कोहली के लिए खास दिन, तोड़ सकते हैं सचिन का ये बड़ा रिकाॅर्ड

कोहली के लिए खास दिन, तोड़ सकते हैं सचिन का ये बड़ा रिकाॅर्ड

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने  कई रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज हैं। ऐसे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में 22 हजार रन पूरा करके उन्होंने विश्व रिकॉर्ड स्थापित कर लिया है। अब तीसरे वनडे में विराट कोहली के सामने भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर से वनडे के सबसे बड़े रिकॉर्ड पर ध्यान रहेगा।

सचिन के  रिकॉर्ड को अपने नाम
मात्र 23 रन बनाते ही विराट कोहली सचिन के इस रिकॉर्ड को अपने नाम कर सकेंगे। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज टीम इंडिया ने गंवा दी है। तीसरे और आखिरी मुकाबले में बुधवार को विराट ब्रिगेड अपनी प्रतिष्ठा बचाने उतरेगी। भारतीय टीम को क्रमश: 66 और 51 रनों से हार का सामना करना पड़ा है।

सबसे तेज 12 हजार वनडे रन
ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ बुधवार को 23 रन बना लेते हैं तो वह तेंदुलकर की तुलना में 58 मैच पहले इस उपलब्धि को हासिल कर लेंगे। फिलहाल तेंदुलकर सबसे तेज 12 हजार वनडे रन पूरे करने वाले बल्‍लेबाज हैं। इस लिस्ट में तेंदुलकर के बाद रिकी पोटिंग हैं, जिन्‍होंने 323 मैचों की 314 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की. कुमार संगकारा ने 359 मैचों की 336 पारियों में, सनथ जयसूर्या ने 390 मैचों की 379 पारियों में और महेला जयवर्धने ने 426 मैचों की 399 पारियों में यह कमाल किया है।

वनडे करियर में 49 शतक
विराट कोहली के नाम सबसे तेज 8000, 9000, 10000 और 11000 रन बनाने का रिकॉर्ड पहले से ही है। विराट कोहली ने अब तक 250 वनडे मैचों की 241 पारियों में 59.29 के एवरेज से 11977 रन बनाए हैं। उन्होंने 43 शतक और 59 अर्धशतक जमाए हैं। सर्वाधिक शतक की बात करें, तो सिर्फ सचिन तेंदुलकर उनसे आगे हैं, जिन्होंने अपने वनडे करियर में 49 शतक लगाए थे।

32 साल के विराट सबसे कम पारियों (242) में यह उपलब्धि हासिल करने वाले बल्लेबाज बन जाएंगे। वह मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ देंगे, जिन्हें अपने 12000 रन पूरे करने के लिए 300 पारियां लगी थीं। विराट कोहली के नाम सबसे तेज 8000, 9000, 10000 और 11000 रन बनाने का रिकॉर्ड पहले से ही है।


आखिरकार तपकर सोना बन ही गए रिषभ पंत, बहुत झेलनी पड़ी थी आलोचना

आखिरकार तपकर सोना बन ही गए रिषभ पंत, बहुत झेलनी पड़ी थी आलोचना

सिडनी टेस्ट के पांचवें दिन से एक दिन पहले की बात है, रिषभ पंत की कोहनी में चोट थी और परिस्थिति कुछ ऐसी थी कि उन्हें मैच के पांचवें दिन मैदान पर उतरना था। तब पंत थ्रोडाउन स्पेशलिस्ट के साथ घंटों तक अभ्यास कर रहे थे। थ्रोडाउन कर रहे नुवान पूरी गति से बाउंसर नहीं फेंक रहे थे। पंत ने कहा पूरी गति से डालो, मैदान पर ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ऐसी धीमी गेंद नहीं फेंकेंगे। नुवान को लग रहा था कि कहीं पंत को चोट नहीं लग जाए, लेकिन पंत लगातार कहते दिखे, और तेज डालो, और तेज डालो। पंत उस मैच में 97 रन बनाकर आउट हुए थे और उस टेस्ट को जिताने से कुछ दूर रह गए थे, लेकिन मंगलवार को वह पहली बार कोई टेस्ट मैच जिताकर नाबाद लौटे। इस आठ दिन के अंदर नादान रिषभ, नायाब पंत बन गया।

सिडनी में 97 रन पर आउट होने के बाद जब पंत ने अपने कोच तारक सिन्हा को फोन किया, तो वह काफी निराश थे। सिन्हा ने कहा कि कभी-कभी तुम्हें खराब गेंदों को छोड़ना भी होगा। पंत का जवाब था मैं खराब गेंदों को छोड़ नहीं सकता। दरअसल, अपने करियर के शुरुआती दिनों से पंत ऐसे ही हैं। उनके अंदर युवराज सिंह जैसे छक्के लगाने की क्षमता के साथ फौलादी इरादे भी हैं। अपने तेज तर्रार शॉट की वजह से ही वह राहुल द्रविड़ के पसंदीदा बने थे और इन्हीं शॉट चयन की वजह से पंत का करियर डूबता जा रहा था। वर्ष 2020 आते-आते वह अपने पसंदीदा प्रारूप (टी-20) से बाहर हो गए थे। वनडे टीम से भी निकाले गए और टेस्ट टीम में भी पहली पसंद नहीं रहे।


