आंदोलन कर रहे किसानों ने केन्द्र सरकार को राजधानी की सड़को पर दी यह बड़ी धमकी

आंदोलन कर रहे किसानों ने केन्द्र सरकार को राजधानी की सड़को पर दी यह बड़ी धमकी

आंदोलन कर रहे किसानों ने बुधवार को बोला कि नए कृषि कानूनों (Farm Laws) को निरस्त करने के लिए केन्द्र सरकार (Central Government) को संसद (Parliament) का विशेष सत्र आहूत करना चाहिए और यदि मांगें नहीं मानी गयीं तो राष्ट्रीय राजधानी की और सड़कों को अवरुद्ध किया जाएगा

 क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि केन्द्र विरोध प्रदर्शन को पंजाब केंद्रित आंदोलन के तौर पर दिखाना चाहता है और किसान संगठनों में फूट डालने का कार्य कर रहा है उन्होंने बोला कि नए कानूनों के विरूद्ध भविष्य के कदमों पर निर्णय के लिए देश के दूसरे भागों के किसान संगठनों के प्रतिनिधि भी किसान संयुक्त मोर्चा में शामिल होंगे

पाल ने बोला कि किसान संगठनों के प्रतिनिधि गुरुवार को होने वाली मीटिंग में केंद्रीय मंत्रियों को बिंदुवार अपनी असहमति से अवगत कराएंगे उन्होंने कहा, ‘‘तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए केन्द्र को संसद का विशेष सत्र आहूत करना चाहिए हम तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने तक अपना आंदोलन जारी रखेंगे ’’

और कदम उठाएंगे किसान
किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने बोला कि यदि केन्द्र तीनों नए कानूनों को वापस नहीं लेगा तो किसान अपनी मांगों को लेकर आनें वाले दिनों में और कदम उठाएंगे संवाददाता सम्मेलन के पहले करीब 32 किसान संगठनों के नेताओं ने सिंघू बॉर्डर पर मीटिंग की जिसमें भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत भी शामिल हुए

केन्द्र और आंदोलन कर रहे किसान संगठनों के बीच मंगलवार को हुई बातचीत बेनतीजा रही और आगे अब तीन दिसंबर को फिर से बातचीत होगी

किसानों के संगठनों ने उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर गौर करने के लिए एक समिति बनाने के सरकार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया और बोला कि मांगें पूरी नहीं होने पर वे अपना आंदोलन और तेज करेंगे

पाल ने बताया, ‘‘हमारी मीटिंग के बाद राकेश टिकैत जी को सरकार ने मंगलवार को मीटिंग के लिए बुलाया था वह हमारे साथ हैंयह पंजाब केंद्रित आदोलन नहीं है बल्कि समूचे देश के किसान इससे जुड़े हैं नए कृषि कानूनों के विरूद्ध हमें केरल, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और अन्य राज्यों के किसानों का भी समर्थन मिला है ’’ उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार नहीं चाहती थी कि संयुक्त किसान मोर्चा के मेम्बर योगेंद्र यादव केंद्रीय मंत्रियों और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों की मंगलवार को हुई बातचीत में शामिल हों

उन्होंने कहा, ‘‘योगेंद्र यादव जी ने हमसे बोला कि बातचीत की प्रक्रिया बंद नहीं होनी चाहिए . इसके बाद ही हम केंद्रीय मंत्रियों के साथ मीटिंग में शामिल हुए मंगलवार को हुई मीटिंग में हम देश भर के किसानों के प्रतिनिधि के तौर पर गए हमने किसान संगठनों में फूट डालने की षड्यंत्र असफल कर दी ’’

पंजाब और हरियाणा के किसान पिछले एक हफ्ते से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं . बुधवार को प्रदर्शनकारियों की संख्या में और वृद्धि हुआ


हरियाणा में बजट सत्र से पहले चाचा-भतीजा और हुड्डा के बीच गर्माएगी सियासत

हरियाणा में बजट सत्र से पहले चाचा-भतीजा और हुड्डा के बीच गर्माएगी सियासत

हरियाणा में किसान आंदोलन के बीच चल रही सियासत के बीच गठबंधन सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने और इस्तीफा देने को लेकर जंग छिड़ गई है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा जहां वर्तमान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने पर अड़े हैं। वहीं, इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने 27 जनवरी को इस्तीफा देने का मन बना लिया है। अभय के इस्तीफे के साथ ही सियासत गर्माएगी, क्योंकि अभय का यह मानना है कि उनके बाद कई और विधायक इस्तीफा देने के लिए मजबूर होंगे।

अभय का मानना है कि जो विधायक ऐसा नहीं करेंगे, उन्हें अपने हलके में जनता का सामना करना मुश्किल होगा जिसमें सबसे ज्यादा परेशानी जजपा के नेताओं को होगी। सरकार में उपमुख्यमंत्री और रिश्ते में भतीजे दुष्यंत चौटाला का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि जो लोग देवीलाल के नाम पर किसानों को गुमराह करके सत्ता में आए हैं उनके लिए जवाब देना मुश्किल हो जाएगा।

