगढ़ के एक-एक जिले में कुक्कुट पक्षियों को मारने का अभियान भी चल रहा है। केंद्र सरकार ने बर्ड फ्लू के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि कुक्कुट पक्षियों के अलावा उत्तराखंड, गुजरात और उत्तर प्रदेश में कौवां में तथा दिल्ली में कबूतर, ब्राउन फिश उल्लू और सारस में इस संक्रमण की पुष्टि हुई है।

बर्ड फ्लू या एवियन इंफ्लूएंजा फैला
ऐसे में केंद्र सरकार ने कुक्कुट उत्पादों की बिक्री पर पाबंदी लगाने के अपने निर्णय पर पुनर्विचार करने तथा गैर संक्रमित क्षेत्रों/राज्यों से कुक्कुट उत्पादों की बिक्री की इजाजत देने का अनुरोध किया है। बता दें, भारत में खासकर सितंबर से मार्च तक सर्दियों के चलते आने वाले प्रवासी पक्षियों से बर्ड फ्लू या एवियन इंफ्लूएंजा फैला है। ये एक पशुजन्य बीमारी है।

हालातों को देखते हुए बर्ड फ्लू की स्थिति पर नवीनतम आंकड़े जारी करते केंद्रीय मात्स्यिकी, पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय ने कहा कि शनिवार तक महाराष्ट्र के लातूर, परभनी, नांदेड़, पुणे, सोलापुर, यवतमाल, अहमदनगर, बीड और रायगढ़ जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है।

साथ ही उसने कहा कि मुम्बई के केंद्रीय कुक्कुट विकास संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, आम तौर पर कुक्कुट की मौत फार्म पर पायी गयी। इन नमूनों को निर्धारित प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा गया है।

कानपुर में कौवों में बर्ड फ्लू की पुष्टि
इस पर उसने कहा कि इसके अलावा मध्यप्रदेश के छत्तरपुर जिले, गुजरात के सूरत, नवसारी और नर्मदा जिलों, उत्तराखंड के देहरादून जिले और उत्तर प्रदेश के कानपुर में कौवों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है।

आगे कहा कि इसके अतिरिक्त दिल्ली में नजफगढ़ में कबूतर और ब्राउन फिश उल्लू एवं रोहिणी में सारस में एवियन इंफ्लूएंजा पाया गया। मंत्रालय ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बालोद में कुक्कुट पंछियों को मारने का काम चल रहा है। मध्यप्रदेश में भी त्वरित कार्रवाई दलों को तैनात किया गया है। हर्दा जिले में मुर्गियां मारी जा रही हैं।

ऐसे में सरकार ने कहा कि देश के प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति की निगरानी के लिए बनाये गये केंद्रीय दल प्रभावित स्थलों का दौरा कर रहा है और चीजों का अध्ययन कर रहे हैं। जिससे जल्द से जल्द स्थितियां काबू में आ जाएं।


UP में फिर चली तबादला एक्सप्रेस, 15 IAS अधिकारियों का ट्रांसफर       कोरोना वैक्सीनेशन पर रोक, पहले चरण के बाद सरकार का बड़ा फैसला       तेजी से फैला बर्ड फ्लू: मारे जाएंगे 9 जिलों में पक्षी       13 साल की बच्ची के साथ 9 लोगों ने 3 दिन किया रेप       पीएम मोदी ने 8 लग्जरी ट्रेनों को दिखाई हरी झंड़ी, Statue Of Unity जुड़ा रेल नेटवर्क से       चीन ने यहां चुपके से बना दी कई KM लंबी नई सड़क       राज्य की सभी सीटों पर रथयात्राएं निकालेगी पार्टी, ममता के खिलाफ BJP का मेगा प्लान       गिरफ्तार चीनी नागरिक, चला रहे करोड़ों का फर्जी कारोबार       NIA के एक्शन पर भड़के किसान नेता, सिंघु बॉर्डर पर बैठक में लेंगे बड़ा फैसला!       नई कविता के नायक विद्रोही कवि हरिवंश राय बच्चन       विदेश मंत्री जयशंकर और राहुल गांधी में हुई तीखी बहस       ‘दीदी’ की चहेती शताब्दी रॉय के बदले सुर, कहा...       अभी अभी: आग-धमाके से दहला देश, पटरी पर दौड़ी जलती ट्रेन       जीत गया भारत, वैक्सीनेशन अभियान हुआ सफल       जल्दी हटाईये इसे, लोन देने वाले 453 ऐप्स को गूगल ने किया बैन       इस खिलाड़ी ने ब्रिस्बेन टेस्ट में किया डेब्यू       भारतीय खिलाड़ी हुए परेशान, ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों की बदतमीजी       ऐसी महान टेनिस खिलाड़ी, जिन्होंने कम उम्र में बनाए इतने खिताब       वाॅशिंगटन ने स्मिथ को ऐसे किया आउट, बताया...       इस खिलाड़ी के पिता का निधन, खिलाड़ियों के घर शोक