'राजधानी' के लिए रेल मंत्री से बात करेंगे सीएम योगी

'राजधानी' के लिए रेल मंत्री से बात करेंगे सीएम योगी

पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्यालय और विश्व के सबसे बड़े प्लेटफार्म वाले शहर गोरखपुर से राजधानी ट्रेन के गुजरने के लिए प्रयास का सिलसिला अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंच गया है। जागरण से बातचीत में मुख्यमंत्री ने इसे लेकर रेल मंत्री से चर्चा करने का आश्वासन दिया है। सोमवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि इसे लेकर वह पहले भी प्रयास कर चुके हैं। इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए वह रेलमंत्री से एक बार फिर चर्चा करेंगे। उनकी पूरी कोशिश होगी कि राजधानी ट्रेन गोरखपुर से होकर भी गुजरे।

इन्‍होंने भी की है राजधानी की मांग

इससे पहले राज्यसभा सदस्य जयप्रकाश निषाद भी रेलमंत्री अश्वनी वैष्णव से मिलकर गोरखपुर के लिए राजधानी ट्रेन की मांग कर चुके हैं। सांसद रवि किशन, कमलेश पासवान और पूर्व केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री शिवप्रताप शुक्ल ने इसे लेकर रेलमंत्री को पत्र लिखा है। गोरखपुर के सभी विधायक इसे लेकर पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक से मिलने की तैयारी में हैं। इसके अलावा अन्‍य राजनीत‍िक दलों के पदाध‍िकारी, रेल संगठनों के पदाध‍िकारी, गोरखपुर के उद्योगपत‍ि और व्‍यापारी भी गोरखपुर से राजधानी चलाने की मांग कर चुके हैं।


मुख्यमंत्री का आशीर्वाद लेकर लखनऊ गए कैफुलवरा

राज्य उर्दू अकादमी के नव नियुक्त अध्यक्ष चौधरी कैफुलवरा ने सोमवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर आशीर्वाद लिया। उसके बाद कार्यभार ग्रहण करने के लिए लखनऊ रवाना हो गए। वह मंगलवार को कार्यभार ग्रहण करेंगे। मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने उन्हें नए उत्तरदायित्व के लिए बधाई और शुभकामनाएं दीं। कहा कि उर्दू साहित्य और भाषा की समृद्धि की दिशा में काम करने के लिए योजना बनाएं और उसपर पूरी निष्ठा के साथ कार्य करें। सभी को साथ लेकर चलें और कोई भी समस्या हो तो जरूर बताएं।

 
मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने कैफुलवरा का वहां पहले से मौजूद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह से परिचय भी कराया। कैफुलवरा ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके इस निर्णय से पूरे समाज में हर्ष की लहर है। इसे लेकर उन्हें प्रदेशभर से बधाई मिल रही है। इस दौरान चौधरी जैद, चौधरी रजीउद्दीन, चौधरी उम्मेद, चौधरी अनस, चौधरी मोइनुद्दीन, चौधरी बेलाल व डा. मनी सारस्वत मौजूद रहे।


यूपी के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला

यूपी के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला

युवाओं को अधिक से अधिक नौकरी देने की सरकार की मंशा के सापेक्ष एक और बड़ा कदम उठाया जा रहा है। औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में आइटीआइ की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के कौशल को निखारने के लिए चार अक्टूबर को वृहद अप्रेंटिसशिप मेला लगेगा। लखनऊ समेत सूबे के सभी जिलों में लगने वाले मेले के माध्यम से एक दिन में दो लाख युवाओं को अप्रेंटिसशिप देने का लक्ष्य रखा गया है। इसके आयोजन के लिए जिले के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के प्रधानाचार्य को नोडल अधिकारी बनाया गया है। संयुक्त निदेशक व्यावसायिक शिक्षा एससी तिवारी ने बताया कि लखनऊ समेत सूबे की सभी 305 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों और 2969 निजी संस्थानों के विद्यार्थियों को अप्रेंटिस के इस मेेले में शामिल करने की व्यवस्था करने के निदेश दिए गए हैं। कौशल विकास विभाग के जिला प्रबंधकों को भी इस वृहद मेले से जोड़ा जाएगा। 


औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने का प्रयासः उपायुक्त उद्योग मनोज चौरसिया ने बताया कि जिला उद्योग केंद्रों के माध्यम से पंजीकृत उद्योगोें में आइटीआइ पास को अप्रेंटिस का मौका देकर उनके अंदर औद्योगिक समझ को बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा। लखनऊ में भी ऐसे युवाओं को औद्याेगिक क्षेत्रों में भेजकर प्रेक्टिकल करने का मौका दिया जाएगा। कोरोना संक्रमण की वजह से अप्रेंटिस के लिए युवा आने से कतरा रहे थे। अब सामान्य स्थिति होने पर आयोजन हो रहा है। लघु, सूक्ष्म, मध्यम व उद्यम प्रोत्साहन विभाग की ओर से एमएसएमई को बढ़ावा देने का प्रयास किया जाएगा। 


निजी उद्योगों पर शिकंजाः सरकार ने सभी जिला उद्योग केंद्रों के माध्यम से संचालित निजी औद्योगिक इकाइयों को भी इसमे शामिल करने की अनिवार्यता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। अभी तक निजी संस्थान अप्रेंटिस को लेकर मनमानी करते थे। एक दिन में वृहद मेला लगने से युवाओं को फायदा होगा और उनके अंदर तकनीक का विकास होगा।