ट्रंप पर महाभियोग, US उपराष्ट्रपति पेंस का समर्थन

ट्रंप पर महाभियोग, US उपराष्ट्रपति पेंस का समर्थन

वाशिंगटन: अमेरिका के निवर्तमान उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने देश के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कार्यालय से हटाने के लिए संविधान के 25वें संशोधन को लागू करने से इनकार कर दिया। पेंस ने प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी को लिखे पत्र में कहा, ‘हमारे संविधान के तहत, 25वां संशोधन सजा देने या अधिकार छीनने का जरिया नहीं है इस प्रकार से 25वां संशोधन लागू करना खराब उदाहरण  रहेगा। पेलोसी और प्रतिनिधि सभा पेंस और कैबिनेट पर दबाव बना रहे थे कि वे राष्ट्रपति के हजारों समर्थकों द्वारा यूएस कैपिटल(संसद भवन) में छह जनवरी को हमला किए जाने के मद्देनजर ट्रंप को पद से हटाने की कार्रवाई करें।

  महाभियोग के प्रस्ताव पर बहस शुरू
उधर अमेरिकी संसद में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के प्रस्ताव पर बहस शुरू हो गयी है। रिपब्लिकन सीनेटर्स ने भी ट्रंप को हटाने के समर्थन में वोट करने का ऐलान कर दिया है। ट्रंप को 25वें संशोधन के जरिए हटाने का प्रस्ताव मैरीलेंड के डेमोक्रेट रिप्रेजेंटेटिव जेमी रस्किन ने पेश किया था। प्रस्ताव के अनुसार पेंस और अन्य कैबिनेट मेम्बर्स को सेक्शन 4 और 25वें अमेडमेंट का इस्तेमाल कर तुरंत ट्रंप को हटा देना चाहिए।

पेंस ने ख़त में लिखा कि ये किसी भी देश के लिए सबसे शर्म की बात है कि कोई चुना हुआ राष्ट्रपति अपना कार्यकाल न पूरा कर पाए और उसे निकाल दिया जाए। डेमोक्रेट्स की मांग थी कि ट्रंप को हटाकर शपथ ग्रहण तक पेंस कार्यकारी राष्ट्रपति बनाकर जिम्मेदारी संभाले। पेंस ने स्पष्ट कहा कि ट्रंप के कार्यकाल में अब सिर्फ 8 दिन बचे हैं और आप डेमोक्रेट्स चाहते हैं कि मैं राष्ट्रपति को हटाने के लिए 25वें संशोधन का इस्तेमाल करूं।

ट्रंप को हटाने वाली प्रस्‍ताव में कहा गया है कि ट्रंप ने अपने समर्थकों को कैपिटल बिल्डिंग (संसद परिसर) की घेराबंदी के लिए तब उकसाया, जब वहां इलेक्टोरल कॉलेज के मतों की गिनती चल रही थी और लोगों के धावा बोलने की वजह से यह प्रक्रिया बाधित हुई। इस घटना में एक पुलिस अधिकारी समेत पांच लोगों की मौत हो गई।

ट्रंप ने कहा-हिंसा नहीं चाहते
अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा कि महाभियोग की संभावनाओं की वजह से देश में  खासा गुस्सा पैदा  हो रहा है लेकिन वह ‘हिंसा नहीं चाहते हैं। टैक्सास में मेक्सिको से लगती सीमा पर दीवार के मुआयने के लिए जाने से पहले राष्ट्रपति ने संवाददाताओं से बात की थी।  ट्रंप का सीधा इशारा हाल में ही एफबीआई और यूएस नेशनल गार्ड की हिंसा के आशंका वाले बयान के तरफ है।

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैन्सी पेलोसी के नेतृत्व में डेमोक्रेटिक सांसद पहले ही विद्रोह को उकसावा देने के लिए ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के प्रस्ताव को पेश कर चुके हैं।  जिसके बाद कार्यवाही को आगे बढ़ने के लिए डेमोक्रेटिक सांसदों ने ट्रंप की पार्टी रिपब्लिकन के सांसदों का सहयोग भी मांगा है डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के पहले ऐसे राष्ट्रपति बन गए हैं जिनके एक कार्यकाल में दो बार महाभियोग प्रस्ताव लाया गया है।

अवैध आव्रजन के खिलाफ अपने अभियान
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को पिछले सप्ताह कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) में उनके कथित उकसावे के चलते हिंसक भीड़ के घुसने संबंधी घटना की जिम्मेदार लेने से इंकार किया। ट्रंप ने कहा, ‘ लोग सोचते हैं कि जो भी मैंने कहा था वो पूरी तरह सही था।’ कैपिटल में हुई हिंसा के बाद पहली बार सार्वजनिक रूप से सामने आए ट्रंप ने यह टिप्पणी की।

