नेताओं के बीजेपी में शामिल होने पर ममता ने इन लोगो को बनाया चोर

नेताओं के बीजेपी में शामिल होने पर ममता ने इन लोगो को बनाया चोर

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस पार्टी के नेताओं के बीजेपी में शामिल होने को लेकर सीएम ममता बनर्जी ने मंगलवार को अपनी रिएक्शन दी. ममता ने कहाकि तृणमूल निर्बल पार्टी नहीं है.

Related image

यदि 15-20 पार्षद पैसा लेकर पार्टी छोड़ देते हैं तो मुझे परवाह नहीं. लोकसभा चुनाव के बाद तृणमूल के चार विधायक व 50 से ज्यादा पार्षदभाजपा में शामिल हो चुके हैं.सोमवार को तृणमूल के नौपारा से विधायक सुनील सिंह की अगुआई में 12 पार्षदों ने दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ली थी.

ममता ने बोला किअगर पार्टी के विधायक भी ऐसा करना चाहते हैं तो वे कर सकते हैं. हम पार्टी में चोर नहीं चाहते. यदि एक आदमी पार्टी छोड़ेगा तो मैं 500 व तैयार कर लूंगी. इससे पहले विधायक सुनील सिंह ने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल की जनता भी सबका साथ, सबका विकास चाहती है. हम चाहते हैं कि बंगाल में भी मोदीजी की सरकार बने. तभी पश्चिम बंगाल का विकास संभव हो पाएगा.’’

मई में 3 विधायक व 50 पार्षदों ने जॉइन की भाजपा
इससे पहले मई के आखिरी सप्ताह में तृणमूल के 2 विधायक व 50 पार्षद बीजेपी में शामिल हुए थे. इन सभी को बंगाल बीजेपी नेता मुकुल रॉय दिल्ली लेकर पहुंचे थे. वहां पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की मौजूदगी में सभी ने सदस्यता ली थी. इसके बाद विधायकमोनिरुल इस्लामने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था.

इस मौके पर विजयवर्गीय ने बोला था कि बीजेपी की सदस्यता लेने का यह पहला चरण था. जिस तरह बंगाल में 7 चरणों में चुनाव हुआ, उसी तरह नेता भी सात चरणों में शामिल होंगे.आगे भी इस तरह से सदस्यता ग्रहण करने का सिलसिला जारी रहेगा.


ममता सरकार पर नहीं पड़ेगा खास प्रभाव
पश्चिम बंगाल विधानसभा में कुल 295 में से तृणमूल के 211 विधायक हैं. इनके अतिरिक्त कांग्रेस पार्टी के 44, माकपा के 26 व बीजेपी के 3 विधायक हैं.चार विधायकों के जाने से ममता सरकार पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा. बहुमत के लिए 148 सीटें महत्वपूर्ण होती हैं. प्रदेश में अगले विधानसभा चुनाव 2021 में होने हैं. हाल ही मेंहुए लोकसभा चुनाव मेंभाजपा ने 42 में से 18 सीटों पर जीत पंजीकृत की है. तृणमूल ने 22 सीटें जीतीं. 2014 के लोकसभा चुनाव मेंभाजपा को दो ही सीटें मिली थीं.