भारत के खिलाफ पहले टेस्ट मैच से ठीक पहले इंग्लैंड को लगा बड़ा झटका!

भारत के खिलाफ पहले टेस्ट मैच से ठीक पहले इंग्लैंड को लगा बड़ा झटका!

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज आज यानी 4 अगस्त से शुरू हो रही है, लेकिन इस मैच से दो दिन पहले भारत को ओपनर मयंक अग्रवाल के रूप में झटका लगा था, जबकि इंग्लैंड को मध्य क्रम के बल्लेबाज ओली पोप के रूप में बड़ा झटका लगा है। मयंक अग्रवाल की तरह ओली पोप भी चोट की वजह से पहले टेस्ट मैच से बाहर हो गए हैं। हालांकि, दोनों की चोट अलग-अलग है।

मयंक अग्रवाल को जहां सिर पर गेंद लगी थी। वहीं, ओली पोप को जांघ में परेशानी है। इतना ही नहीं, ओली पोप के पहले टेस्ट मैच से बाहर होने के बाद जॉनी बेयरेस्टो की किस्मत खुल गई है, क्योंकि उनको टेस्ट टीम में शामिल कर लिया गया है। पोप के रिप्लेसमेंट के तौर पर बेयरेस्टो को टीम में जगह मिली है और वे लंबे समय के बाद टेस्ट क्रिकेट खेलते नजर आएंगे। द टेलिग्राफ की रिपोर्ट में ओली पोप के पहले टेस्ट से बाहर होने की रिपोर्ट छपी है।


जॉनी बेयरस्टो बुधवार को इंग्लैंड के मध्य क्रम में अपने टेस्ट करियर को फिर से शुरू करने के लिए तैयार हैं, क्योंकि ओली पोप को जांघ में खिंचाव के साथ भारत के खिलाफ पहले टेस्ट से बाहर कर दिया गया है। मंगलवार को ट्रेंट ब्रिज में पोप द्वारा नेट पर अपनी फिटनेस साबित करने में विफल रहने के बाद इंग्लैंड के पास बेयरस्टो और डैन लॉरेंस के रूप में विकल्प था कि कोई इनमें से एक पांच नंबर पर बल्लेबाजी कर सकता है। ऐसे में बेयरेस्टो को मौका मिलेगा।


बेयरस्टो मध्य क्रम में अनुभव जोड़ेंगे और बेन स्टोक्स टीम का हिस्सा नहीं हैं। ऐसे मे लॉरेंस को भी फायदा मिलेगा, जिन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने आखिरी टेस्ट में 81 रन बनाए थे, लेकिन टेस्ट स्तर पर कच्चे दिखते हैं। बेयरस्टो ने भारत में टेस्ट सीरीज की समाप्ति के बाद से लाल गेंद से क्रिकेट नहीं खेला है, जहां उन्होंने चार पारियों में तीन डक बनाए और इस प्रारूप में उनका करियर लगभग खत्म सा हो गया। हालांकि, उनका फॉर्म सफेद गेंद से अच्छा रहा।


पाकिस्तानी दिग्गज का दावा, कहा- अगर मैं इस्तीफा नहीं देता तो बड़ी समस्या खड़ी हो जाती

पाकिस्तानी दिग्गज का दावा, कहा- अगर मैं इस्तीफा नहीं देता तो बड़ी समस्या खड़ी हो जाती

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वकार यूनिस ने हाल ही में टी20 विश्व कप 2021 से पहले पाकिस्तान टीम के गेंदबाजी कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था। मुख्य कोच मिस्बाह उल हक ने भी अपना पद छोड़ दिया था। अब इस बारे में वकार यूनिस ने खुल कर बात की है। एक विशेष साक्षात्कार में क्रिकेट पाकिस्तान से बात करते हुए, वकार ने कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) में हालिया बदलावों के बाद इस्तीफा देना एक बुद्धिमानी थी।

उन्होंने कहा, "मेरे इस फैसले के पीछे दो से तीन कारण थे। जाहिर है, परिवार के साथ समय बिताना उनमें से एक था जो कोविड-19 के कारण मुश्किल होता जा रहा था। साथ ही, नए पीसीबी अध्यक्ष (रमीज राजा) की नियुक्ति और उनके शासन के बाद यह बुद्धिमानी की बात यह थी, क्योंकि ऐसा लग रहा था कि वह (राजा) एक नया सेटअप लाना चाहते हैं। इसलिए, जब मिस्बाह ने इस्तीफा दिया, तो मैंने उसी का पालन करने का फैसला किया।"

पाकिस्तान टीम के पूर्व दिग्गज वकार यूनिस ने आगे बताया, "अगर हमने यह फैसला नहीं लिया होता तो बड़ी समस्या खड़ी हो जाती। विवाद हो सकता था। मेरे पास क्रिकेट बोर्ड और उसके इतिहास को समझने का पर्याप्त अनुभव है। जब कोई नया सेटअप कार्यभार संभालता है, तो उनके काम करने का अपना तरीका होता है और उन सभी को ध्यान में रखते हुए यह करना एक समझदारी की बात थी।"

उन्होंने अगले महीने शुरू होने वाले मेगा इवेंट में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए पाकिस्तान का भी समर्थन किया। वकार ने कहा, "विश्व कप एक छोटा टूर्नामेंट है और अगर आपके खिलाड़ी फार्म में हैं और किस्मत आपका साथ देती है, तो टीम आगे बढ़ सकती है। हमारी गेंदबाजी किसी भी टोटल का बचाव कर सकती है और अगर हम अपनी बल्लेबाजी में कुछ मुद्दों को ठीक कर सकते हैं, तो इस टीम में हर तरह से जाने की क्षमता है।"