चेस चैम्पियनशिप हुआ समाप्त, जाने पूरी खबर

चेस चैम्पियनशिप हुआ समाप्त, जाने पूरी खबर

गुजरात में नेशनल टीम चेस चैम्पियनशिप गुरुवार को समाप्त हुई. इसकी पुरुष कैटेगरी में 36 जबकि महिला कैटेगरी में 17 टीमों ने भाग लिया. इस चैंपियनशिप में दुनिया स्तरीय तान्या सचदेव, आदिबान भास्करन,

किरण मनीषा मोहंते, स्वाति घाटे व दीपेन चक्रवर्ती जैसे स्टार खिलाड़ियों ने भाग लिया. इनमें से अधिकांश खिलाड़ियों ने 6 से 10 वर्ष की आयु के बीच खेलना प्रारम्भ कर दिया था. इनमें से किसी को माता-पिता व किसी को भाई से खेलने की प्रेरणा मिली. इनमें से कुछ खिलाड़ी ग्रैंड मास्टर हैं तो कुछ इंटरनेशनल मास्टर. कुछ इंटरनेशनल खेलना छोड़ चुके हैं.

स्वाति घाटे ने तीन कॉमनवेल्थ व दो एशियन टाइटल जीते
भाई व पिता से ट्रेनिंग ली. 10 वर्ष की आयु में खेलना प्रारम्भ किया. 1992 में नेशनल चैंपियनशिप जीती. हर वर्ष किसी न किसी नेशनल टूर्नामेंट में मेडल जीते. 3 कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप, 2 एशियन चैंपियनशिप में टाइटल जीत चुकी हैं. इंटरनेशनल ज्यादा न खेल पाने के कारण एक्सपोजर कम मिला.

तान्या सचदेव ब्रिटिश चैम्पियन बनीं
6 वर्ष की आयु से खेलना प्रारम्भ किया. पिता व भाई चेस की रूल बुक से सिखाते थे. अंडर-8 कैटेगरी में ब्रिटिश चैंपियनशिप जीती. माता-पिता ने कभी पढ़ाई के लिए दबाव नहीं बनाया. इंटरनेशनल मास्टर व ग्रैंड मास्टर हैं.

दीपन चक्रवर्ती को पिता की मृत्यु के बाद मां ने प्रोत्साहित किया
6 वर्ष की आयु से खेलना प्रारम्भ किया. 9 की आयु में पिता की मौत हो गई. इसके बाद मां ने फैमिली बिजनेस संभाला व आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया. एक ही वर्ष में स्टेट टूर्नामेंट जीत लिया. वे 20 से ज्यादा टाइटल जीत चुके हैं.

आदिबान भास्करन 15 इंटरनेशनल मेडल जीते
7 की आयु में माता-पिता से चेस सीखा व 8 की आयु से खेलने लगे. नेशनल अंडर-14 चैंपियन बने. पहले आर्थिक दिक्कतें आतीं क्योंकि पिता प्रिंटिंग प्रेस में कार्य करते. अंडर-16 वर्ल्ड चैंपियन बन चुके हैं. 15 इंटरनेशनल मेडल जीते.

किरण मनीषा कॉमनवेल्थ चैम्पियनशिप की गोल्ड मेडलिस्ट
9 वर्ष की आयु से चेस खेलना प्रारम्भ किया. स्कूल में कैंप का भाग बनने से दिलचस्पी बढ़ी. कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में गोल्ड जीता. इसके बाद ग्रैंड मास्टर टाइटल. आर्थिक कारणों से अब इंटरनेशनल में भाग नहीं लेतीं.