पूरी दुनिया के लिए ये है एक अच्‍छी खबर, आपको भी पढ़कर लगेगा बहुत अच्‍छा

पूरी दुनिया के लिए ये है एक अच्‍छी खबर, आपको भी पढ़कर लगेगा बहुत अच्‍छा

बीते डेढ़ वर्ष से कोरोना महामारी की मार झेल रही दुनिया के लिए एक अच्‍छी खबर है। ये खबर कोरोना संक्रमण के मामलों में आई गिरावट को लेकर है। दरअसल, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जानकारी दी है कि बीते 50 दिनों में पूरे विश्‍व में कोरोना से जुड़े नए मामलों में गिरावट आई है। डब्‍ल्‍यूएचओ ने ये भी कहा है कि इससे होने वाली मौतों की संख्‍या कम तो हुई हैं लेकिन इनकी रफ्तार काफी कम है। संगठन द्वारा दी गई ये जानकारी इसलिए बेहद खास है क्‍योंकि डेढ़ वर्ष में पहली बार ऐसा देखने को मिला है कि पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमितों की संख्या में कम हुई है। डब्‍ल्‍यूएचओ के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने इस बात की जानकारी एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दी है।

डब्‍ल्‍यूएचओ प्रमुख के मुताबिक बीते दो सप्‍ताह में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या लगभग एक समान थी। उन्‍होंने इस बात की भी आशंका जताई है कि कई देश अपने यहां पर होने वाली मौतों का सही आंकड़ा पेश नहीं कर रहे हैं। उन्‍होंने इस बात पर भी चिंता जताई है कि अफ्रीकी देशों में वैक्‍सीन सेंटर और आक्‍सीजन की काफी कमी है। ऐसी सूरत में वहां पर हालात और अधिक चिंताजनक बन सकते हैं। इस प्रेस कांफ्रेंस में उन्‍होंने लेंसेट की उस रिपोर्ट का भी जिक्र किया है जिसमें बताया गया है कि अन्‍य क्षेत्रों के मुकाबले अफ्रीका में कोरोना के मामले कम सामने आए हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ गंभीर रोगियों के बीच यहां पर मौतों का आंकड़ा सबसे अधिक है।


डॉक्‍टर घेबरेयेसस के मुताबिक उन लोगों के बीच संक्रमण का खतरा काफी अधिक है जो अब भी सुरक्षा के दायरे से बाहर हैं। संगठन ने आगाह किया है कि वायरस की रफ्तार वैक्‍सीन की रफ्तार से कही अधिक तेज है। इस बीच उन्‍होंने जी-7 देशों की उस घोषणा का स्‍वागत किया है जिसमें उन्‍होंने 87 करोड़ खुराक उपलब्‍ध कराने का भरोसा दिलाया है। घेबरेयेसस ने कहा कि ये एक बड़ी सहायता है लेकिन इसको जल्‍द से जल्‍द उपलब्‍ध करवाना होगा। साथ ही उन्‍होंने ये भी कहा है कि इन देशों के पास दुनिया को 11 अरब खुराक प्रदान करने की क्षमता है। उन्‍हें इसकी तरफ तेजी से काम करना चाहिए। उन्‍होंने जी-7 देशों द्वारा महामारियों से निपटने के लिये प्रस्तावित संधि का स्‍वागत किया है। उन्‍होंने इस दौरान जोर देकर कहा कि विश्‍व के कई देशों को अभी वैक्‍सीन की जरूरत है अगले वर्ष नहीं।


दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में बढ़ रहा डेल्‍टा वैरिएंट का दायरा

दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में बढ़ रहा डेल्‍टा वैरिएंट का दायरा

देश और दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कई देशों में सामने आ रहे डेल्‍टा वैरिएंट के मामलों ने चिंता को बढ़ाने का काम किया है। आपको बता दें कि पिछले सप्‍ताह ही विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने इस बात की पुष्टि की थी कि दुनिया के 132 देशों में डेल्‍टा वैरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं और विश्‍व के 29 देश ऑक्‍सीजन की किल्‍लत झेल रहे हैं। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन लगातार इसको लेकर दुनिया के देशों को आगाह कर रहा है। आइये डालते हैं विश्‍व में कोरोना मामलों की स्थिति पर एक नजर :-

