कन्फ्यूज कर देगा Video, अजीब तरीके से Hit Wicket होकर वापस लौटा ये श्रीलंकाई बल्लेबाज

कन्फ्यूज कर देगा Video, अजीब तरीके से Hit Wicket होकर वापस लौटा ये श्रीलंकाई बल्लेबाज

नई दिल्ली। श्रीलंका और वेस्टइंडीज के बीच गाल में दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला खेला जा रहा है। मैच के दूसरे दिन मेजबान टीम ने स्पिनर रमेश मेंडिस की शानदार गेंदबाजी के दम पर विंडीज टीम के 113 रन पर 6 विकेट गिरा दिए। श्रीलंका ने पहली पारी में 386 रन बनाए थे जिसमें कप्तान दिमुथ करुणारत्ने के 147 रन की पारी शामिल थी। पहली पारी के दौरान धनंजय डि सिल्वा बड़ी ही अजीब तरह से हिट विकेट होकर वापस लौटे। उनके आउट होने का तरीका कुछ ऐसा था जिसका वीडियो सोशल पर वायरल हो गया।

गाल टेस्ट के दूसरे दिन 3 विकेट पर 267 रन से आगे श्रीलंका ने खेलने शुरू किया। दिन का पहला झटका टीम को अजीब तरीके से लगा। श्रीलंका की टीम जब बल्लेबाजी कर रही थी, तब 94.4 ओवर में धनंजय डि सिल्वा हिट-विकेट आउट हुए। यह भले ही हिट विकेट कहा जाएगा लेकिन जिस तरह से वह आउट हुए वो बेहद हैरान करने वाला था। गेंद उछलकर विकेट पर ना गिर जाए इसके लिए उन्होंने उसे विकेट की लाइन से हटाने की कोशिश की और दुर्भाग्य से बल्ला स्टंप पर ही मार बैठे।

वेस्टइंडीज के गैब्रियल ने गेंद को डि सिल्वा ने डिफेंस करने की कोशिश की। गेंद टप्पा खाई और उछलकर विकेट की लाइन में नीचे जाने लगी। उनके लगा कहीं वो गेंद के विकेट से टकराने पर गिल्ली के गिरने की वजह से आउट ना हो जाए। विकेट बचाने कोशिश में वह अपना विकेट खुद विंडीज टीम को भेंट कर बैठे।

95 गेंद पर उन्होंने 5 चौके की मदद से 61 रन की पारी खेली। टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाने के बाद वह शतक की तरफ बढ रहे थे लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से आउट होने की वजह से एक अच्छे शतक से चूक गए। जिस तरह से वह आउट हुए ऐसा नजारा कम ही देखने को मिलता है।  


एंटीलिया केस: क्रिकेट बुकी नरेश गौर की जमानत पर रोक का आदेश खारिज, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी राहत

एंटीलिया केस: क्रिकेट बुकी नरेश गौर की जमानत पर रोक का आदेश खारिज, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी राहत

बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को एंटीलिया मामले में गिरफ्तार क्रिकेट बुकी नरेश गौर की जमानत पर रोक का विशेष अदालत का आदेश खारिज कर दिया। 

हाईकोर्ट की जस्टिस एसके शिंदे की एकल पीठ ने बुधवार को गौर द्वारा दायर अर्जी की सुनवाई की। इसमें गौर ने उसे मिली 25 दिन की जमानत पर विशेष एनआईए कोर्ट द्वारा लगाई गई रोक को चुनौती दी थी। एनआईए ने आरोपी गौर को इस साल मार्च में गिरफ्तार किया था। उस पर आरोप है कि वह एंटीलिया बम दहशत केस में और कारोबारी मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में शामिल है।

20 नवंबर को विशेष एनआईए कोर्ट ने उसे इस आधार पर जमानत दे दी थी कि प्रथम दृट्या यह पाया गया है कि उसे साजिश की जानकारी नहीं थी। गौर केस का पहला आरोपी है, जिसे जमानत मिली है। हालांकि इसके बाद विशेष कोर्ट ने 25 दिन की जमानत देने के अपने ही आदेश पर अभियोजन पक्ष के आग्रह पर रोक लगा दी थी। 

इसके बाद गौर ने हाईकोर्ट की शरण ली थी। गौर ने अपने वकील अनिकेत निकम के माध्यम से हाईकोर्ट में अपील दायर कर विशेष कोर्ट के आदेश को चुनौती दी। यह मामला मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के निवास एंटीलिया के बाहर विस्फोटकों से लदी एसयूवी खड़ी करने से जुड़ा है। 

गौर ने अपनी अपील में कहा कि विशेष कोर्ट ने उसे इस आधार पर जमानत दी थी कि उसकी एंटीलिया साजिश और मनसुख हिरेन हत्याकांड में कोई भूमिका नहीं है। इसके बाद एनआईए कोर्ट को अपने ही आदेश पर रोक नहीं लगाना थी। इसके बाद जस्टिस शिंदे ने इन दलीलों को स्वीकार किया और जमानत पर रोक का एनआईए कोर्ट का आदेश खारिज कर दिया।