बसपा सुप्रीमो मायावती ने नांगल गांव दुष्कर्म-हत्या मामले में जताया दुख

बसपा सुप्रीमो मायावती ने नांगल गांव दुष्कर्म-हत्या मामले में जताया दुख

दिल्ली के कैंट इलाके में 9 साल की मासूम के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला गरमा गया है। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्ययक्ष मायावती ने दिल्ली कैंट के नांगल गांव में एक नौ वर्ष की बच्ची के साथ दुष्कर्म और हत्या के मामले में दोषियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि घटना अति दुखद और शर्मनाक है। दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए ताकि ऐसी घटनाएं दोबार न हों।

बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि 'दिल्ली कैंट के नागल गांव में नौ वर्षीय दलित लड़की की दुष्कर्म के बाद उसकी नृशंस हत्या व फिर उसके शव को जला देने की घटना अति दुखद और शर्मनाक है। दोषियों के विरुद्ध अविलंब सख्त कार्रवाई करने व ऐसी घटनाओं की पुनरावृति रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने की बीएसपी की मांग।'

बता दें कि रविवार को दिल्ली कैंट थाना क्षेत्र के एक गांव में नौ साल की बच्ची की संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी। आरोप है कि बच्ची से श्मशान घाट के अंदर दुष्कर्म कर उसकी हत्या करके शव जला दिया गया। इस मामले में शुरुआत में पुलिस ने लापरवाही से मौत, सबूत मिटाने और परिवारीजन को बिना बताए शव का अंतिम संस्कार करने जैसे मामलों में मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने सामूहिक दुष्कर्म, हत्या, पॉक्सो, एससी-एसटी एक्ट और जान से मारने की धमकी देने समेत कई अन्य धाराएं भी जोड़ दीं। इस मामले में श्मशान घाट के पुजारी समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

डीसीपी इंगित प्रताप सिंह ने बुधवार को बताया कि बच्ची के शरीर के बचे हुए अंगों का पोस्टमार्टम कराया गया है। डॉक्टरों के बोर्ड ने बताया है कि शरीर के​ जितने अंग हैं उनसे मौत के कारण का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। अवशेषों को हम परिवार को सौंप देंगे। उन्होंने कहा कि लाई डिटेक्टर और नार्को टेस्ट के लिए आरोपी की सहमति जरूरी होती है। अगर आरोपी मान जाते हैं तो हम लाई डिटेक्टर और नार्को टेस्ट करेंगे। हम लोग आरोपियों को न्यायिक हिरासत से रिमांड में लाएंगे और पूछताछ करेंगे।


यूपी के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला

यूपी के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला

युवाओं को अधिक से अधिक नौकरी देने की सरकार की मंशा के सापेक्ष एक और बड़ा कदम उठाया जा रहा है। औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में आइटीआइ की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के कौशल को निखारने के लिए चार अक्टूबर को वृहद अप्रेंटिसशिप मेला लगेगा। लखनऊ समेत सूबे के सभी जिलों में लगने वाले मेले के माध्यम से एक दिन में दो लाख युवाओं को अप्रेंटिसशिप देने का लक्ष्य रखा गया है। इसके आयोजन के लिए जिले के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के प्रधानाचार्य को नोडल अधिकारी बनाया गया है। संयुक्त निदेशक व्यावसायिक शिक्षा एससी तिवारी ने बताया कि लखनऊ समेत सूबे की सभी 305 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों और 2969 निजी संस्थानों के विद्यार्थियों को अप्रेंटिस के इस मेेले में शामिल करने की व्यवस्था करने के निदेश दिए गए हैं। कौशल विकास विभाग के जिला प्रबंधकों को भी इस वृहद मेले से जोड़ा जाएगा। 


औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने का प्रयासः उपायुक्त उद्योग मनोज चौरसिया ने बताया कि जिला उद्योग केंद्रों के माध्यम से पंजीकृत उद्योगोें में आइटीआइ पास को अप्रेंटिस का मौका देकर उनके अंदर औद्योगिक समझ को बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा। लखनऊ में भी ऐसे युवाओं को औद्याेगिक क्षेत्रों में भेजकर प्रेक्टिकल करने का मौका दिया जाएगा। कोरोना संक्रमण की वजह से अप्रेंटिस के लिए युवा आने से कतरा रहे थे। अब सामान्य स्थिति होने पर आयोजन हो रहा है। लघु, सूक्ष्म, मध्यम व उद्यम प्रोत्साहन विभाग की ओर से एमएसएमई को बढ़ावा देने का प्रयास किया जाएगा। 


निजी उद्योगों पर शिकंजाः सरकार ने सभी जिला उद्योग केंद्रों के माध्यम से संचालित निजी औद्योगिक इकाइयों को भी इसमे शामिल करने की अनिवार्यता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। अभी तक निजी संस्थान अप्रेंटिस को लेकर मनमानी करते थे। एक दिन में वृहद मेला लगने से युवाओं को फायदा होगा और उनके अंदर तकनीक का विकास होगा।