दक्षिण कोरिया में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 1725 नए मामले सामने आए हैं। पिछले दिन की तुलना में ताजा मामलों में करीब 1200 मामलों की तेजी आई है। देश में अब कोरोना के कुल मामलों की संख्‍या 203926 हो गई है। सिओल और गियांगी प्रांत से सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। एएनआई के मुताबिक दक्षिण कोरिया में डेल्‍टा वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। यहां वैक्‍सीन के लिए योग्‍य लोगों की करीब 39 फीसद आबादी को इसकी खुराक दी जा चुकी है।


नेपाल में डेल्‍टा वैरिएंट के चलते जो मामले बढ़ रहे हैं उसकी वजह से दिक्‍कतें बढ़ गई हैं। इसको देखते हुए सुकराराज ट्रॉपिकल एंड इंफेक्शियस डिजीज अस्‍पताल में अस्‍थायी व्‍यवस्‍था की गई है जहां पर मरीजों को रखा जा सकता है। यहां पर मरीजों के लिए ऑक्‍सीजन सिलेंडर की भी व्‍यवस्‍था की गई है।

रायटर के मुताबिक थाईलैंड में बीते 24 घंटों के दौरान 20200 नए मामले सामने आए हैं और 188 मरीजों की मौत भी हुई है। यहां पर कोरोना के कुल मामले अब बढ़कर 672385 हो गए हैं।


जापान की राजधानी टोक्‍यो में 3709 नए मामले सामने आए हैं। आपको बता दें कि यहां पर ओलंपिक गेम्‍स चल रहे हैं। लगातार पांचवें दिन 3 हजार से अधिक मामले सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। रायटर ने बताया है कि जापान में सरकार विवादित नई कोरोना पॉलिसी को वापस लेने पर विचार कर रही है। इस पॉलिसी के तहत कम गंभीर वाले मामलों वाले रोगियों को भी अस्‍पताल में ही आइसोलेट होने का निर्देश दिया गया था। अब सरकार ने इस पर विवाद होने के बाद इसको वापस लेने का संकेत दे दिया है। सरकार इस बारे में फैसला ले सकती है कि ऐसे मरीजों को घर पर ही आइसोलेट रहने दिया जाए।


तुर्की में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 24832 नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद यहां पर इसके कुल मामले बढ़कर 5795665 हो गए हैं। इस दौरान देश में 126 मरीजों की मौत भी हुई है।

इजरायल में बीते 24 घंटों के दौरान 3460 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद यहां पर कुल मामले बढ़कर 882391 हो गए हैं। इस दौरान देश में 9 मरीजों की मौत भी हुई है।

मैक्सिको में बीते 24 घंटों के दौरान 18911 नए मामले सामने आए हैं और 657 मरीजों की मौत हुई है। यहां पर कोरोना के कुल मामले 2880409 हैं जबकि कुल मौतों की संख्‍या 241936 है।

चीन के राज वाले मकाऊ में कोरोना के चार मामले सामने आने के बाद यहां के 6 लाख लोगों की टेस्टिंग कराने की शुरुआत की जा चुकी है।

लेबनान में मंगलवार को 1240 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद यहां पर इसके कुल मामले 564364 हो गए हैं। यहां पर इस वायरस की वजह से अब तक 7917 मरीजों की मौत हो चुकी है।

भारत की बात करें तो एएनआई के मुताबिक यहां पर सोमवार के मुकाबले मंगलवार को कोरोना संक्रमण के मामलों में करीब 12 हजार से अधिक की तेजी आई है। वहीं मौतें भी बढ़ी हैं। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के मुतबिक देश में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के कुल 42625 नए मामले सामने आए हैं जबकि 562 मौतें हुई हैं। आईएएनएस के मुताबिक तमिलनाडु ने कोरोना वैक्‍सीन की 79 लाख खुराक मिलने की पुष्टि की है। सरकार का कहना है कि इसमें से 17 लाख खुराक प्राइवेट सेक्‍टर को दी जाएंगी और बाकी सरकार इस्‍तेमाल में लाएगी।