पंत की मदद इस मामले में कोई दूसरा नहीं कर सकता था। पंत की लड़ाई खुद से थी। यह लड़ाई इतनी आसान भी नहीं रही, क्योंकि वीरेंद्र सहवाग भी अपने शॉट चयन की वजह से विकेट खो बैठते थे और आलोचना झेलते थे, लेकिन पंत के साथ यह बार-बार होने लगा। कई बड़े मौकों पर होने लगा। पंत भी आम से खास बनने का सपना देखते आए, लेकिन उनके सपने भी बड़े थे। वह एमएस धौनी की तरह विजयी बाउंड्री लगाकर बड़ा मैच जिताना चाहते थे। ऑस्ट्रेलिया में अभ्यास मैच में बड़ी पारी खेलने के बावजूद पहले टेस्ट में पहली पसंद रिद्धिमान साहा बने।


दिल्ली की सर्दियों में गुरुद्वारे में रात बिताकर टेस्ट कैप हासिल करने वाले पंत अंदर से टूटने वालों में से कहां थे। सिडनी टेस्ट और गाबा टेस्ट में पंत के शॉट लगाने के तरीकों में पहले से कुछ भी अलग नहीं था, अलग था तो उनके अंदर का संकल्प।

2016 में उनके साथ अंडर-19 विश्व कप खेलने वाले तेज गेंदबाज शुभम मावी ने बताया कि वह क्लीन हिटर रहे हैं। कभी भी कितना भी दबाव हो वह अपना ही खेल खेलता था। घरेलू स्तर पर वह तीन बार फेल हुआ तो अगले मैच में उसकी बड़ी पारी सब भुला देती थी। राहुल द्रविड़ सर को भी उसकी यही खासियत पसंद थी लेकिन भारतीय टीम के साथ खेलते हुए उसकी समस्या यही थी कि उसके प्राकृतिक खेल की ही आलोचना होने लगी, जिसे वह बदल नहीं सकता, लेकिन मंगलवार को उसने अपनी इसी काबिलियत से अपने अंदर के पंत को हरा दिया।

रिषभ पंत के कोच तारक सिन्हा ने कहा है, "पंत ने अब अपने सभी आलोचकों को शांत कर दिया। टीम ने उसे मौका देकर दिखाया कि वह उस पर पूरा विश्वास करती है। मुझे पूरा विश्वास है कि उसकी विकेटकीपिंग भी बेहतर होगी। जब आप अपनी जगह को लेकर संतुष्ट हो जाओ और सभी कहें कि आप अच्छे हो तो बाकी चीजें खुद ठीक होने लगती हैं।"


तेज दिमाग पाने के लिए रोजाना इस तेल का करें इस्तेमाल       सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय       आंखो और त्वचा के लिए किसी दवा से कम नहीं है Witch Hazel, ऐसे करें इस्तेमाल       टेस्ट और हेल्थ दोनों के लिए स्नैक्स में बनाएं 'कैरट फ्रिटर्स'       राजस्थान की बेहद पॉपुलर ट्रेडिशनल डिश 'जैसलमेरी चना' है स्वाद का खजाना       खट्टा-मीठा स्वाद लिए हुए 'अंगूर का अचार' है बहुत ही टेस्टी और आसान       भुर्जी, स्क्रैम्बल एग से अलग आज सीखें 'मग ऑमलेट' बनाने की क्विक एंड ईजी रेसिपी       प्रोटीन रिच डाइट का बेहतरीन ऑप्शन है 'कॉलीफ्लॉवर चीज़'       डॉगी ने अपने दिव्यांग मालिक को कराई ऐसी सैर, देख आप कह उठेंगे OMG...       आपके अकाउंट में नहीं आई है सातवीं किस्त, तो यहां करें शिकायत; जानें क्या है प्रोसेस       अपने फोन से 10 मिनट में अपडेट करें अपना आधार कार्ड, जानिए ये आसान प्रॉसेस       PNB ग्राहक ध्यान दें, 1 फरवरी से इन ATM से नहीं निकाल पाएंगे पैसा       CLSS के तहत सब्सिडी, समयसीमा बढ़ाए जाने की मांग; अलग से टैक्स छूट भी चाहते हैं इंडस्ट्री के एक्सपर्ट       हेलमेट इंडस्ट्री की GST में कमी की मांग, EV इंडस्ट्री को चार्जिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर में निवेश की उम्मीद       रिजर्व बैंक ने कहा कि भारत की जीडीपी की वृद्धि दर सकारात्मक होने के बिल्कुल करीब       सोने के दाम में भारी तेजी, चांदी भी हुई काफी महंगी, जानें क्या हो गए हैं रेट       सोमवार से कर सकते हैं सब्सक्राइब, जानें कंपनी ने क्या तय की है एक शेयर की कीमत       उमंग कुमार 109 वर्षीय फौजा सिंह के जीवन पर बनाएंगे फिल्म, की घोषणा       andav Controversy के बीच सांसद ने जानें क्यों की 'मिर्जापुर' के निर्माताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग       ये एक्टर बचपन में दिखते थे इतने क्यूट, एक्टर के जन्मदिन पर वायरल हुई माँ के साथ ये खास तस्वीर