इस तकनीक से साइबर क्राइम रोकेगी यूपी पुलिस जाने कैसे

इस तकनीक से साइबर क्राइम रोकेगी यूपी पुलिस जाने कैसे

देशभर में लगातार बढ़ते साइबर क्राइम के मामलों से लोग परेशान हैं आए दिन हमारे आसपास के कई लोग साइबर अपराध के शिकार बन रहे हैं हालांकि अब उत्तर प्रदेश पुलिस ने साइबर अपराध पर नकेल कसने के लिए आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) की सहायता से एक ऐसा टूल तैयार किया है, जिससे न केवल साइबर अपराधों को रोकने में सहायता मिलेगी, बल्कि ऐसे अपराधियों को भी पकड़ा जा सकेगा

दरअसल यूपी पुलिस (UTTAR PRADESH POLICE) और आईआईटी कानपुर (IIT KANPUR) के बीच एक समझौता ज्ञापन (MOU) साइन हुआ था इसके अनुसार उत्तर प्रदेश पुलिस ने आईआईटी के वैज्ञानिकों से एक ऐसा टूल तैयार करने के लिए बोला था, जिसके जरिये साइबर अपराध पर नकेल कसी जा सके इसके बाद आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा टूल सिस्टम तैयार किया है, जिससे साइबर अपराध रोकने और अपराधियों को दबोचने में काफी सहायता मिलेगी

2 वर्ष में तैयार हुआ यह टूल
आईआईटी कानपुर के प्रोफ़ेसर मणीन्द्र अग्रवाल की देखरेख में वैज्ञानिकों की टीम ने 2 वर्ष की कड़ी मेहनत के बाद इस टूल को विकसित किया है इस टूल सिस्टम की सहायता से लोगों को यह पता चल जाएगा कि उनके पास बैंक के नाम से आने वाले मैसेज, टेलीफोन कॉल, ईमेल और फ्री ऑफर कहां से आ रहे हैं और किस माध्यम से उनका उपयोग हो रहा है इससे साइबर अपराधियों को पकड़ने में पुलिस को सहायता मिलेगी

डिजिटल लेंन-देंन में होने वाले अपराध को भी रोकेगा
यह टूल आजकल उपयोग होने वाली डिजिटल लेनदेन पर भी नजर रखेगा इतना ही नहीं डिजिटल लेंन-देंन के नाम पर होने वाले साइबर अपराध को रोकने में भी यह टूल कारगर साबित होगा आईआईटी के जानकारों ने इसमें एडवांस टेक्नोलॉजी का उपयोग कर साइबर सुरक्षा को लेकर सारे सफल प्रयोग किए हैं इस टूल सिस्टम में उन सारे बैरियर को समाप्त किया गया है, जो साइबर अपराध में पुलिस के सामने चुनौती बनते थे