घाटी के किसी भी इलाके में नहीं लगाया गया कर्फ्यू, प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को किया गया तैनात

 घाटी के किसी भी इलाके में नहीं लगाया गया कर्फ्यू, प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को किया गया तैनात

जम्मू-कश्मीर में स्थिति अभी भी पूरी तरह से सामान्य नहीं हैं तथा लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि रविवार को घाटी के किसी भी इलाके में कर्फ्यू नहीं लगाया गया है व शनिवार रात को घाटी में अधिकांश जगहों पर दशा शांतिपूर्ण रहे. हालांकि कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए घाटी के कईं इलाकों में चार से अधिक लोगों के एक साथ एकत्र होने से रोकने के लिए प्रशासन ने धारा 144 लगा रखी है.

ऐतिहासिक जामिया मस्जिद के सभी दरवाजे पांच अगस्त से ही बंद है व यहां किसी भी तरह के प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गयी है. प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तर कश्मीर के बारामूला से बड़गाम, श्रीनगर व अनंतनाग के रास्ते जम्मू क्षेत्र के बनिहाल के बीच चलने वाली रेल सेवाएं 5 अगस्त से ही स्थगित है. दूरसंचार के साधन लैंडलाइन फोन, इंटरनेट व मोबाइल फोन सेवा के बहाल नहीं होने से लोगों को एक दूसरे से सम्पर्क बनाने में खासी दिक्कतें आ रही हैं. पिछले हफ्ते हालांकि घाटी में लैंडलाइन सेवाएं बहाल कर दी गयी है.

इसके अतिरिक्त शिक्षण संस्थान सबसे ज्यादा प्रभावित है व पढ़ाई फिर प्रारम्भ करने के निर्णय के बाद भी विद्यार्थी विद्यालय से दूरी बनाए हुए हैं जबकि शिक्षक व अन्य कर्मचारी अपने कार्य पर समय से आ रहे है. केन्द्र सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू और कश्मीर का विशेष प्रदेश का दजार् समाप्त कर इसे दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू- कश्मीर व लद्दाख में विभाजित करने का ऐलान किया था. ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में कारोबारी प्रतिष्ठान व दुकानें बंद हैं. सड़कों पर वाहन नजर नहीं आये हालांकि व्यक्तिगत वाहनों का आवगमन जारी है.

श्रीनगर का प्रसिद्ध रविवार बाज़ार भी हड़ताल के आह्वान के कारण बंद रहा लेकिन कई विक्रेताओं ने सड़कों पर स्टाल लगाए मगर कोई भी ग्राहक सामान लेने नहीं आया. कश्मीर घाटी में अन्य जगहों पर जनजीवन प्रभावित रहा व दुकानें व व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद है.

अनंतनाग से मिली एक रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण कश्मीर के कुलगाम, पुलवामा व शोपियां जिले में सभी कारोबारी प्रतिष्ठान तथा दुकानें बंद हैं. मध्य कश्मीर के गंदेरबल , बडगाम, सोपोर, पाटन, पलहान, बांदीपोरा, अजस तथा उत्तर कश्मीर की झेलम नदी व उसके इर्द गिर्द के अन्य इलाकों में भी यही स्थिति है.