वजन कम करने के लिए करे ये उपाय

वजन कम करने के लिए करे ये उपाय

वजन कम करने के लिए कुछ लोग क्रैश डाइटिंग (जरूरत से बहुत ज्यादा कम खाना) आजमाते हैं, लेकिन यह स्थिति स्थाई नहीं रहती. ऐसे लोग जैसे ही प्रॉपर डाइट लेना प्रारम्भ करते हैं, उनका वजन फिर से बढ़ने लगता है.

Related image

होना तो यह चाहिए कि अगर आपने इच्छित वजन घटा लिया है तो फिर आपका वजन वहां जाकर स्थिर हो जाना चाहिए. अब यह कैसे संभव है? इसके लिए केवल डाइटिंग नहीं, बल्कि डाइट में न्यूट्रिशन, वैराइटी व बैलेंसिंग महत्वपूर्ण है. डाइट एंड वेलनेस एक्सपर्ट डॉ। शिखा शर्मा बता रहीं हैं कि वजन कम करने के लिए बेहतर डाइट प्लान कैसा होने कि सम्भावना है:

  1. एक ही समूह पर फोकस करने के बजाय अपनी डाइट में भिन्न-भिन्न समूहों के विविधता से भरे फूड शामिल करने चाहिए. यहां भिन्न-भिन्न समूहों से मतलब है प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट इत्यादि के वैराइटी वाले फूड्स. साथ ही मोटे अन्न व सब्जियां भी इस डाइट में होनी चाहिए.

  2. भारतीय भोजन में प्रोटीन के बजाय कार्बोहाइड्रेट व फैट ज्यादा होते हैं. प्रयास करें कि डाइट में एक बड़ा भाग प्रोटीन का हो. प्रोटीन पचने व रक्तवाहिनियों में अवशोषित होने में ज्यादा वक्त लेता है. इससे कैलोरी की खपत भी ज्यादा होती है. कैलोरी की ज्यादा खपत का मतलब होगा ज्यादा वेट लॉस होना.

  3. अपनी रोज की डाइट में कम से कम 30 से 35 ग्राम फाइबर जरूर होना चाहिए. मोटा अनाज, चिया सीड्स व फाइबरयुक्त सब्जियों जैसे पालक, ब्रोकोली, फ्रेंच बीन्स (बरबट्टी), गाजर, खीरा, कई तरह के फलों जैसे अनार, सेवफल, चीकू इत्यादि में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होते हैं.

  4. अपने डाइट प्लान में सप्ताह में एक दिन डिटॉक्सिंग भी जरूर शामिल करें. डिटॉक्सिंग से शरीर में जमा जहरीले रसायन दूर हो जाते हैं. वेट लॉस के लिए इन जहरीले रसायनों को शरीर से हटाना महत्वपूर्ण है. डिटाक्स के लिए त्रिफला के पानी का प्रयोग करें. यह आपके हॉर्मोन्स को बैलेंस करने का कार्य भी करता है. इससे वजन कम करने मदद मिलती है.

  5. अपनी डेली डाइट में नमक का प्रयोग बहुत कम कर दें. नमक के कारण शरीर में पानी की मात्रा बढ़ जाती है जो मोटापे का एक प्रमुख कारण होता है. प्रतिदिन 2 ग्राम से ज्यादा नमक का सेवन न करें. शक्कर की मात्रा भी सीमित करें. रुटीन जीवन में इसका प्रयोग पूरी तरह बंद कर देंगे तो वजन में तेजी से कमी आएगी.