कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्‍तान बेचने जा रहा अर्जेंटीना को 12 लड़ाकू विमान

कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्‍तान बेचने जा रहा अर्जेंटीना को 12 लड़ाकू विमान

कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्तान अब लड़ाकू जेट बेचने वाला है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो अर्जेंटीना पाकिस्तान से 12 जेएफ-17ए ब्लॉक-3 लड़ाकू विमान खरीदने की योजना बना रहा है। पाकिस्‍तान के जियो टीवी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अर्जेंटीना ने आधिकारिक तौर पर 2022 के मसौदा बजट में पाकिस्तान से 12 पीएसी जेएफ-17 ए ब्लॉक 3 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए 66.4 करोड़ डॉलर की धनराशि शामिल की है।

अर्जेंटीना ने अभी तक बिक्री समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए

समाचार रिपोर्ट में कहा गया है कि बजट देश की संसद में पेश किया गया है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि सौदे को अंतिम रूप दे दिया गया है क्योंकि अर्जेंटीना ने अभी तक बिक्री समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं, लेकिन यह पाकिस्तान से लड़ाकू विमान खरीदने की देश की मंशा को दर्शाता है। अर्जेंटीना ने पिछले कुछ वर्षों में दुनिया के कुछ अन्य देशों से जेट खरीदने की कोशिश की थी, लेकिन धन की कमी या ब्रिटिश आपत्तियों के कारण हमेशा संभव नहीं हो सका।


कई भूमिकाओं के लिए इस्‍तेमाल किया जाने वाला लड़ाकू विमान है जेएफ- 17

हाल ही में पिछले साल ब्रिटेन ने अर्जेंटीना को दक्षिण कोरियाई लड़ाकू विमानों की बिक्री पर रोक लगा दी थी। अर्जेंटीना के रक्षा मंत्री ने ट्विटर पर 'माल्विनास अर्जेंटीनास' पोस्ट करने से पहले इस कदम को ब्रिटिश इम्पीरियल प्राइड के रूप में वर्णित किया। यूके डिफेंस जर्नल के अनुसार, जेएफ- 17 थंडर पाकिस्तान एयरोनॉटिकल कॉम्प्लेक्स और चीन के चेंगदू एयरक्राफ्ट कॉरपोरेशन द्वारा संयुक्त रूप से विकसित एकल इंजन वाला कई भूमिकाओं के लिए इस्‍तेमाल किया जाने वाला लड़ाकू विमान है।

बिल्डरों का कहना है कि जेएफ-17 को इंटरसेप्शन, ग्राउंड अटैक, एंटी-शिप और हवाई टोही सहित कई भूमिकाओं के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि जेएफ-17 एयरफ्रेम के आधे से अधिक, जिसमें इसके फ्रंट फ्यूजलेज, विंग्स और वर्टिकल स्टेबलाइजर शामिल हैं, का उत्पादन पाकिस्तान में होता है, वहीं चीन में 42 फीसदी का उत्पादन होता है। लड़ाकू विमान की आखिरी असेंबली पाकिस्तान में होती है।


छत तोड़कर बिस्तर पर जा गिरा उल्का पिंड, डर से महिला का हुआ बुरा हाल

छत तोड़कर बिस्तर पर जा गिरा उल्का पिंड, डर से महिला का हुआ बुरा हाल

आधी रात को ब्रिटिश कोलंबिया में रहने वाली रुथ हैमिल्टन की नींद हल्के धमाके की आवाज के साथ खुली। उन्हें अंदाजा भी नहीं था कि हुआ क्या है। छत में एक सुराग दिखाई दे रहा था। हैमिल्टन ने तुरंत आपातकालीन नंबर पर फोन कर जानकारी दी। उसके बाद उन्हें जो पता चला, वह किसी आश्चर्य से कम नहीं था। उनके बिस्तर पर ठीक उनके तकिए के पास एक उल्कापिंड गिरा था।

यह घटना तीन अक्टूबर की है। उस घटना को याद कर हैमिल्टन सिहर उठती हैं। छत में सुराग करते हुए करीब सवा किलो का उल्का पिंड उनके चेहरे से कुछ ही दूरी पर गिरा था। इसके बाद पूरी रात वह नहीं सो पाई थीं। यूनिवर्सिटी आफ वेस्टर्न ओंटारियो के प्रोफेसर पीटर ब्राउन ने पुष्टि की है कि हैमिल्टन के बिस्तर पर उल्का पिंड ही गिरा था। यह घटना इंटरनेट मीडिया पर भी वायरल हो रही है। वैसे तो हर घंटे कोई न कोई उल्का पिंड धरती की ओर आता है। इनमें से ज्यादातर पृथ्वी के वातावरण में प्रवेश करते ही नष्ट हो जाते हैं और कुछ नीचे गिर जाते हैं। वैज्ञानिक अध्ययन के दृष्टिकोण से इन्हें अहम माना जाता है। कई बार इनकी अच्छी खासी बोली भी लगती है।


पूरा घटनाक्रम-

महिला की जान उस वक्त खतरे में आ गई, जब वह अपने बिस्‍तर पर सो रही थी। दरअसल, उसके बिस्तर पर अचानक से अंतरिक्ष (Space) से एक उल्‍कापिंड आ गिरा। गनीमत रही कि यह उल्‍कापिंड महिला से कुछ इंच की दूरी पर गिरा, जिसके चलते उसे कोई नुकसान नहीं हुआ। लेकिन इस हादसे से महिला बेहद डर गई थी। उल्‍कापिंड घर की छत में छेद करते हुए महिला के बगल में गिरा था।


गनीमत रही कि इस खौफनाक घटना में हैमिल्‍टन बाल-बाल बच गई. उसने इमरजेंसी सर्विस को फोन किया और पता लगाने की कोशिश की। ये पत्थरनुमा चीज कहां से आई थी. बाद में पता चला कि पत्थरनुमा चीज उल्‍कापिंड थी. यानी कि हैमिल्‍टन के घर पर उल्‍कापिंड गिरा था।