यरुशलम में मार्च निकालेंगे यहूदी गुट, हमास ने जताई फिर से हिंसा भड़कने की आशंका

यरुशलम में मार्च निकालेंगे यहूदी गुट, हमास ने जताई फिर से हिंसा भड़कने की आशंका

फिलीस्तीनी इस्लामिक हमास ने फिर से तनाव बढ़ने की आशंका जताई है। हमास का कहना है कि मंगलवार को पूर्वी यरुशलम में आयोजित किया जा रहा एक इजरायली फ्लैग मार्च तनाव के नए दौर को जन्म देगा। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, गाजा में हमास के प्रवक्ता अब्दुलातिफ अल-कानौआ ने एक बयान में कहा कि तथाकथित फ्लैग मार्च का आयोजन फिलिस्तीन में एक नई लड़ाई को भड़काने लिए एक डेटोनेटर का काम करेगा।

उन्होंने कहा, 'यरूशलेम की सड़कों पर बसने वालों द्वारा आयोजित यह फ्लैग मार्च पवित्र शहर और अल-अक्सा मस्जिद की रक्षा के लिए एक नई लड़ाई का नेतृत्व करेगा।' गाजा में एक वरिष्ठ इस्लामिक जिहाद नेता अहमद अल-मुदलाल ने कहा कि अगर यह फ्लैग मार्च यरूशलम में इस्लामी क्षेत्रों में प्रवेश करता है, तो इससे क्रोध की स्थिति पैदा हो जाएगी और पूरे फिलिस्तीनी क्षेत्रों में विद्रोह बढ़ जाएगा।


द टाइम्स ऑफ इजरायल ने बताया कि आयोजकों के अनुसार, मार्च मंगलवार को हानेविइम सेंट में शुरू होगा और दमिश्क गेट की ओर बढ़ेगा। आयोजकों ने एक बयान में कहा कि प्रतिभागी पुराने शहर के प्रवेश द्वार से प्रवेश नहीं करेंगे, बल्कि इसके बजाय वो आगे बढ़कर जाफा गेट से प्रवेश करेंगे। इसके बाद प्रतिभागी पुराने शहर से होते हुए जाफा गेट से पश्चिमी दीवार की ओर मार्च करेंगे। इस वार्षिक कार्यक्रम में हजारों यहूदी यरूशलेम के मुस्लिम-बहुल हिस्सों से पश्चिम की ओर मार्च करते हैं। ये लोग 1967 के छह दिवसीय युद्ध के दौरान इजरायल द्वारा कब्जा किए गए शहर के पूर्वी हिस्से की हिब्रू वर्षगांठ को चिह्नित करने के लिए संप्रभुता दर्शाने के लिए यह मार्च करते हैं।

उल्लेखनीय है कि पिछले महीने दस मई से शुरू हुए संघर्ष में इजरायल ने गाजा पट्टी में हमास के ठिकानों को निशाना बनाकर सैकड़ों हवाई हमले किए थे। वहीं, हमास ने इजरायल में चार हजार से अधिक राकेट दागे थे। 11 दिन चले इस संघर्ष में गाजा में 243 फलस्तीनियों की मौत हो गई थी जबकि इजरायल में 12 लोगों की जान गई थी।


दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में बढ़ रहा डेल्‍टा वैरिएंट का दायरा

दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में बढ़ रहा डेल्‍टा वैरिएंट का दायरा

देश और दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कई देशों में सामने आ रहे डेल्‍टा वैरिएंट के मामलों ने चिंता को बढ़ाने का काम किया है। आपको बता दें कि पिछले सप्‍ताह ही विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने इस बात की पुष्टि की थी कि दुनिया के 132 देशों में डेल्‍टा वैरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं और विश्‍व के 29 देश ऑक्‍सीजन की किल्‍लत झेल रहे हैं। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन लगातार इसको लेकर दुनिया के देशों को आगाह कर रहा है। आइये डालते हैं विश्‍व में कोरोना मामलों की स्थिति पर एक नजर :-