वह अवैध आव्रजन के खिलाफ अपने अभियान के लिए मंगलवार को टेक्सास के लिए रवाना होने वाले थे। हालांकि, उनके कार्यकाल के केवल आठ दिन शेष हैं और दूसरी तरफ संसद में उनके खिलाफ दूसरी बार महाभियोग प्रस्ताव लाने की कवायद जारी रही थी। ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि ‘असली समस्या’ उनकी बयानबाजी नहीं थी, बल्कि डेमोक्रेट्स द्वारा ‘ब्लैक लाइव मैटर’ के प्रदर्शनों और सिएटल एवं पोर्टलैंड में इस गर्मी में हुई हिंसा के संबंध में किया गया वर्णन, बयानबाजी थी।


एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर ईयू की आपत्ती, रूस से जल्द रिहा करने की अपील

एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर ईयू की आपत्ती, रूस से जल्द रिहा करने की अपील

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के कटु आलोचक एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर यूरोपियन यूनियन ने नाराजगी जताई है। यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल ने रूसी अधिकारियों से विपक्ष के नेता एलेक्सी नवलनी को रिहा करने का आग्रह किया है। नवलनी को कैद की उनकी निलंबित सजा की शर्तों के कथित उल्लंघन करने को लेकर गिरफ्तार किया गया है। नवलनी 20 अगस्त को साइबेरिया से मास्को जाने के दौरान एक विमान में गंभीर रूप से बीमार पड़ गये और कोमा में चले गये थे।

मिशेल ने ट्वीट किया, 'मॉस्को पहुंचने पर एलेक्सेई नवलनी की हिरासत अस्वीकार्य है। मैं रूसी अधिकारियों से उन्हें तुरंत रिहा करने की अपील करता हूं।' रविवार को जर्मनी की राजधानी बर्लिन से इलाज कराकर रूस वापस लौटते ही नवलनी को गिरफ्तार कर लिए गया था। रूसी अधिकारियों ने पहले ही साफ कर दिया था कि एक पुराने मामले में उनकी गिरफ्तारी हो सकती है।

एलेक्सेई नवलनी को अगस्त में जहर दिया गया था, जिसके चलते वह गंभीर रूप से बीमार पड़ गये थे और बेहतर इलाज के लिए उन्हें जर्मनी ले जाया गया था। उन्होंने इस घटना के लिए क्रेमलिन (रूस के राष्ट्रपति भवन) को जिम्मेदार ठहराया था। नवलनी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर आरेाप लगाया कि वह उन्हें नये कानूनी प्रस्तावों द्वारा अब घर लौटने से रोक रहे हैं। क्रेमलिन ने विपक्ष के नेता को जहर देने में अपनी भूमिका होने की बात से बार-बार इनकार किया है।

दिसंबर के अंत में संघीय कारागार सेवा ने यह मांग की थी कि नवलनी गबन और धन शोधन के आरोपों में 2014 में दोषी ठहराये जाने को लेकर एक निलंबित सजा के मामले में उसके कार्यालय में रिपोर्ट करें। साथ ही, चेतावनी दी थी कि उपस्थित होने में नाकाम रहने पर उन्हें जेल में डाल दिया जाएगा


चीन की कुटिल वैक्‍सीन डिप्‍लोमेसी के खिलाफ भारत ने खींची लंबी रेखा       एलेक्सेई नवलनी की गिरफ्तारी पर ईयू की आपत्ती, रूस से जल्द रिहा करने की अपील       महाराष्ट्र, हरियाणा में मुर्गियों को मारने का सिलसिला जारी       सूरत से कोलकाता जा रहा इंडिगो विमान का भोपाल में इमरजेंसी लैंडिंग       कानून रद करने के अलावा विकल्प बताएं किसान संगठन, 10वें दौर की वार्ता 19 को : कृषि मंत्री       केंद्र सरकार ने बदली रणनीति, अब हर राज्य के लिए कोविड टीकाकरण के दिन तय, जानें       कोविड वैक्‍सीन के हल्‍के दुष्‍प्रभावों को लेकर डरने की जरूरत नहीं, जानें       वृष राशि के जातक को नौकरी में मिलेंगे नए अवसर, जानें आज का राशिफल       20 हजार से भी कम कीमत में मिल रही ये स्मार्ट TV, जानें फीचर्स       सर्दियों में खूब खाएं अमरूद, बढ़ेगी रोग-प्रतिरोधक क्षमता       शेन वॉर्न ने ऋषभ पंत का उड़ाया मजाक       Bigg Boss 14: दर्दनाक हादसे में टैलेंट मैनेजर की मौत       चीन ने यहां चुपके से बना दी कई KM लंबी नई सड़क, भारत के लिए खतरे की घंटी       राज्यों में बरसेगा कहर, और बढ़ेगी ठंड चलेगी बर्फीली हवा       कांग्रेस ने वैक्सीन धंधे पर सरकार को घेरा, बेल्जियम को सस्ती तो भारत में महंगी क्यों?       CBI का बड़ा एक्शन, रेलवे में भ्रष्टाचार का खुलासा!       वैक्सीन पर आखिर क्यों हो रहा है विवाद, जानें       कर्नाटक में गरजे अमित शाह, वैक्सीन पर कांग्रेस को घेरा       झारखंड सरकार का सिर दर्द बने पारा शिक्षक       अब fastag को whatsapp से करें ऑर्डर, जानें