पाकिस्तान : हिंदू समुदाय के एक श्मशान घाट से लोकल प्रशासन ने हटाया अवैध अतिक्रमण

पाकिस्तान : हिंदू समुदाय के एक श्मशान घाट से लोकल प्रशासन ने हटाया अवैध अतिक्रमण

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के डेरा इस्माइल खान में हिंदू समुदाय के एक श्मशान घाट से लोकल प्रशासन ने अवैध अतिक्रमण हटा दिया गया है। समुदाय को इसके लिए 28 सालों तक प्रतीक्षा करनी पड़ी। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में इस विषय में जानकारी देते हुए बताया गया है कि यह संपत्ति 1992 में गैरकानूनी रूप से एक लोकल शख्स को दे दी गई थी।

हिंदू समुदाय के सदस्यों ने मीडिया को बताया है कि हंगू के रहने वाले और खैबर पख्तूनख्वा विधानसभा के पूर्व सदस्य दिवगंत डाक्टर सिंघार सिंह ने डेरा इस्माइल खान के कोटला सैदान इलाके में श्मशान घाट के लिए आठ कनाल जमीन खरीदी थी। जमीन का पंजीकरण लकी राम व दास राम के नाम पर हुआ था। इनके देहांत के बाद, धरती चुन्नी लाल नाम के आदमी को ट्रांसफर कर दी गई व उनके निधन के बाद लोकल लोगों ने कथित रूप से इस पर अतिक्रमण कर लिया। बीते 28 सालों में यह जमीन चार लोगों के मालिकाने में गई।

इस दौरान हिंदू समुदाय के मेम्बर अपनी इस जमीन को वापस पाने के लिए स्थान जगह गुहार लगाते रहे। डेरा इस्माइल खान के उपायुक्त मुहम्मद उमर ने रविवार को एक बयान जारी करते हुए बताया है कि प्रांतीय विधानसभा के मेम्बर फैसल अमीन गंडापुर के योगदान से जिला प्रशासन ने इस जमीन के चार गैरकानूनी स्थानांतरणों को निरस्त कर दिया है व इसे हिंदू समुदाय को लौटा दिया है।