राममंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में बैठक शुरू

राममंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में बैठक शुरू

लखनऊ: अयोध्या में बनने वाले श्रीराम जन्मभूमि बनने के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारियों की बैठक शुरू हो चुकी है। इस बैठक में मंदिर निर्माण को लेकर विचार विमर्श किया जा रहा है। बैठक के दौरान पदाधिकारियों के सामने मंदिर निर्माण के लिए पुरानी पद्धति से अलग हटकर इंजीनियर नई डिजाइन रखेगें।

अधिकारी राम जन्मभूमि परिसर पहुंचे हैं
21 व 22 जनवरी को मंदिर निर्माण समिति की चार चरण में हो रही बैठक के पहले चरण में ट्रस्ट व निर्माण कार्य से जुड़े अधिकारी राम जन्मभूमि परिसर पहुंचे हैं। अयोध्या के विश्वामित्र आश्रम में इस महत्वपूर्ण बैठक में कार्यदाई संस्था लार्सन एंड टूब्रो कंपनी के अलावा टाटा कंसल्टेंसी के इंजीनियरों के साथ यह बैठक हो रही है। बैठक में शामिल होने के लिए आर्किटेक्ट सोनपुरा भी अयोध्या धाम पहुंचे हैं।

शामिल हुए ये लोग
राममंदिर निर्माण समिति की बैठक में नृपेंद्र मिश्र, ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, ट्रस्टी गोविंददेव गिरि, डॉ. अनिल मिश्र, बिमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र, एके मित्तल, जगदीश एस अफले , राममंदिर के आर्किटेक्ट आशीष सोमपुरा सहित टाटा, एलएंडटी, एनजीआरआई हैदराबाद सहित मंडलायुक्त, डीएम व नगर आयुक्त भी शामिल हैं।


दोपहर बाद सर्किट हाउस में ट्रस्ट के पदाधिकारियों और टाटा कंसल्टेंसी और एलएनटी के इंजीनियरों के साथ एक अलग बैठक भी होगी। राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन पूर्व आईएएस नृपेंद्र मिश्र बैठक करने के लिए 20 जनवरी की रात को अयोध्या पहुंचें। उन्होंने रामलला व हनुमानगढ़ी में दर्शन-पूजन भी किया।

दोनों निर्माण कंपनी टीसी व एलएनटी ने तैयार कर लिया है डिजाइन
कहा जा रहा है कि राम मंदिर निर्माण की कार्यदायी संस्था एलएंडटी सहित टाटा कंसलटेंट इंजीनियर्स और आइआइटी चेन्नई, मुंबई, दिल्ली आदि संस्थाओं सहित नेशनल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञों ने अब नए सिरे से नींव की डिजाइन तय की है। नींव डिजाइन दोनों निर्माण कंपनी टीसी व एलएनटी ने तैयार कर लिया है।

उल्लेखनीय है कि अयोध्या में भव्य राममंदिर की मजबूती को लेकर ट्रस्ट की ओर से कई दौर की बैठकें हो चुकी हैं, जिसमें विभिन्न पहलुओं पर विचार किया जा चुका है। मंदिर निर्माण की नींव के लिये कई बार परीक्षण होने के बाद कहा गया कि कि जमीन के नीचे भुरभुरी बालू और पानी होने के कारण सीमेंट के पिलर्स का इस्तेमाल उचित नहीं है।


किन्नरों के चेहरे पर छाई खुशी, वाराणसी में खुला UP का पहला ट्रांसजेंडर शौचालय

किन्नरों के चेहरे पर छाई खुशी, वाराणसी में खुला UP का पहला ट्रांसजेंडर शौचालय

वाराणसी: समाज में सदियों से हाशिए रहने वाले किन्नर समुदाय के अच्छे दिन आने लगे हैं। अब ना सिर्फ कानूनी तौर पर उन्हें स्वीकारा जा रहा है बल्कि अब समाज में विशेष स्थान भी दिया जा रहा है। इसकी एक छोटी सी बानगी देखने को मिल रही है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में। यहां पर ट्रांसजेंडर्स के लिए विशेष रुप से पब्लिक शौचालय बनाया गया है। उत्तर प्रदेश का ये एकलौता ट्रांसजेंडर्स शौचालय है।

