पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर ने भारत-पाकिस्तान को मिलाकर चुनी टी20 टीम

पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर ने भारत-पाकिस्तान को मिलाकर चुनी टी20 टीम

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट के मुकाबले का इंतजार हमेशा ही दोनों देशों के फैंस को रहता है। साल 2007 में जब पहली बार आइसीसी ने टी20 विश्व कप का आयोजन किया तो यही दोनों टीमें फाइनल में आमने सामने हुईं थीं। भारत ने महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी में पाकिस्तान को धूल चटाते हुए खिताब जीतकर इतिहास के पन्नों में नाम दर्ज कराया था। पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर ने भारत और पाकिस्तान को मिलाकर एक ऑल टाइम टी20 प्लेइंग इलेवन बनाई है। इसमें भारत के कुल 5 खिलाड़ियों को जगह दी है।

पूर्व पाकिस्तानी ऑलराउंडर ने अपनी ऑल टाइम प्लेइंग इलेवन चुनी है जो भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों को मिलकर बनाई गई है। इस टीम की कमान पूर्व भारतीय कप्तान और पहला टी20 विश्व कप जीतने वाले धौनी को दी है। टीम में रोहित शर्मा, विराट कोहली, युवराज सिंह, एमएस धौनी और जसप्रीत बुमराह को जगह दी है। 6 खिलाड़ी पाकिस्तान के हैं जिसमें शाहिद आफरीदी का भी नाम है।

ओपनिंग का जिम्मा यासिर ने रोहित शर्मा और विराट कोहली के कंधों पर सौंपा है। वहीं तीसरे नंबर पर ऑल राउंडर मोहम्मद हफीज तो चौथे स्थान पर भारतीय दिग्गज सिक्सर किंग युवराज को रखा है। पांचवां नंबर उमर अकमल को दिया गया है। टीम की कप्तानी और विकेटकीपिंग का जिम्मा नंबर 6 पर बल्लेबाजी के लिए रखे गए धौनी को दिया है। सातवें नंबर पर पूर्व पाकिस्तानी ऑलराउंडर शाहिद आफरीदी का है।


तेज गेंदबाजी का जिम्मा सोहेल तनवीर, उमर गुल के साथ भारतीय धुरंधर जसप्रीत बुमराह के कंधों पर रखी है। वहीं मुख्य स्पिनर के तौर पर सईद अजमल को जगह दी है।

भारत- पाकिस्तान ऑलटाइम टी20 टीम


रोहित शर्मा, विराट कोहली, मोहम्मद हफीज, युवराज सिंह, उमर अकमल, महेंद्र सिंह धौनी (कप्तान, विकेटकीपर), शाहिद आफरीदी, सोहेल तनवीर, उमर गुल, जसप्रीत बुमराह और सईद अजमल  


चेतेश्वर पुजारा जैसे बल्लेबाजों को अकेले छोड़ देना चाहिए

चेतेश्वर पुजारा जैसे बल्लेबाजों को अकेले छोड़ देना चाहिए

भारतीय कप्तान विराट कोहली का मानना है कि खेल में खामियों को परखने की जिम्मेदारी स्वयं खिलाड़ी की है और चेतेश्वर पुजारा की बल्लेबाजी के आलोचकों को उन्हें खुद इसका आकलन करने के लिए छोड़ देना चाहिए। मौजूदा भारतीय टीम में कोहली के बाद पुजारा टेस्ट में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। उन्होंने 86 मैचों में 6267 रन बनाए हैं, लेकिन उन पर अक्सर जरूरत से ज्यादा रक्षात्मक रवैया अपनाने के आरोप लगते रहे हैं।

कोहली ने कहा, "इस बारे में पिछले कुछ समय से बात हो रही है और मैं ईमानदारी से महसूस करता हूं कि इस तरह की प्रतिभा और अनुभव वाले खिलाड़ी को खेल की कमियां निकालने के लिए अकेला छोड़ दिया जाना चाहिए। मैं बाहर से कह सकता हूं कि आलोचना अनावश्यक है, लेकिन मैं इस तथ्य को जानता हूं कि पुजारा को इसकी परवाह नहीं है और ऐसी आलोचना उतनी ही प्रासंगिक है जितनी आप चाहते हैं।"

