घर में फैला वास्तुदोष भी देता क़र्ज़ को बढ़ावा, कैसे दूर करें

घर में फैला वास्तुदोष भी देता क़र्ज़ को बढ़ावा, कैसे दूर करें

कुछ लोग मेहनत तो खूब करते हैं लेकिन पैसा उस मेहनत के अनुसार कमा नहीं पाते जिंदगी में ऐसे कई उत्तर चढ़ाव आते है जिसमे उलझकर व्यक्ति अपने घुटने टेक देता है। उन परिस्थितियों से निकलने के लिए वह कर्ज का सहारा लेता है और उस कर्ज में इतना डूब जाता है की उसमे से निकल पाना मुश्किल हो जाता है।

ये वास्तुदोष हो सकते है कर्जे के कारण:

# सीधी दीवार : घर बनवाते समय इस बात का खास ध्यान रखे की उत्तर व दक्षिण की दीवार बिलकुल सीधी हो किसी भी प्रकार से वह दीवार टेडी मेडी न बने। घर के सभी कोने एक सामान होना चाहिए। 

# दर्पण का होना : वास्तु दोष से बचने के लिए घर के दक्षिण और पश्चिम की और कभी भी दर्पण नहीं लगाना चाहिए। यह वास्तु दोष का कारण बन सकता है।

# ढलान : घर का उत्तर-पूर्व भाग का ताल ज्यादा ढलान में होना चाहिए। उत्तर-पूर्व भाग जितना गहरा और जितना ढलान में रहेगा घर में उतनी अधिक सम्पति आएगी।

# टैंक, कुआं या नल : घर के दक्षिण दिशा में कभी भी नल, कुआ, हेण्डपम्प, या अन्य कोई जल स्तोत नहीं होना चाहिए। जिस घर्म में ऐसा होता है उस घर में दरिद्रता का वास होता है।

# भारी वस्तु : घर की उत्तर दिशा एवं पूर्व दिशा में कभी भी भारी वस्तुए को न रखे।ऐसा करने से व्यक्ति कर्ज में और भी डूबता जाता है।

# टॉयलेट न होना : घर के दक्षिण व पश्चिम भाग में कभी भी टॉयलेट नहीं बनवाना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति और भी कर्जा लेना पड़ता है।

# पहली किश्त : किसी भी तरह से लिया गया कर्ज की पहली किश्त आप मंगलवार को जमा करे ऐसा माना जाता है की मंगलवार को पहली किश्त जमा करने से कर्ज जल्द से जल्द ख़त्म हो जाता है।


आज विनायक चतुर्थी, नोट कर लें गणपति महाराज की पूजा का सबसे शुभ समय

आज विनायक चतुर्थी, नोट कर लें गणपति महाराज की पूजा का सबसे शुभ समय

Panchang Today : मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष चतुर्थी, आनन्द संवत्सर विक्रम संवत 2078, शक संवत 1943 (प्लव संवत्सर),मार्गशीर्ष। चतुर्थी तिथि 7 दिसंबर सुबह 11 बजकर 40 मिनट तक उपरांत पंचमी। नक्षत्र उत्तराषाढा 8 दिसंबर मध्य रात्रि 12 बजकर 12 मिनट तक उपरांत श्रवण। वृद्धि योग शाम 04 बजकर 24 मिनट तक, उसके बाद धुव्र योग। करण वणिज दोपहर 01 बजकर 02 मिनट तक, बाद विष्टि रात्रि 11 बजकर 40 मिनट तक, बाद बव। चंद्रमा 7 दिसंबर सुबह 7 बजकर 44 मिनट तक धनु राशि में उपरांत  मकर राशि पर संचार करेगा।

आज का व्रत, त्योहार- विनायक चतुर्थी

सूर्य और चंद्रमा का समय-

सूर्योदय - 7:01 AM
सूर्यास्त - 5:24 PM
चन्द्रोदय - 10:10 AM
चन्द्रास्त - 08:40 PM

आज के शुभ मुहूर्त-

  • ब्रह्म मुहूर्त- 05:12 ए एम से 06:06 ए एम
  • प्रातः सन्ध्या- 05:39 ए एम से 07:01 ए एम
  • अभिजित मुहूर्त- 11:52 ए एम से 12:33 पी एम
  • विजय मुहूर्त- 01:56 पी एम से 02:38 पी एम
  • गोधूलि मुहूर्त- 05:14 पी एम से 05:38 पी एम
  • सायाह्न सन्ध्या- 05:24 पी एम से 06:46 पी एम
  • अमृत काल- 06:22 पी एम से 07:49 पी एम\
  • निशिता मुहूर्त- 11:46 पी एम से 12:40 ए एम, दिसम्बर 08
  • रवि योग- 07:01 ए एम से 12:12 ए एम, दिसम्बर 08

आज के अशुभ मुहूर्त-

राहुकाल- 02:48 पी एम से 04:06 पी एम

यमगण्ड- 09:37 ए एम से 10:55 ए एम

गुलिक काल- 12:13 पी एम से 01:31 पी एम

विडाल योग- 01:40 ए एम, दिसम्बर 08 से 07:02 ए एम, दिसम्बर 08

वर्ज्य- 09:37 ए एम से 11:04 ए एम

दुर्मुहूर्त- 09:06 ए एम से 09:47 ए एम, 03:56 ए एम, दिसम्बर 08 से 05:26 ए एम, दिसम्बर 08, 10:51 पी एम से 11:46 पी एम

बाण- अग्नि - 07:27 ए एम तक

भद्रा- 01:02 पी एम से 11:40 पी एम