खिल उठे किन्नरों के चेहरे
आज से पहले शायद ही इतनी खुशी किन्नरों के चेहरे पर देखने को मिली हो। यकीनन सरकार की ये कोशिश जरुर है लेकिन किन्नरों को इस बात का एहसास दिलाता है कि वो भी समाज के एक महत्वपूर्ण अंग हैं।

बनारस की मेयर मृदुला जायसवाल ने इसका उद्घाटन किया तो किन्नरों के चेहरे खिल उठे। किन्नर समुदाय से स्वच्छता दूत सलमान चौधरी ने इस शौचालय के लिए नगर निगम का धन्यवाद दिया।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा समस्त भारत वर्ष में चलाये जा रहे स्वच्छ भारत मिशन अभियान मे प्रतिभाग करते हुए काशी नगरी को स्वच्छ, स्वस्थ्य बनाने में नगर निगम द्वारा चलाये जा रहे ’’स्वच्छता संग्रम-2021’’में अपना बहुमूल्य योगदान देगें, जिससे विश्वविख्यात काशी की गरिमा स्वच्छता में भी सर्वेच्च बनी रहें और हम इस वर्ष स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में प्रथम रैंक प्राप्त करगें।

किन्नर ही संभालेंगे शौचालय का प्रबंध
इस ट्रांसजेंडर शौचालय की सारी व्यवस्थाएं ट्रांसजेंडर्स के हाथों में रहेगी। इस सम्बन्ध में लोकार्पण के समय बात करते हुए महापौर मृदुला जायसवाल ने बताया कि आज प्रदेश का पहला ट्रांसजेंडर शौचालय वाराणसी में खोला गया है। हमारी योजना है कि आने वाले दिनों में नगर निगम के सभी जोनों में एक-एक ट्रांसजेंडर शोचालय खोला जाए ताकि हमारे देश का जो तृतीय समुदाय है उसे किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े।


वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे और टी20 सीरीज के लिए श्रीलंकाई टीम का ऐलान       अब ऑनलाइन युवाओं को बल्लेबाजी के गुण सिखाएंगे सचिन तेंदुलकर       रॉबिन उथप्पा ने ठोका शतक और केरल ने उड़ीसा को इतने रन से हराया       IPL में अब तक खिलाड़ियों की सैलरी पर खर्च हुए हैं 6144 करोड़ रुपये       T20 विश्व कप में 20 खिलाड़ियों को क्यों उतारना चाहती है न्यूजीलैंड की टीम       पेट्रोल-डीजल ने रुलाया, साइकिल से ऑफिस पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा       बीजेपी चीफ ने किया दुष्कर्म! गैंगरेप में सामने आया नाम       पुडुचेरी: कांग्रेस के हाथ से निकली एक और राज्य की सत्ता       महाराष्ट्र में हालात खराब, दूसरे राज्यों का क्या होगा       यात्रियों के छूटे पसीने, ट्रेन पार कर गई पूरा प्लेटफॉर्म, स्टेशन पर खड़े रहे गए सभी       घर में मच्छर भगाने के लिए नहीं है कॉइल या मॉस्कीटो लिक्विड, तो...       बच्चे में दिख रहे हैं डेंगू के लक्षण, तो ऐसे करें उपाय       पुश-अप कैसे करें और एक दिन में कितने पुश-अप्स करने चाहिए       बासी रोटी भी आपको बना सकती है सेहतमंद       इस तरह दूर करें अपनी स्किन की परेशानियां       गर्मियों में शरीर से निकलता है ज्यादा पसीना तो अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे       महिलाएं नहाते समय करती हैं ऐसी गलतियाँ, पहुंचाती है नुकसान       महिलाएं अपने गोर गालों को उभारने के लिए करें ये देसी उपाय       अमेरिका के टॉप स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के तीन और लक्षण बताए हैं, जानें       गर्मियों के मौसम में बेहद फायदेमंद है चीकू का सेवन