वहीं, शार्दुल ठाकुर की बल्लेबाजी क्षमता को लेकर कोहली ने कहा, "हां, उन्हें (शार्दुल को) ऑलराउंडर बनाया जा सकता है। वह पहले से ही एक बहुआयामी क्रिकेटर हैं और यह अधिक से अधिक आत्मविश्वास हासिल करने के बारे में है। उसके जैसा कोई खिलाड़ी टेस्ट या किसी भी प्रारूप की टीम को संतुलित बनाने में मदद करता है। वह ऐसे खिलाड़ी हैं जो सिर्फ इस सीरीज में नहीं, बल्कि आगे के लिए भी बहुत जरूरी होंगे।"


साल 2018 के इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया को 1-4 से हार का सामना करना पड़ा था। उसे याद करते हुए कोहली ने इस बार की टीम इंडिया के बारे में कहा, "2018 में जो खिलाड़ी अनुभवहीन थे, वे अब ज्यादा अनुभवी हैं। हां, असफलताएं होंगी, लेकिन हमारे पास पर्याप्त खिलाड़ी होंगे, जो दबाव की परिस्थितियों में खुद को साबित करने के लिए बेताब होंगे।"

तेज और उछाल भरी पिच चाहते हैं एंडरसन


भारत के खिलाफ सीरीज से पहले इंग्लैंड के दिग्गज तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन का मानना है कि जिस तरह से भारत ने इस साल के शुरू में अपनी घरेलू मैदानों पर अनुकूल पिचें बनाई थीं उसी तरह से इंग्लैंड को भी पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के दौरान तेज और उछाल वाली अच्छी पिचें तैयार करनी चाहिए।

एंडरसन ने कहा, "यदि हम पिच पर थोड़ा घास छोड़ते देते हैं तो मुझे नहीं लगता कि भारत को कोई शिकायत हो सकती है क्योंकि भारत के पिछले दौरे में हम निश्चित तौर पर उनके अनुकूल परिस्थितियों में खेले थे। अगर पिच पर थोड़ी घास मौजूद रहती है तो भारत के पास भी अच्छा तेज गेंदबाजी आक्रमण है। तेज गेंदबाज होने के नाते हम तेजी और उछाल चाहते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि गेंद स्विंग होगी और ऐसे में गेंद के बल्ले का किनारा लेने की संभावना बढ़ जाती है। मुझे पूरा विश्वास है कि वे पिच पर कुछ घास छोड़ेंगे और रोलर भी चलाएंगे।"


वहीं भारतीय बल्लेबाजी और कप्तान विराट कोहली का विकेट लेने के बारे में एंडरसन ने कहा, "भारत की बल्लेबाजी बेहद मजबूत है और आप किसी एक बल्लेबाज पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकते। कोहली निश्चित तौर पर महत्वपूर्ण विकेट हैं क्योंकि वह कप्तान हैं और टीम पर उनका सकारात्मक प्रभाव है। चेतेश्वर पुजारा ऐसे बल्लेबाज हैं जो लंबे समय तक क्रीज पर पैर जमाए रख सकते हैं। इसलिए वह भी महत्वपूर्ण विकेट हैं।"


39 वर्षीय एंडरसन का मानना है कि आइपीएल ने बल्लेबाजों को निडर बना दिया है। उन्होंने कहा, "आइपीएल की पीढ़ी के बल्लेबाज निडर होकर खेलते हैं और किसी भी प्रारूप में शाट लगाने से नहीं डरते हैं। रिषभ पंत को ही देख लें, पिछले दौरे में मेरे खिलाफ नई गेंद पर वह रिवर्स स्वीप कर रहे थे। आपने कभी सौरव गांगुली को ऐसा करते हुए नहीं देखा होगा।"