भाजपा सरकार के कार्यकाल में हमने आतंकियों को उनकी मांद में ही घुसकर मारा : सीएम योगी

भाजपा सरकार के कार्यकाल में हमने आतंकियों को उनकी मांद में ही घुसकर मारा : सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को गोंडा को बड़ा तोहफा दिया। सीएम योगी आदित्यनाथ यहां मैजापुर चीनी मिल में 26 हेक्टेयर क्षेत्र में बनने वाले देश के सबसे बड़े एथेनॉट प्लांट का शिलान्यास किया। यह प्लांट मई 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा। यहां पर गन्ने के जूस ब्रोकन राइस से एथेनॉल बनेगा। इससे 60 हजार किसानों को फायदा मिलने के साथ ही 250 लोगों को रोजगार मिलेगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने यहां पर मौजूद किसानों को भी सरकार की प्राथमिकता के साथ ही अब तक के सरकार के कार्य से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि किसानों की ओर कहा कि 2017 से पहले उत्तर प्रदेश में किसान आत्महत्या कर रहा था। अपनी मेहनत से वह अन्न उत्पादन कर रहा था, लेकिन उसके क्रय की कोई व्यवस्था नहीं थी। जनता भूख से मरती थी। किसान अपनी उपज का सही मूल्य न मिलने के कारण आत्महत्या के लिए विवश होता था। प्रदेश में गुंडा गर्दी होती थी। दंगे होते थे। यहां अराजकता व्याप्त थी।

उन्होंने कहा कि 2017 के बाद प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में हमारी सरकार ने प्रदेश की तकदीर व तस्वीर बदलने का काम किया है। आज चीनी मिलों के गन्ना मूल्य का समय से भुगतान की कार्रवाई हो या फिर गेहूं, धान के क्रय केंद्र की स्थापना की बात हो। अकेले गोंडा जिले में 92 हजार क्विंटल से भी अधिक का गेंहूं क्रय हुआ है। इसका भुगतान सीधे किसानों के खाते में किया गया है। किसान की उपज को न्यूनतम समर्थन मूल्य से जोड़ा जा रहा है। अब तो किसान अपने खेत में गन्ने के साथ ही अन्य खेती कर रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वर्ष 2017 से पहले किसानों की उपज को आढ़ती खरीदते थे। मुनाफा आढ़ती कामता था। किसान ठगा हुआ महसूस करता था। आज हर किसान को न्यूनतम समर्थन योजना का लाभ दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़ जाते थे तो इसका कुछ हिस्सा भारत विरोधी गतिविधियों में कार्य करने वाले लोग मुनाफे के तौर पर ले जाते थे। हमारा ही पैसा हमारे खिलाफ दुरुपयोग किया जाता था। अब स्थितियां बदल गई है। प्रधानमंत्री के कुशल मार्गदर्शन में अब किसान खुशहाली के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गोंडा में एशिया का सबसे बड़ा एथनाल प्लांट यहां पर बनने जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 से पहले उत्तर प्रदेश में ऐसी सरकार थी, जो पर्व व त्योहार में दंगा करवा देती थी। यहां तो सरकार अयोध्या में रामजन्म भूमि पर बड़ा हमला करने वाले कई आतंकियों के मुकदमे को वापस लेती थी। भाजपा की सरकार आने के बाद पर्व व त्योहार शांतिपूर्ण तरीके से उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। पर्व व त्योहार के आगे कोरोना भी मात खा गया। आस्था के आगे कोरोना परास्त हो गया। यह नए उत्तर प्रदेश की तस्वीर है। भाजपा की सरकार में एक भी दंगा नहीं हुआ।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में देश के साथ ही प्रदेश में आंतकवादियों को उनकी मांद में घुस-घुसकर मारा गया। पिछली सरकार में आतंकवादियों के मुकदमे को वापस लिया जाता था। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो दंगाई है, जिन्ना के अनुयायी है वह गन्ने की मिठास को क्या समझ पाएंगे। पहले भाई भतीजावाद के नाम पर काम होते थे। अपने पराये के नाम पर काम किया जाता था। अब स्थितियां बदल गई है। प्रदेश सरकार आज हर गरीब के कल्याण के लिए काम कर रही है। आवास दे रही है, खाद्यान्न दे रही है। कल्याण पर फोकस कर रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गरीबों को पहले योजनाओं का लाभ नहीं मिलता था। वर्ष 2017 से पहले सारा राशन सैफई चला जाता था। अब सरकार बदली तो हर किसी को सुविधाएं मिलने लगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सपा की सरकार थी। वह जब गोखपुर के सांसद थे। उस वक्त कुशीनगर में भूख से मौत हुई थी। वह मौके पर गए, जब पता किया तो जानकारी हुई कि उनका कार्ड सपा के किसी पदाधिकारी के पास था। वह गरीबों का राशन लेता था। सोनभद्र, चित्रकूट में भूख से मौत हुई थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 के बाद से प्रदेश में न तो कोई दंगा हुआ, न ही किसान ने आत्महत्या की। न ही भूख से किसी की मौत हुई। 


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।