ट्रंप का ट्विटर अकाउंट बंद होने के बाद चर्चा में ये भारतीय महिला

ट्रंप का ट्विटर अकाउंट बंद होने के बाद चर्चा में ये भारतीय महिला

न्यूयार्क: डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट बीती 8 जनवरी को संस्पेंड कर दिया गया। उनके ऊपर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के सहारे दंगाइयों को उकसाने का आरोप लगा था। ट्रंप का ट्विटर अकाउंट संस्पेंड होने के बाद से एक भारतवंशी महिला चर्चा में आ गयीं। दरअसल, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट स्थायी रूप से निलंबित करने के अभूतपूर्व फैसले के पीछे माइक्रोब्लॉगिंग साइट की शीर्ष अधिवक्ता विजया गड्डे की भूमिका प्रमुख थी।

यह फैसला अमेरिकी संसद भवन में निवर्तमान राष्ट्रपति के समर्थकों के हमले की घटना के बाद लिया गया था। इस फैसले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई भारतीय मूल की विजया गड्डे ने। विजया 45 साल की गड्डे माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर की कानूनी नीति की हेड हैं। साथ ही वे ट्विटर की पब्लिक पॉलिसी, ट्रस्ट एंड सेफ्टी पॉलिसी को भी हेड करती हैं।

शुक्रवार को किया था ऐलान
बीते शुक्रवार को विजया गड्डे ने ट्वीट किया कि डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंट को ”और हिंसा के जोखिम को देखते हुए ट्विटर से स्थायी रूप से निलंबित किया जाता है”। बता दें कि जब डोनाल्ड ट्रंप का अकाउंट निलंबित किया गया उस वक्त उनके 8.87 करोड़ फॉलोवर थे। वहीं ट्रंप खुद 51 लोगों को फॉलो करते थे।

कौन हैं विजया गड्डे?
विजया गड्डे भारतीय मूल की महिला हैं। उनका जन्म हैदराबाद में हुआ था। जन्म के बाद वे अपने माता-पिता के साथ अमेरिका चली गईं। यहीं उनकी पढ़ाई भी पूरी हुई। गड्डे ने न्यूयॉर्क यूनीवर्सिटी स्कूल ऑफ लॉ से ज्यूरिस डॉक्टर की डिग्री और कॉर्नेल यूनीवर्सिटी से इंडस्ट्रियल एंड लेबर रिलेशन में बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री हासिल की।

विजया गड्डे की ट्विटर प्रोफाइल देखने पर पता चलता है कि ट्विटर में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संभालने से पहले वह ज्यूनिपर नेटवर्क्स में काम करती थीं। ज्यूनिपर नेटवर्क्स अमेरिका की एक मल्टीनेशनल कंपनी है। गड्डे यहां पर लीगल डिपार्टमेंट की सीनियर डॉयरेक्टर थीं। वह न्यूयार्क यूनिवर्सिटी लॉ स्कूल के ट्रस्टी बोर्ड में भी रह चुकी हैं। उनका बचपन टेक्सास और न्यूजर्सी में बीता है।


ट्रंप समर्थकों के डर से ट्विटर कर्मियों ने अपने अकाउंट किए लॉक, अधिकारियों को दी गई व्यक्तिगत सुरक्षा

ट्रंप समर्थकों के डर से ट्विटर कर्मियों ने अपने अकाउंट किए लॉक, अधिकारियों को दी गई व्यक्तिगत सुरक्षा

अमेरिका में सत्ता परिवर्तन की प्रक्रिया में ट्रंप समर्थकों के संसद परिसर (कैपिटल हिल) में हिंसक प्रदर्शन के बाद इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म के कर्मचारी भी खौफ में हैं। ट्रंप का अकाउंट लॉक करने के बाद ट्विटर के तमाम कर्मचारियों ने उनके समर्थकों की प्रतिक्रिया के भय से अपने अकाउंट लॉक कर दिए हैं। कई अधिकारी ऐसे हैं, जिन्हें ट्विटर ने व्यक्तिगत सुरक्षा प्रदान की है। ट्विटर को आशंका है कि उसके अधिकारियों और कर्मचारियों को ट्रंप समर्थक ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से निशाना बना सकते हैं।