दक्षिण कोरिया में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 1725 नए मामले सामने आए हैं। पिछले दिन की तुलना में ताजा मामलों में करीब 1200 मामलों की तेजी आई है। देश में अब कोरोना के कुल मामलों की संख्‍या 203926 हो गई है। सिओल और गियांगी प्रांत से सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। एएनआई के मुताबिक दक्षिण कोरिया में डेल्‍टा वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। यहां वैक्‍सीन के लिए योग्‍य लोगों की करीब 39 फीसद आबादी को इसकी खुराक दी जा चुकी है।


नेपाल में डेल्‍टा वैरिएंट के चलते जो मामले बढ़ रहे हैं उसकी वजह से दिक्‍कतें बढ़ गई हैं। इसको देखते हुए सुकराराज ट्रॉपिकल एंड इंफेक्शियस डिजीज अस्‍पताल में अस्‍थायी व्‍यवस्‍था की गई है जहां पर मरीजों को रखा जा सकता है। यहां पर मरीजों के लिए ऑक्‍सीजन सिलेंडर की भी व्‍यवस्‍था की गई है।

रायटर के मुताबिक थाईलैंड में बीते 24 घंटों के दौरान 20200 नए मामले सामने आए हैं और 188 मरीजों की मौत भी हुई है। यहां पर कोरोना के कुल मामले अब बढ़कर 672385 हो गए हैं।


जापान की राजधानी टोक्‍यो में 3709 नए मामले सामने आए हैं। आपको बता दें कि यहां पर ओलंपिक गेम्‍स चल रहे हैं। लगातार पांचवें दिन 3 हजार से अधिक मामले सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। रायटर ने बताया है कि जापान में सरकार विवादित नई कोरोना पॉलिसी को वापस लेने पर विचार कर रही है। इस पॉलिसी के तहत कम गंभीर वाले मामलों वाले रोगियों को भी अस्‍पताल में ही आइसोलेट होने का निर्देश दिया गया था। अब सरकार ने इस पर विवाद होने के बाद इसको वापस लेने का संकेत दे दिया है। सरकार इस बारे में फैसला ले सकती है कि ऐसे मरीजों को घर पर ही आइसोलेट रहने दिया जाए।


तुर्की में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 24832 नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद यहां पर इसके कुल मामले बढ़कर 5795665 हो गए हैं। इस दौरान देश में 126 मरीजों की मौत भी हुई है।

इजरायल में बीते 24 घंटों के दौरान 3460 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद यहां पर कुल मामले बढ़कर 882391 हो गए हैं। इस दौरान देश में 9 मरीजों की मौत भी हुई है।

मैक्सिको में बीते 24 घंटों के दौरान 18911 नए मामले सामने आए हैं और 657 मरीजों की मौत हुई है। यहां पर कोरोना के कुल मामले 2880409 हैं जबकि कुल मौतों की संख्‍या 241936 है।

चीन के राज वाले मकाऊ में कोरोना के चार मामले सामने आने के बाद यहां के 6 लाख लोगों की टेस्टिंग कराने की शुरुआत की जा चुकी है।

लेबनान में मंगलवार को 1240 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद यहां पर इसके कुल मामले 564364 हो गए हैं। यहां पर इस वायरस की वजह से अब तक 7917 मरीजों की मौत हो चुकी है।

भारत की बात करें तो एएनआई के मुताबिक यहां पर सोमवार के मुकाबले मंगलवार को कोरोना संक्रमण के मामलों में करीब 12 हजार से अधिक की तेजी आई है। वहीं मौतें भी बढ़ी हैं। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के मुतबिक देश में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के कुल 42625 नए मामले सामने आए हैं जबकि 562 मौतें हुई हैं। आईएएनएस के मुताबिक तमिलनाडु ने कोरोना वैक्‍सीन की 79 लाख खुराक मिलने की पुष्टि की है। सरकार का कहना है कि इसमें से 17 लाख खुराक प्राइवेट सेक्‍टर को दी जाएंगी और बाकी सरकार इस्‍तेमाल में लाएगी।