इनेलो नेता ने कहा कि इनका भविष्य तो इस आंदोलन ने तय कर दिया है। मैंने विधानसभा में कहा था कि जो लोग इस बिल को ठीक कहेंगे उनकी तीन पीढ़ियां गांव में पंच बनने की भी हकदार नहीं रहेंगी।

जजपा वाले भाजपा में शामिल होंगे
अभय चौटाला ने कहा कि जजपा के जो लोग लूट खसोट में शामिल हैं और जिनकी फाइलें तैयार हो गई हैं, वे लोग आने वाले समय में भाजपा में शामिल होंगे। जबकि इनेलो काडर के लोग जो भ्रमित हो गए थे, वे आने वाले समय में वापस इनेलो में लौट आएंगे।

दुष्यंत से लेकर उनके पिता तक को मैने चुनाव लड़वायां
अभय ने कहा कि मुझे नान सीरियस पॉलीटीशियन कहने वाले दुष्यंत से यह पूछो कि उन्हें एमपी का पहला चुनाव किसने लड़वाया था। उनके पिता अजय चौटाला को डबवाली से चुनाव किसने लड़वाया था। जब ओम प्रकाश चौटाला टिकट नहीं देना चाहते थे, तब मैने रातों रात फैसला करवा कर अजय को डबवाली से टिकट दिलवा कर चुनाव लड़वाया था।

हुड्डा को पहले लाना चाहिए था अविश्वास प्रस्ताव
उन्होंने कहा कि पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा अब सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर अड़े हैं। उन्हें अविश्वास प्रस्ताव पहले लाना चाहिए था।

मैं बजट सत्र के पहले दिन अविश्वास प्रस्ताव लेकर आऊंगा। हमने तो इस विषय में राज्यपाल से भी मिलने का समय मांगा है।
भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पूर्व सीएम हरियाणा

अभय चौटाला नॉन सीरियस पॉलीटीशियन हैं। जहां तक हुड्डा के अविश्वास प्रस्ताव का सवाल है वह उन्हें सदन में खुद पता चल जाएगा कि वे कहां स्टैंड करते हैं।
दुष्यंत चौटाला, उप मुख्यमंत्री हरियाणा


दक्षिण अफ्रीका में कोरोना से मरने वालों की अंत्येष्टि के लिए अधिक पैसे ले रहे पुजारी       तमिलनाडु: सीबीआई ने रिश्वत कांड में श्रम अधिकारी सहित दो लोगों को किया गिरफ्तार       यूएई ने इस्राइल में दूतावास स्थापित करने को दी मंजूरी       इमरान खान को नवाज शरीफ के बेटे ने दी चुनौती, कहा- 'भ्रष्टाचार के सबूत करें पेश'       आसमान छूती महंगाई के बीच सीरिया ने जारी किया 5000 पाउंड का नया नोट       पद की गरिमा भूल बेशर्मी पर उतरे अफसर, युवती से फोन पर की अश्लील बातें, ऑडियो वायरल       हरियाणा में बजट सत्र से पहले चाचा-भतीजा और हुड्डा के बीच गर्माएगी सियासत       अभिनेता आर्मी हैमर ने शेयर किया 'हिंसक' वीडियो, पुलिस ने चेतावनी देकर छोड़ा       ‘दीवार’ में बनते बनते रह गई देव आनंद और राजेश खन्ना की जोड़ी, 786 का ये है असली कनेक्शन       अक्षय के बाद इस सुपरस्टार ने राम मंदिर निर्माण के लिए दिया योगदान, जानिए कितनी की मदद       शादी के बंधन में बंधे वरुण धवन और नताशा दलाल, दूल्हा दुल्हन की पहली तस्वीर आई सामने       जीएसटी फर्जी बिल धोखाधड़ी में ढाई महीने में आठ सीए समेत 258 लोग गिरफ्तार       एन्युटी प्लान : रिटायरमेंट के बाद पेंशन के साथ रिटर्न पाने का मौका       चीन के ब्रह्मपुत्र पर बांध बनाने से भारत से छिड़ सकती है पानी के लिए जंग       पीएम नरेंद्र मोदी ने युवाओं से की कोरोना टीकाकरण पर झूठ के ‘नेटवर्क’ को हराने की अपील       भारतीय मूल के अमेरिकी डॉक्टर ने किया आगाह, कहा- 'लगातार रूप बदल रहा कोरोना वायरस, रहना होगा तैयार'       भारत की जीत के बाद गावस्कर ने खास अंदाज में मनाया था जश्न, कहा...       पाकिस्तान के खिलाड़ियों को बड़ी टीमों के खिलाफ कैसे खेलना है, बाबर आजम ने बताया       अब आएगा इस स्पिनर का टाइम, ऑस्ट्रेलिया में नहीं खेल पाए एक भी मैच       इन दिग्गजों का नाम है शामिल, Ind vs Eng टेस्ट सीरीज के लिए कमेंट्री टीम का ऐलान!