ज्ञात हो कि 8 जनवरी को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट स्थायी रूप से बंद कर दिया गया था। अपने समर्थकों को हिंसा के लिए प्रेरित करने और लगातार कई ट्वीट करने के बाद अमेरिकी संसद कैपिटल हिल में ट्रंप समर्थकों के हिंसक प्रदर्शन के बाद ट्विटर ने यह निर्णय लिया था।


ट्रंप का अकाउंट बंद करने को लेकर दायर की गई थी आंतरिक याचिका

हिंसा के बाद तीन सौ ट्विटर कर्मचारियों ने कंपनी में साझा हस्ताक्षर करते हुए अकाउंट बंद करने के लिए आंतरिक याचिका दी थी। ट्रंप का अकाउंट बंद करने को लेकर सीइओ जेक डोरसे पहले राजी नहीं थे। बाद में ट्रंप ने जब लगातार कई ऐसे ट्वीट किए जो समर्थकों को भड़काने वाले थे, तब वे इस निर्णय से सहमत हुए। जेक डोरसे ने कहा कि यह निर्णय लेते हुए हमें अच्छा नहीं लगा, लेकिन निर्णय सही समय पर लिया गया।


ट्विटर के अनुसार वाशिंगटन स्थित

कैपिटल हिल पर हिंसा के बाद सत्तर हजार से ज्यादा अकाउंट बंद किए गए। हिंसा की वारदातों को रोकने के लिए ऐसा जरूरी था।


पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका में मोर्चा खोलेंगे सिंधी, 350 मील तक निकाला जाएगा मार्च       ट्रंप समर्थकों के डर से ट्विटर कर्मियों ने अपने अकाउंट किए लॉक, अधिकारियों को दी गई व्यक्तिगत सुरक्षा       रंगोली बनाकर हुआ बाइडन और हैरिस का स्वागत, 1800 से ज्यादा लोगों ने लिया हिस्सा       तिब्बत पर कानून बनाकर अमेरिका ने दी चीन को चुनौती, भारत को चीन से वार्ता में मिलेंगे ज्यादा विकल्प       उपराष्ट्रपति पेंस ने निर्वाचित राष्ट्रपति को किया आगाह, कहा...       अमेरिकी संसद हमले में कहीं चीन, रूस और ईरान का तो नहीं है हाथ, FBI कर रही छानबीन       कोरोना वैक्‍सीन को लेकर चीन की ओर मुंह ताक रहा पाकिस्‍तान, भारत ने मारी बाजी       पाकिस्तान में सरकारी एजेंसियां कर रहीं मानवाधिकारों का उल्लंघन, सीनेट उपाध्यक्ष करेंगे अंतरराष्ट्रीय संगठनों से संपर्क       पाकिस्‍तान के जब्त विमान के मामले में ब्रिटेन और मलेशिया कोर्ट में पेश होगा पीआइए       इमरान पर कार्रवाई नहीं करने से चुनाव आयोग पर भड़के शरीफ, लगाया बड़ा आरोप       पांच महीने जर्मनी में इलाज कराकर रूस लौटते ही पुतिन के कटु आलोचक नवलनी हुए गिरफ्तार, जानें       ईरान बना रहा है विध्‍वंसक परमाणु हथियार, फ्रांस के विदेश मंत्री ने किया सनसनीखेज खुलासा       शपथ ग्रहण को लेकर वाशिंगटन बुलाए गए हजारों सैनिक, जानें       चीन की कुटिल वैक्‍सीन डिप्‍लोमेसी के खिलाफ भारत ने खींची लंबी रेखा       एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर ईयू की आपत्ती, रूस से जल्द रिहा करने की अपील       महाराष्ट्र, हरियाणा में मुर्गियों को मारने का सिलसिला जारी       सूरत से कोलकाता जा रहा इंडिगो विमान का भोपाल में इमरजेंसी लैंडिंग       कानून रद करने के अलावा विकल्प बताएं किसान संगठन, 10वें दौर की वार्ता 19 को : कृषि मंत्री       केंद्र सरकार ने बदली रणनीति, अब हर राज्य के लिए कोविड टीकाकरण के दिन तय, जानें       कोविड वैक्‍सीन के हल्‍के दुष्‍प्रभावों को लेकर डरने की जरूरत नहीं, जानें