अमेरिका मध्यपूर्व में लगभग 3,500 व सैनिकों को इस वजह से करेगा तैनात

अमेरिका मध्यपूर्व में लगभग 3,500 व सैनिकों को इस वजह से करेगा तैनात

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश पर किए गए हमले में ईरानी मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मृत्यु के बाद इस सप्ताहांत तक अमेरिका मध्यपूर्व में लगभग 3,500 व सैनिकों को तैनात करेगा। खबर एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, एनबीसी न्यूज ने शुक्रवार को बताया कि 82 वें एयरबोर्न डिवीजन से अलावा सैनिकों को इराक, कुवैत व क्षेत्र के अन्य हिस्सों में तैनात किया जाएगा।

 ने अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए बोला कि सैनिक इस क्षेत्र में पहले से तैनात 650 अन्य लोगों के साथ शामिल होंगे व करीब 60 दिनों तक रहेंगे। पेंटागन ने एक बयान में कहा, "जैसा कि पहले घोषणा की गई थी कि 82 वें एयरबोर्न डिवीजन की तत्काल रिएक्शन बल (आईआरएफ) ब्रिगेड को तैनाती के लिए सतर्क किया गया था, व अब उन्हें तैनात किया जा रहा है। "

बयान में आगे बोला गया, "ब्रिगेड कुवैत में अमेरिकी कर्मियों व फैसिलिटीज के विरूद्ध बढ़ते खतरे के स्तर के जवाब में एक उपयुक्त व एहतियाती कार्रवाई के रूप में सैनिकों की तैनाती करेगी। " पेंटागन का ताजा कदम ईरान के इस्लामिक रेवोल्यूशन गार्ड कॉर्प्स के कुद्स फोर्स के कमांडर सुलेमानी की मृत्यु के बाद आया है। हवाई हमले में सुलेमानी के साथ इराकी मिलिशिया के कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस भी मारे गए। बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास हवाई हमले में दोनों मारे गए।