पाकिस्तान व श्रीलंका के बीच खेली जा रही तीन मैचों की टी20 सीरीज में पाक का प्रदर्शन रहा बेहद निराशाजनक

पाकिस्तान व श्रीलंका के बीच खेली जा रही तीन मैचों की टी20 सीरीज में पाक का प्रदर्शन रहा बेहद निराशाजनक

पाकिस्तान व श्रीलंका के बीच खेली जा रही तीन मैचों की टी20 सीरीज में पाक का प्रदर्शन अबतक बेहद निराशाजनक रहा है. श्रीलंका ने पहले दो मैचों में पाक को हराकर तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 से अजेय बढ़त बना ली है. पाक के प्रदर्शन से नाराज मुख्य कोच मिस्बाह उल हक ने बोला है कि ये टीम के लिए एक वेक उप कॉल है.

आईसीसी टी20 टीम रैंकिंग में पाक नंबर एक पर है ऐसे में टीम का घरेलू मैदान पर ऐसा प्रदर्शन सब को चौंकने वाला है. इस सीरीज में खेल रही खेल रही श्रीलंका टीम का भाग उनके स्टार खिलाड़ी लसिथ मलिंगा, दिमुथ करुणारत्ने व एंजेलो मैथ्यूज नहीं हैं इसके बावजूद टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए पाक को पहला टी20 मैच 64 रन व दूसरा मैच 47 रनों से हारा दिया.

टीम के मुख्य कोच व मुख्य चयनकर्ता मिस्बाह का मानना है कि ये पराजय टीम के प्रत्येक विभाग में कमी का इशारा है. मिस्बाह ने बोला “हारना कभी भी अच्छा नहीं होता, खासकर ऐसी टीम के विरूद्ध जो उनके प्रमुख खिलाड़ियों के बिना खेल रही है. यह पाक के लिए एक वेक उप कॉल है.” मिस्बाह ने बोला “हम हर विभाग में एक कमी देख सकते हैं: गेंदबाजी, बल्लेबाजी, व विशेष रूप से जिस तरह से हम स्पिन के विरूद्ध आउट हुए व हमारी डैथ गेंदबाजी भी चिंता का विषय है.”

पाकिस्तान ने इस सीरीज के लिए लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे बल्लेबाज उमर अकमल व अहमद शहजाद को टीम में शामिल किया था. लेकिन दोनों ही बल्लेबाज अबतक फ्लॉप साबित हुए हैं. मिस्बाह ने बोला कि पाक कि टीम बाबर आजम पर ज्यादा निर्भर नहीं रहे. मुख्य कोच ने कहा, “हम टी-20 में नंबर-1 टीम हैं व अगर आप व गहराई में जाएंगे तो हमारी इकलौती क्षमता आजम के रन हैं. उन्होंने दो मैचों में रन नहीं किए व हम पराजय गए.” उन्होंने बोला “मुझे लगता है कि हमें छह मैच विजेता खिलाड़ी चाहिए न कि सिर्फ एक.”

उन्होंने कहा, “जब तक आपके पास मध्य क्रम में काबिलियत नहीं होगी व क्षमता प्ले में रन करने के लिए अच्छा शीर्ष क्रम नहीं होगा तो आप अच्छा नहीं कर सकते. इसी तरह गेंदबाजी में अगर आप पावरप्ले में विकेट नहीं ले सकते व फिर डेथ ओवरों में विकेट नहीं ले सकते तो आप अच्छा नहीं कर सकते. आप प्रयत्न करते हैं व मुझे लगता है कि हम हर विभाग में विफल रहे हैं.” कोच के साथ-साथ मुख्य चयनकर्ता की जिम्मेदारी संभाल रहे मिस्बाह ने कहा, “यह हमारे लिए आंखे खोलने वाली बात है. हमें इन चीजों पर देखना होगा. अगर हम अच्छा कर भी रहे थे तो हम यहां नहीं कर सके. हमें दूसरे खिलाड़ी भी खोजने होंगे. आप एक या दो बल्लेबाजों पर निर्भर नहीं रह सकते.”