इमरान खान की देशवासियों से भावुक अपील, कहा...

इमरान खान की देशवासियों से भावुक अपील, कहा...

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देशवासियों को आगाह किया है कि यदि उन्‍होंने कोरोना महामारी के प्रति लापरवाही दिखाई तो देश में इतने मामले होंगे कि जिसको संभाल पाना भी मुश्किल हो जाएगा। देशवासियों को दिए अपने एक संदेश में उन्‍होंने कहा कि कोरोना से बचाव का केवल एक ही तरीका है। वो ये कि इसको लेकर पूरी एहतियात बरतें। मुंह पर मास्‍क लगाएं और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से परहेज करें। एक दूसरे से दूरी बनाए रखें और हाथ और मुंह को साबुन से धोते रहें।

इमरान ने इस दौरान ये भी कहा कि उन्‍होंने पूरा एक साल सभी तरह की एहतियात बरतीं। इस दौरान न तो उन्‍होंने बाहर खाना खाया और न ही किसी से मिले। इस तरह से वो इतने समय तक इस महामारी की चपेट में आने से बचे रहे। लेकिन जैसे ही वो सीनेट चुनाव को लेकर लोगों के बीच गए तो एक दूसरे से दूरी बनाने का नियम काम नहीं कर सका। इस दौरान वो कई लोगों से मिले जिसका नतीजा हुआ की वो कोरोना पॉजीटिव हो गए।


पाकिस्‍तान के पीएम ने कहा कि देश की आर्थिक हालत ऐसी नहीं है कि फिर से जगह जगह लॉकडाउन लगाया जाए। ऐसा हुआ तो देश बर्बादी के कगार पर पहुंच जाएगा जिससे निकलना भी मुश्किल होगा। उन्‍होंने बेहद साफ शब्‍दों में लोगों से कहा कि यदि वो भी इस तरह की लापरवाही करेंगे तो कोरोना संक्रमितों की संख्‍या को सरकार बढ़ने से नहीं रोक सकेगी। वहीं देश की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं इस आपात स्थिति का सामना नहीं कर सकेंगी। इसलिए सभी एहतियात बरतें।

पाकिस्‍तान के पीएम ने कुछ दिन पहले ही खैबर पख्‍तूंख्‍वां में एक यूनिवर्सिटी के नए ब्‍लॉक का उदघाटन करते समय कहा था कि देश पर हजारों करोड़ का कर्ज है। इस कर्ज को काफी कुछ उतार दिया गया है लेकिन अब भी देश पर इतना कर्ज बकाया है। कर्ज चुकाने के लिए भी पाकिस्‍तान को कर्ज लेना पड़ा है। उन्‍होंने इस बात को भी स्‍वीकार किया था कि इस दौरान बढ़ती महंगाई ने हर किसी का खेल खराब कर दिया है। साथ ही उन्‍होंने कहा था कि आर्थिक रूप से कमजोर होने की वजह से सरकार स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं और शिक्षा पर खर्च नहीं कर पा रही है।

पिछले दिनों ही इमरान खान कोविड-19 टेस्‍ट में पॉजीविट पाए गए थे। उनके अलावा उनकी पत्‍नी भी इससे संक्रमित हैं। पीएम के विशेष सहायक ने बताया है कि इमरान खान कुछ दिनों के बाद अपना काम दोबारा शुरू कर देंगे। उन्‍होंने ये भी बताया कि इमरान की रिकवरी तेजी से हो रही है। आपको बता दें कि पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति आरिफ अल्‍वी और रक्षा मंत्री भी कोरोना पॉजीटिव हो गए हैं। इसकी जानकारी उन्‍होंने ट्वीट कर दी है।

पाकिस्‍तान के अखबार द डॉन के मुताबिक उन्‍होंने अब तक कोरोना वैक्‍सीन की केवल एक ही खुराक ली है। जबकि शरीर में दूसरी खुराक के बाद एंटीबॉडीज बननी शुरू होती हैं। देश की प्रथम महिला ने लोगों से अपील की है कि वो वैक्‍सीन से न घबराएं और इसको जरूर लें। पाकिस्‍तान में लगातार कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। मौजूदा समय में पाकिस्‍तान में कोरोना संक्रमण के अब तक 659,116 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं ठीक होने वालों की संख्‍या 598,197 हो चुकी है जबकि 14,256 मरीज संक्रमित होने के बाद दम तोड़ चुके हैं।


हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत

हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत

भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 24 घंटे में दो लाख के पार तक पहुंच चुकी है। ऐसे में मेडिकल जनरल 'द लांसेट' में छपे एक आंकलन में इस बात के ठोस सबूत मिले हैं कि कोरोना वायरस मुख्य रूप से हवा के जरिए फैलता है।

इंग्लैंड, अमेरिका, कनाडा के 6 एक्सपर्ट के मुताबिक जो पब्लिक हेल्थ से जुड़े कदम उठाए जा रहे हैं, उनमें वायरस  को मुख्य रूप से एयरबोर्न की तरह नहीं माना जा रहा है और इसकी वजह से लोग असुरक्षित हैं। वायरस तेजी से फैल सकता है।

जो मिला विशेषज्ञ को
विशेषज्ञों की टीम ने वायरस के हवा से फैलने को लेकर कई सबूत पेश किए हैं। उनकी सबूतों की लिस्ट में टॉप पर स्कैगिट चोइर आउटब्रेक जैसे सुपर स्प्लेंडर इवेंट हैं। इस इवेंट में एक संक्रमित केस से 53 लोग संक्रमित हुए थे। अध्ययन से पुष्टि हुई है कि ऐसे आयोजन का स्पष्टीकरण करीबी संपर्क या सहत या चीजों को छूने से नहीं दिया जा सकता। 

टीम ने जो सबूत दिए
टीम ने उस रिसर्च पर जोर दिया जिसमें अनुमान लगाया गया कि जो लोग खांस और छींक नहीं रहे हैं उनसे साइलेंट ट्रांसमिशन (बिना लक्षण या लक्षण देखने से पहले की स्थिति) में कुल ट्रांसमिशन का 40 फीसदी तक है। आंकलन के मुताबिक दुनिया भर में कोविड संक्रमण फैलने में सबसे बड़ी भूमिका साइलेंट ट्रांसमिशन की है और यह मुख्य रूप से एयरबोर्न ट्रांसमिशन के संकेत देता है।

शोधकर्ताओं ने उन लोगों के बीच वायरस ट्रांसमिशन का भी केस रखा जो होटलों के करीबी कमरों में थे और कभी एक दूसरे के संपर्क में नहीं आए। टीम को इस मामले में कोई सबूत नहीं मिला कि वायरस बड़ी ड्रॉपलेट्स से आसानी से फैल जाता है। जो कि हवा से जल्दी गिर जाती है और लोगों को संक्रमित करती है।

बंद जगह पर ज्यादा संक्रमण
रिसर्च में बताया गया है कि खुली जगहों की बजाय बंद जगहों में संक्रमण ज्यादा तेजी से फैलता है। बंद जगहों को हवादार बनाकर संक्रमण के प्रसार को कम किया जा सकता है। 


रिद्धिमा पंडित ने बयां किया मां को खोने का दर्द       कोविड-19 से उबरने के बाद भूमि पेडनेकर बनीं ‘COVID WARRIOR'       गर्मियों में बीमारियों से बचने के लिए ध्यान रखें ये विशेष बातें       राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर-प्रोड्यूसर       अथिया शेट्टी ने किया rumoured बॉयफ्रेंड KL Rahul को बर्थडे विश       रिजिजू ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में डबल डिजिट में पदक आने की उम्मीद       कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को : संजय राउत       अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार       राज ठाकरे ने कहा कि प्रवासी मजदूर हैं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार       योगी सरकार के मंत्री ने ही लखनऊ में कोरोना हालात पर उठाए सवाल, CM पृथक-वास में       किसी वर्ग का नहीं, सबका होता है मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ       यूपी में कोरोना का कहर, योगी सरकार ने उठाए ऐहतियाती कदम       रमजान समेत अन्य त्योहारों को लेकर बोले सीएम योगी       उत्तरप्रदेश में टूटा Corona का कहर, एक दिन में मिला इतने नए केस       दिल्ली के बाद UP में भी लगा Lockdown, बंद रहेंगे सभी बाजार और दफ्तर       High Level मीटिंग के दौरान Nude दिखे कनाडा के सांसद       हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत       कोरोना वायरस रोधी टीके है कम असरदार, चीन के अधिकारी का दावा       रेप की घटनाओं पर इमरान खान का बेतुका बयान, कहा...       फ्रांस से तीन और राफेल विमान बिना रुके पहुंचे भारत