तुलसी के पत्तों से ऐसे खुल सकते हैं आपकी किस्मत के बंद दरवाज़े

तुलसी के पत्तों से ऐसे खुल सकते हैं आपकी किस्मत के बंद दरवाज़े

लगभग हर हिंदू घर में तुलसी का पौधा पाया जाता है। तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल न सिर्फ पूजा-पाठ के लिए किया जाता है बल्कि यह कई प्रकार की बीमारियों को भी दूर भगाने में समर्थ होता है। शुभ कार्य के दौरान लोग तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल करते हैं। पूजा-पाठ और स्वास्थ्य के अलावा भी तुलसी के पत्तों का बहुत महत्व होता है। घर में चल रही परेशानियों से तुलसी के कुछ पत्ते आपको छुटकारा दिला सकते हैं।

इन परेशानियों से छुटकारा दिला सकते हैं तुलसी के 5 पत्ते:

घर में कलेश :

घर में कलेश होने पर भी तुलसी का पत्ता बेहद काम आता है। जिन पति-पत्नी या कपल्स की आपस में नहीं बनती और छोटी-छोटी बात पर लड़ाई होती रहती है। उन्हें तुलसी के केवल 5 पत्ते हमेशा अपने पास रखने चाहिए। 

मन की मुराद पूरी :

यदि आप अपने मन की कोई मुराद पूरी करना चाहते हैं तो तुलसी के 5 पत्ते को एक लाल कागज़ में लपेटकर अपने पूजा घर में रख दें और डेली इसकी पूजा करें। कुछ ही दिनों में आपको फर्क दिखेगा। पैसों से जुड़ी दिक्कतें भी दूर होने लगेंगी।

नकरात्मक शक्ति का प्रभाव :

यदि आपको लग रहा है कि आपके घर में किसी नकरात्मक शक्ति का प्रभाव है तो आपको सिर्फ सोते वक़्त अपने तकिये के नीचे तुलसी के 5 पत्ते रखने हैं। ऐसा करने पर मौजूद नकरात्मक शक्तियां वहां से चली जाती हैं।


आज विनायक चतुर्थी, नोट कर लें गणपति महाराज की पूजा का सबसे शुभ समय

आज विनायक चतुर्थी, नोट कर लें गणपति महाराज की पूजा का सबसे शुभ समय

Panchang Today : मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष चतुर्थी, आनन्द संवत्सर विक्रम संवत 2078, शक संवत 1943 (प्लव संवत्सर),मार्गशीर्ष। चतुर्थी तिथि 7 दिसंबर सुबह 11 बजकर 40 मिनट तक उपरांत पंचमी। नक्षत्र उत्तराषाढा 8 दिसंबर मध्य रात्रि 12 बजकर 12 मिनट तक उपरांत श्रवण। वृद्धि योग शाम 04 बजकर 24 मिनट तक, उसके बाद धुव्र योग। करण वणिज दोपहर 01 बजकर 02 मिनट तक, बाद विष्टि रात्रि 11 बजकर 40 मिनट तक, बाद बव। चंद्रमा 7 दिसंबर सुबह 7 बजकर 44 मिनट तक धनु राशि में उपरांत  मकर राशि पर संचार करेगा।

आज का व्रत, त्योहार- विनायक चतुर्थी

सूर्य और चंद्रमा का समय-

सूर्योदय - 7:01 AM
सूर्यास्त - 5:24 PM
चन्द्रोदय - 10:10 AM
चन्द्रास्त - 08:40 PM

आज के शुभ मुहूर्त-

  • ब्रह्म मुहूर्त- 05:12 ए एम से 06:06 ए एम
  • प्रातः सन्ध्या- 05:39 ए एम से 07:01 ए एम
  • अभिजित मुहूर्त- 11:52 ए एम से 12:33 पी एम
  • विजय मुहूर्त- 01:56 पी एम से 02:38 पी एम
  • गोधूलि मुहूर्त- 05:14 पी एम से 05:38 पी एम
  • सायाह्न सन्ध्या- 05:24 पी एम से 06:46 पी एम
  • अमृत काल- 06:22 पी एम से 07:49 पी एम\
  • निशिता मुहूर्त- 11:46 पी एम से 12:40 ए एम, दिसम्बर 08
  • रवि योग- 07:01 ए एम से 12:12 ए एम, दिसम्बर 08

आज के अशुभ मुहूर्त-

राहुकाल- 02:48 पी एम से 04:06 पी एम

यमगण्ड- 09:37 ए एम से 10:55 ए एम

गुलिक काल- 12:13 पी एम से 01:31 पी एम

विडाल योग- 01:40 ए एम, दिसम्बर 08 से 07:02 ए एम, दिसम्बर 08

वर्ज्य- 09:37 ए एम से 11:04 ए एम

दुर्मुहूर्त- 09:06 ए एम से 09:47 ए एम, 03:56 ए एम, दिसम्बर 08 से 05:26 ए एम, दिसम्बर 08, 10:51 पी एम से 11:46 पी एम

बाण- अग्नि - 07:27 ए एम तक

भद्रा- 01:02 पी एम से 11:40 पी एम