न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम ने जीता टास, इस खिलाड़ी को मिला डेब्यू करने का मौका

न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम ने जीता टास, इस खिलाड़ी को मिला डेब्यू करने का मौका

नई दिल्ली। Ind vs Nz 1st Test: कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में भारत और न्यूजीलैंड टीम आमने-सामने हैं। दोनों टीमों के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला खेला जा रहा है। इस मैच में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान अजिंक्य रहाणे ने टास जीता है और पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया है। इस मुकाबले के साथ भारत के लिए एक खिलाड़ी ने अपना टेस्ट डेब्यू भी किया है।

भारतीय टीम के लिए श्रेयस अय्यर को डेब्यू करने का मौका मिला है। विराट कोहली को पहले टेस्ट मैच में आराम दिए जाने के कारण उनको टेस्ट टीम में चुना गया था। हालांकि, उस समय उनका खेलना तय नहीं था, क्योंकि शुभमन गिल से मध्य क्रम में बल्लेबाजी कराए जाने का विचार था, लेकिन केएल राहुल चोटिल होकर टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए। ऐसे में शुभमन गिल अपने परंपरागत ओपनिंग स्लाट पर चले गए।

वहीं, मध्य क्रम में एक बल्लेबाज के लिए जगह खाली हो गई। हालांकि, सूर्यकुमार यादव को केएल राहुल के रिप्लेसमेंट के तौर पर टीम के साथ जोड़ा गया था, लेकिन टेस्ट डेब्यू करने का मौका श्रेयस अय्यर को मिला है। इसके पीछे का कारण ये है कि श्रेयस अय्यर ने सीमित ओवरों की क्रिकेट में न्यूजीलैंड के गेंदबाजों को अच्छी तरह खेला है और वे नेट्स में भी शानदार लय में नजर आ रहे थे।

दाएं हाथ के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर की बात करें तो उन्होंने अपना पहला इंटरनेशनल मैच नवंबर 2017 में खेला था। वहीं, चार साल के बाद उनको टेस्ट क्रिकेट में मौका मिला है। टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने के बाद उनको अगले ही महीने वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में भी मौका मिला था, लेकिन वे ज्यादा समय तक टीम का हिस्सा नहीं रहे, लेकिन दो साल से वे टीम इंडिया के रेगुलर मेंबर बन चुके हैं।

भारत की प्लेइंग इलेवन

मयंक अग्रवाल, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे(कप्तान), श्रेयस अय्यर, रिद्धिमान साहा (विकेटकीपर), अक्षर पटेल, आर अश्विन, रवींद्र जडेजा, उमेश यादव और इशांत शर्मा


एंटीलिया केस: क्रिकेट बुकी नरेश गौर की जमानत पर रोक का आदेश खारिज, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी राहत

एंटीलिया केस: क्रिकेट बुकी नरेश गौर की जमानत पर रोक का आदेश खारिज, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी राहत

बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को एंटीलिया मामले में गिरफ्तार क्रिकेट बुकी नरेश गौर की जमानत पर रोक का विशेष अदालत का आदेश खारिज कर दिया। 

हाईकोर्ट की जस्टिस एसके शिंदे की एकल पीठ ने बुधवार को गौर द्वारा दायर अर्जी की सुनवाई की। इसमें गौर ने उसे मिली 25 दिन की जमानत पर विशेष एनआईए कोर्ट द्वारा लगाई गई रोक को चुनौती दी थी। एनआईए ने आरोपी गौर को इस साल मार्च में गिरफ्तार किया था। उस पर आरोप है कि वह एंटीलिया बम दहशत केस में और कारोबारी मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में शामिल है।

20 नवंबर को विशेष एनआईए कोर्ट ने उसे इस आधार पर जमानत दे दी थी कि प्रथम दृट्या यह पाया गया है कि उसे साजिश की जानकारी नहीं थी। गौर केस का पहला आरोपी है, जिसे जमानत मिली है। हालांकि इसके बाद विशेष कोर्ट ने 25 दिन की जमानत देने के अपने ही आदेश पर अभियोजन पक्ष के आग्रह पर रोक लगा दी थी। 

इसके बाद गौर ने हाईकोर्ट की शरण ली थी। गौर ने अपने वकील अनिकेत निकम के माध्यम से हाईकोर्ट में अपील दायर कर विशेष कोर्ट के आदेश को चुनौती दी। यह मामला मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के निवास एंटीलिया के बाहर विस्फोटकों से लदी एसयूवी खड़ी करने से जुड़ा है। 

गौर ने अपनी अपील में कहा कि विशेष कोर्ट ने उसे इस आधार पर जमानत दी थी कि उसकी एंटीलिया साजिश और मनसुख हिरेन हत्याकांड में कोई भूमिका नहीं है। इसके बाद एनआईए कोर्ट को अपने ही आदेश पर रोक नहीं लगाना थी। इसके बाद जस्टिस शिंदे ने इन दलीलों को स्वीकार किया और जमानत पर रोक का एनआईए कोर्ट का आदेश खारिज कर दिया।