इस बार भी बैटिंग के ही भरोसे है टीम इंडिया

इस बार भी बैटिंग के ही भरोसे है टीम इंडिया

पहले मैच में बेहतरीन जीत दर्ज करने के बाद टीम इंडिया होने वाले दूसरे टी-20 मैच में सीरीज जीतने के इरादे से मैदान पर उतरेगी। रविवार को यहां ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल स्टेडियम में होने वाले इस मैच में सवाल यही है कि क्या इस मैच में वेस्टइंडीज की टीम वापसी करेगी। क्योंकि पहले मैच में उसने टीम इंडिया को चुनौतीपूर्ण लक्ष्य देने में कामयाबी हासिल की थी।  

पहले मैच में शानदार जीत दिलाई थी विराट ने
 भारत ने शुक्रवार को हैदराबाद के राजीव गांधी अंतराराष्ट्रीय स्टेडियम में खेले गए पहले टी-20 मैच में कैप्टन विराट कोहली (नाबाद 94) की बेहतरीन तूफानी पारी के दम पर विंडीज द्वारा रखे गए 208 रनों के विशाल लक्ष्य को सरल पीछा कर छह विकेट से जीत दर्ज सीरीज में 1-0 की बढ़त ली थी। यह हिंदुस्तान की टी-20 में रनों का पीछा करते हुए अभी तक की सबसे बड़ी जीत भी है।

:

इस बार भी बैटिंग के ही भरोसे है टीम इंडिया
टीम इंडिया बार भी अपनी बैटिंग के भरोसे इस मैच में उतरेगी। हैदराबाद में हिंदुस्तान की जीत में कोहली के अतिरिक्त लोकेश राहुल का भी सहयोग रहा जिन्होंने कोहली के साथ दूसरे विकेट के लिए 100 रनों की साझेदारी कर टीम क जीत की नींव रखी। राहुल ने इस साझेदारी में 62 रनों का सहयोग दिया था। टीम ने बल्ले से जिस तरह का प्रदर्शन किया उससे कोहली व टीम प्रबंधन बेहद खुश होंगे औ्रर चाहेंगे कि आगे के मैचों में भी बल्लेबाजों की यही फॉर्म जारी रहे।

 

यह है सबसे बड़ी चुनौती
 टीम को बाकी के दो विभागों- गेंदबाजी व फील्डिंग में ध्यान देने की आवश्यकता है। पिछले मैच को देखा जाए तो इन दोनों विभागों में टी-20 रैंकिंग में संसार की पांचवें नंबर पर की टीम को सुधार करने की आवश्यकता है। हिंदुस्तान ने पहले मैच में कई कैच छोड़े थे, जिसका लाभ उठाकर कैरेबियाई बल्लेबाजों ने स्कोर बोर्ड पर 207 रन टांग दिए थे।

वेस्टइंडीज की भी कम नहीं हैं समस्याएं 
दूसरी तरफ वेस्टइंडीज की टीम इस मैच को जीतकर सीरीज में बने रहना चाहेगी। अफगानिस्तान से 1-2 से सीरीज हारने के बाद दुनिया चैंपियन विंडीज टीम किसी भी हाल में सीरीज नहीं गंवा चाहेगी। पहले टीम में कैरेबिाई टीम की गेंदबाजी बेअसर रही थी व वे 207 रन का स्कोर बनाने के बावजूद भी इस स्कोर को बचाव नहीं कर पाई थी।

अतिरिक्त रनों की बड़ी समस्या
कैप्टन केरन पोलार्ड ने मैच के बाद खुद भी माना कि टीम को अपनी गेंदबाजी में सुधार करने की आवश्यकता है। टीम ने 23 रन अलावा दिए थे व पोलार्ड ने मैच के बाद इसी को पराजय का अहम कारण बताया था।